बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, June 3, 2019

भरोसा



      मेरी सहेली ने रोते हुए कहा, “मैं किसी पर भरोसा कर ही नहीं सकती हूँ; जब भी करती हूं वे मुझे दुःख देते हैं।” उसके इस कटु अनुभव से मैं विचलित हुई – मेरी सहेली का पूर्व बॉय-फ्रेंड, जिसके विषय वह सोचती थी कि वह उसपर पूर्णतः भरोसा कर सकती है, उनके बीच के संबंधों के टूटने के पश्चात, उसके बारे में अफवाहें फैलाने लग गया था। मेरी सहेली का बचपन बहुत दुःख भरा रहा था, और उसने बड़े संघर्ष के साथ भरोसा करना सीखा था। परंतु यह धोखा उसके लिए एक और पुष्टि थी कि लोगों पर भरोसा नहीं किया जा सकता था।

      मैं उसे सांत्वना देने के लिए शब्दों को ढूँढने का संघर्ष कर रही थी। एक बात जो मैं उस से नहीं कहा सकती थी, वह थी कि लोगों के प्रति उसकी यह धारणा गलत थी कि पूर्णतः भरोसेमंद लोगों का मिलना कठिन और दुर्लभ है। मैं जानती और मानती हूँ कि अधिकांश व्यक्ति दयालु और भरोसेमंद होते हैं। उसके अनुभवों की कहानी दुखदायी और परिचित थी; उससे मुझे भी अपने जीवन के ऐसे अनपेक्षित धोखों का स्मरण हो आया। जो मैं उससे कह सकी वह था कि इस प्रकार की निर्ममता जीवन की कहानी का एक भाग ही है।

      वास्तव में, परमेश्वर का वचन बाइबल मानव स्वभाव के विषय बहुत स्पष्ट है। नीतिवचन 20:6 में लेखक उसी दुःख की बात करता है जो मेरी सहेली को था; धोखे के दुःख को सदा की स्मृति बताता है।

      यद्यपि औरों से मिलने वाले घाव वास्तविक और दुखदायी होते हैं, फिर भी प्रभु यीशु मसीह में सच्चा प्रेम और स्थाई भरोसा सारे सँसार के सब लोगों के लिए उपलब्ध है। प्रभु यीशु ने यूहन्ना 13:35 में अपने शिष्यों से कहा कि सँसार के लोग, उन शिष्यों द्वारा दिखाए गए व्यावाहरिक प्रेम के द्वारा ही जानने पाएँगे कि वे प्रभु यीशु के शिष्य थे। यह संभव है कि कुछ लोग हमें दुःख पहुँचाएँ; परन्तु प्रभु यीशु मसीह के कारण सदा ही ऐसे लोग भी होंगे जो हमारे साथ खुलकर प्रेम को बाँटेंगे, और बिना किसी शर्त के हमारा साथ देंगे, हमारी देखभाल करेंगे। प्रभु में हमारा भरोसा, तथा हमारे प्रति प्रभु का अक्षय प्रेम हमें चंगाई, संगति, और दूसरों के साथ प्रेम करने का साहस प्रदान करता है, तथा हम प्रभु का वही भरोसा औरों तक भी पहुँचा सकते हैं। - मोनिका ब्रैंड्स


प्रभु यीशु ने सच्चे भरोसे और प्रेम को संभव किया है।

बहुत से मनुष्य अपनी कृपा का प्रचार करते हैं; परन्तु सच्चा पुरूष कौन पा सकता है? - नीतिवचन 20:6

बाइबल पाठ: यूहन्ना 13:33-35
John 13:33 हे बालको, मैं और थोड़ी देर तुम्हारे पास हूं: फिर तुम मुझे ढूंढोगे, और जैसा मैं ने यहूदियों से कहा, कि जहां मैं जाता हूं, वहां तुम नहीं आ सकते वैसा ही मैं अब तुम से भी कहता हूं।
John 13:34 मैं तुम्हें एक नई आज्ञा देता हूं, कि एक दूसरे से प्रेम रखो: जैसा मैं ने तुम से प्रेम रखा है, वैसा ही तुम भी एक दुसरे से प्रेम रखो।
John 13:35 यदि आपस में प्रेम रखोगे तो इसी से सब जानेंगे, कि तुम मेरे चेले हो।

एक साल में बाइबल:  
  • 2 इतिहास 19-20
  • यूहन्ना 13:21-38