बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, September 17, 2019

परिवर्तन



      मैं मेरी से प्रति मंगलवार मिलती थी, जब मैं “द हाउस” जाया करती थी; जो ऐसा स्थान था जहाँ पूर्व कैदियों की समाज से फिर से जुड़ने में सहायता की जाती थी। मेरा जीवन मेरी के जीवन से भिन्न दिखाई देता था। वह हाल ही में जेल से निकल कर आई थी, नशे की लत से जूझ रही थी, अपने बेटे से अलग थी। आप कह सकते हैं कि वह समाज से बाहर होने का जीवन जी रही थी।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में भी हम मेरी के समान एक व्यक्ति, उनेसिमुस, को पाते हैं जिसने संभवतः अपने मसीही स्वामी, फिलेमोन, की कुछ हानि की थी और जेल में डाला गया था। जेल में उसकी मुलाक़ात पौलुस से हुई और उनेसिमुस भी मसीही विश्वासी हो गया (पद 10)। यद्यपि उनेसुमुस में अब मसीही विश्वास में आने के पश्चात परिवर्तन आ गया था, किन्तु वह अभी भी दास था। पौलुस ने उसे उसके स्वामी फिलेमोन के पास वापस भेजा, और साथ में एक पत्र भी भेजा, जिसमें पौलुस ने फिलेमोन से निवेदन किया कि वह उनेसिमुस के साथ “अब से दास के समान नहीं, वरन दास से भी उत्तम, अर्थात भाई के समान रहे” (फिलेमोन 1:16)।

      अब फिलेमोन को एक चुनाव करना था; वह उनेसिमुस से दास के समान बर्ताव करता रह सकता था, या मसीह में विश्वासी भाई के समान उसका स्वागत कर सकता था। मेरे सामने भी मेरी को लेकर ऐसा ही चुनाव था; मैं मेरी को एक पूर्व कैदी और नशे की लत से जूझती हुई एक स्त्री के रूप में देख सकती थी, या फिर एक ऐसी स्त्री के रूप में जिसके जीवन में मसीह यीशु की सामर्थ्य से परिवर्तन आया था। मेरी, प्रभु यीशु में विश्वास के द्वारा, अब मेरी विश्वासी बहन थी, और हम दोनों को यह सौभाग्य प्राप्त हुआ था कि मसीही विश्वास के अपने जीवनों में एक-दूसरे के तथा प्रभु के साथ चल सकें।

      बहुत सरल होता है कि सामाजिक और आर्थिक स्तर, वर्ग, या साँस्कृतिक भिन्नताओं के द्वारा परस्पर एक-दूसरे से पृथक होकर रहें। परन्तु प्रभु यीशु मसीह का सुसमाचार इन पृथक करने वाली दीवारों को ढा देता है, हमारे जीवनों और संबंधों में सदा के लिए परिवर्तन ले आता है। - कैरेन वुल्फ

प्रभु यीशु का सुसमाचार जीवनों में परिवर्तन लाता है।

सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्‍टि है: पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गईं। - 2 कुरिन्थियों 5:17

बाइबल पाठ: फिलेमोन 1:8-16
Philemon 1:8 इसलिये यद्यपि मुझे मसीह में बड़ा हियाव तो है, कि जो बात ठीक है, उस की आज्ञा तुझे दूं।
Philemon 1:9 तौभी मुझ बूढ़े पौलुस को जो अब मसीह यीशु के लिये कैदी हूं, यह और भी भला जान पड़ा कि प्रेम से बिनती करूं।
Philemon 1:10 मैं अपने बच्‍चे उनेसिमुस के लिये जो मुझ से मेरी कैद में जन्मा है तुझ से बिनती करता हूं।
Philemon 1:11 वह तो पहिले तेरे कुछ काम का न था, पर अब तेरे और मेरे दोनों के बड़े काम का है।
Philemon 1:12 उसी को अर्थात जो मेरे हृदय का टुकड़ा है, मैं ने उसे तेरे पास लौटा दिया है।
Philemon 1:13 उसे मैं अपने ही पास रखना चाहता था कि तेरी ओर से इस कैद में जो सुसमाचार के कारण है, मेरी सेवा करे।
Philemon 1:14 पर मैं ने तेरी इच्छा बिना कुछ भी करना न चाहा कि तेरी यह कृपा दबाव से नहीं पर आनन्द से हो।
Philemon 1:15 क्योंकि क्या जाने वह तुझ से कुछ दिन तक के लिये इसी कारण अलग हुआ कि सदैव तेरे निकट रहे।
Philemon 1:16 परन्तु अब से दास के समान नहीं, वरन दास से भी उत्तम, अर्थात भाई के समान रहे जो शरीर में भी और विशेष कर प्रभु में भी मेरा प्रिय हो।

एक साल में बाइबल: 
  • नीतिवचन 27-29
  • 2 कुरिन्थियों 10