बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, March 29, 2018

कुचला हुआ



   यदि आप गलील की झील के किनारे बसे हुए कफरनहूम शहर जाएँ तो वहाँ आपको नुमाइश के लिए रखे गए, जैतून को दबा कर तेल निकालने वाले प्राचीन कोल्हू देखने को मिलेंगे। ये कोल्हू वहाँ के पत्थर से बने हैं, इनके दो भाग होते हैं: एक आधार और दूसरा एक पहिया या चाक। आधार चौड़ा, गोलाकार होता है और उसमें चाक के चलने के लिए एक नांद बनी होती है। जैतून के बीजों को इस नांद में डालकर उनके ऊपर पत्थर की वह भारी चाक घुमाई जाती थी, जिससे कुचल कर जैतून के बीजों से तेल बाहर आ जाता था।

   अपने मारे जाने से पूर्व की रात को प्रभु यीशु जैतून के पहाड़ पर गए, जहाँ से यरुशलेम शहर दिखाई देता था, और वहाँ गतसमानी के बाग़ में, उन्होंने टूट कर परमेश्वर पिता से प्रार्थना की, यह जानते हुए कि उनके आगे क्या अनुभव रखा है।

   गतसमनी शब्द का अर्थ है “जैतून का कोल्हू” – और यह प्रभु यीशु मसीह के हमारे उद्धार के लिए दिए गए बलिदान के उस आरंभिक समय को भली-भांति दिखाता है – कैसे वह हमारे लिए कुचला गया। उस बाग़ में “वह अत्यन्‍त संकट में व्याकुल हो कर और भी हृदय वेदना से प्रार्थना करने लगा; और उसका पसीना मानो लोहू की बड़ी बड़ी बून्‍दों के समान भूमि पर गिर रहा था” (लूका 22:44)।

   प्रभु यीशु ने सारे सँसार के सभी लोगों के पापों के लिए लिए यातनाएं सहीं और बलिदान हुए (यूहन्ना 1:29), जिससे परमेश्वर पिता के साथ हमारा समबन्ध पुनःस्थापित हो जाए “निश्चय उसने हमारे रोगों को सह लिया और हमारे ही दु:खों को उठा लिया; तौभी हम ने उसे परमेश्वर का मारा-कूटा और दुर्दशा में पड़ा हुआ समझा। परन्तु वह हमारे ही अपराधो के कारण घायल किया गया, वह हमारे अधर्म के कामों के हेतु कुचला गया; हमारी ही शान्ति के लिये उस पर ताड़ना पड़ी कि उसके कोड़े खाने से हम चंगे हो जाएं” (यशायाह 53:4-5)।

   हमारे लिए अपनी आप को कुचले जाने के लिए दे देने वाले उस जगत के उद्धारकर्ता के प्रति हमारे मन आराधना और कृतज्ञता से भरे हुए हैं। - बिल क्राउडर


मेरे पाप सब मिट गए, अब मैं स्वतंत्र हूँ – 
यह सब केवल इसलिए क्योंकि यीशु मेरे बदले घायल हुए। - डब्ल्यू. जी. ओवेंस

दूसरे दिन उसने यीशु को अपनी ओर आते देखकर कहा, देखो, यह परमेश्वर का मेम्ना है, जो जगत के पाप उठा ले जाता है। - यूहन्ना 1:29

बाइबल पाठ: मरकुस 14:32-39
Mark 14:32 फिर वे गतसमने नाम एक जगह में आए, और उसने अपने चेलों से कहा, यहां बैठे रहो, जब तक मैं प्रार्थना करूं।
Mark 14:33 और वह पतरस और याकूब और यूहन्ना को अपने साथ ले गया: और बहुत ही अधीर, और व्याकुल होने लगा।
Mark 14:34 और उन से कहा; मेरा मन बहुत उदास है, यहां तक कि मैं मरने पर हूं: तुम यहां ठहरो, और जागते रहो।
Mark 14:35 और वह थोड़ा आगे बढ़ा, और भूमि पर गिरकर प्रार्थना करने लगा, कि यदि हो सके तो यह घड़ी मुझ पर से टल जाए।
Mark 14:36 और कहा, हे अब्‍बा, हे पिता, तुझ से सब कुछ हो सकता है; इस कटोरे को मेरे पास से हटा ले: तौभी जैसा मैं चाहता हूं वैसा नहीं, पर जो तू चाहता है वही हो।
Mark 14:37 फिर वह आया, और उन्हें सोते पाकर पतरस से कहा; हे शमौन तू सो रहा है? क्या तू एक घड़ी भी न जाग सका?
Mark 14:38 जागते और प्रार्थना करते रहो कि तुम परीक्षा में न पड़ो: आत्मा तो तैयार है, पर शरीर दुर्बल है।
Mark 14:39 और वह फिर चला गया, और वही बात कहकर प्रार्थना की।


एक साल में बाइबल: 
  • न्यायियों 7-8
  • लूका 5:1-16