बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, August 10, 2017

सहायक


   संवाददाता जेकब रीस द्वारा 19वीं शताब्दी में न्यू यॉर्क शहर की गरीबी के विवरण और चित्रण ने सामान्यतः बेपरवाह समाज को झकझोर दिया। अपनी पुस्तक How The Other Half Lives में रीस ने अपने लेखन को अपने द्वारा ली गई तस्वीरों के साथ प्रस्तुत किया, और यह इतना सजीव था कि जनता गरीबी के हताशापूर्ण अस्तित्व से इन्कार नहीं कर सकी। रीस अपने माता-पिता के पंद्रह बच्चों में से तीसरी सन्तान था, और उस भयावह हताशाजनक माहौल में रहा था, इसीलिए वह इतने प्रभावी ढ़ंग से लिखने पाया।

   अपनी पुस्तक के प्रकाशन के थोड़े ही समय के पश्चात रीस को एक जवान व्यक्ति द्वारा, जो अपने राजनैतिक जीवन का आरंभ कर रहा था, भेजा गया एक कार्ड मिला। उस कार्ड में बस इतना लिखा था, "मैंने आपकी पुस्तक पढ़ी है, और मैं सहायता करने के लिए आया हूँ। - थियोडर रूज़वेल्ट"। आगे चलकर यह राजनितिज्ञ अमेरिका का राष्ट्रपति बना।

   सच्चा विश्वास, परमेश्वर के वचन बाइबल में याकूब 1:19-27 के अनुसार औरों की आवश्यकता के प्रति संवेदनशील होता है और उनका प्रत्युत्तर देता है। काश कि हमारे हृदय भी निष्क्रियता से सक्रीयता की ओर मुड़ें; हम केवल कहे गए शब्दों से निकल कर किए गए कार्यों द्वारा सहायता प्रदर्शित करें। अनुकंपा के साथ किया गया कार्य न केवल उनकी सहायता करता है जो जीवन की कठिनाईयों में फंसे हैं, वरन उनके हृदयों को हमारे महान उद्धारकर्ता के सुसमाचार के लिए खोलता और तैयार भी करता है। उन्हें उस महान सहायक प्रभु परमेश्वर के संपर्क में लाता है जो उनके लिए और भी कहीं अधिक कर सकता है। - रैंडी किलगोर


जब लोग हमारे जीवनों में "परमेश्वर प्रेम है" को कार्यान्वित होता देखेंगे,
 तो वे इसके अर्थ को समझ भी सकेंगे।

क्योंकि परमेश्वर के यहां व्यवस्था के सुनने वाले धर्मी नहीं, पर व्यवस्था पर चलने वाले धर्मी ठहराए जाएंगे। - रोमियों 2:13

बाइबल पाठ: याकूब 1:19-27
James 1:19 हे मेरे प्रिय भाइयो, यह बात तुम जानते हो: इसलिये हर एक मनुष्य सुनने के लिये तत्‍पर और बोलने में धीरा और क्रोध में धीमा हो। 
James 1:20 क्योंकि मनुष्य का क्रोध परमेश्वर के धर्म का निर्वाह नहीं कर सकता है। 
James 1:21 इसलिये सारी मलिनता और बैर भाव की बढ़ती को दूर कर के, उस वचन को नम्रता से ग्रहण कर लो, जो हृदय में बोया गया और जो तुम्हारे प्राणों का उद्धार कर सकता है। 
James 1:22 परन्तु वचन पर चलने वाले बनो, और केवल सुनने वाले ही नहीं जो अपने आप को धोखा देते हैं। 
James 1:23 क्योंकि जो कोई वचन का सुनने वाला हो, और उस पर चलने वाला न हो, तो वह उस मनुष्य के समान है जो अपना स्‍वाभाविक मुंह दर्पण में देखता है। 
James 1:24 इसलिये कि वह अपने आप को देख कर चला जाता, और तुरन्त भूल जाता है कि मैं कैसा था। 
James 1:25 पर जो व्यक्ति स्‍वतंत्रता की सिद्ध व्यवस्था पर ध्यान करता रहता है, वह अपने काम में इसलिये आशीष पाएगा कि सुनकर नहीं, पर वैसा ही काम करता है। 
James 1:26 यदि कोई अपने आप को भक्त समझे, और अपनी जीभ पर लगाम न दे, पर अपने हृदय को धोखा दे, तो उस की भक्ति व्यर्थ है। 
James 1:27 हमारे परमेश्वर और पिता के निकट शुद्ध और निर्मल भक्ति यह है, कि अनाथों और विधवाओं के क्‍लेश में उन की सुधि लें, और अपने आप को संसार से निष्‍कलंक रखें।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 79-80
  • रोमियों 11:1-18