बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, September 17, 2012

प्रोत्साहन


   मैं अपने पोते के आठवीं कक्षा के फुटबाल खेल को देखने गया हुआ था। खेल के समय रेफरी ने पेनल्टी की सूचना दी और खेल को रोका। खेलने वालों ने कुछ गलती करी थी और रेफरी को उसके लिए खेल रोकना पड़ा। खेल का आंखों देखा हाल वर्णन करने वाले ने घोषणा करी, ’खेल मैदान पर पेनलटी दिए जाने का समय है और गलती करने वाले इसके भागी हैं।" मैंने मन में सोचा, आज ऐसे ही कई चर्चों में भी उनकी गतिविधियां रोक कर उन्हें सुधारे जाने की आवश्यक्ता है।

   ऐसा नहीं है कि चर्च की अगुवाई करने वाले पास्टर सिद्ध होते हैं, उन से कोई गलती नहीं होती। यदि हम ऐसे किसी चर्च की तलाश में हैं तो वह कहीं नहीं मिलेगा। परमेश्वर की बुलाहट है कि हम अपने आत्मिक जीवन के अगुवों का आदर करें, विशेषकर उनका जो हमें वचन सुनाने और सिखाने में परिश्रम करते हैं (१ तिमुथियुस १:५)। मेरे विचार से इस संसार का सबसे कठिन काम पास्टर का काम है। हम एक जटिल, द्रुत गति से चलने वाले और कृत्रिमता से भरे संसार में रहते हैं, और पास्टरों के लिए हमारी अपेक्षाएं भी बहुत ऊँची तथा असंभव होती हैं; जो हम अपने जीवन में सोच नहीं सकते उसे पास्टर के जीवन में देखना चाहते हैं।

   इसलिए हमें एक परिवर्तन लाने की आवश्यक्ता है। केवल पास्टरों से ऊँची ऊँची उम्मीदें रखने की बजाए, हम स्वयं ही उच्च स्तर के चर्च सदस्य क्यों ना बन जाएं और अपने पास्टरों का धन्यवाद और प्रोत्साहन के शब्दों द्वारा आदर करना आरंभ कर दें। हमारा थोड़ा सा प्रयास हमारे पास्टरों को आनन्द और उत्साह के साथ हमारे बीच में सेवकाई करने के लिए उत्तेजित करेगा, उन से होने वाली गलतियां भी कम हो जाएंगीं और हम भी उनकी सेवकाई से और अधिक लाभान्वित हो सकेंगे। प्रत्येक सदस्य द्वारा व्यक्तिगत रवैये में किए गए सुधार का एक छोटा सा प्रयास समस्त मण्डली में बड़े प्रतिफल लाएगा। - जो स्टोवैल


अपने पास्टर के केवल आलोचक ही मत बनें, वरन साथ ही उनके सहपरिश्रमी और उन्हें प्रोत्साहित करने वाले भी बनें।

जो प्राचीन अच्‍छा प्रबन्‍ध करते हैं, विशेष करके वे जो वचन सुनाने और सिखाने में परिश्रम करते हैं, दो गुने आदर के योग्य समझे जाएं। - १ तिमुथियुस ५:१७

बाइबल पाठ: १ तिमुथियुस ५:१७-२५
1Ti 5:17 जो प्राचीन अच्‍छा प्रबन्‍ध करते हैं, विशेष करके वे जो वचन सुनाने और सिखाने में परिश्रम करते हैं, दो गुने आदर के योग्य समझे जाएं। 
1Ti 5:18 क्‍योंकि पवित्र शास्‍त्र कहता है, कि दांवने वाले बैल का मुंह न बान्‍धना, क्‍योंकि मजदूर अपनी मजदूरी का हकदार है। 
1Ti 5:19  कोई दोष किसी प्राचीन पर लगाया जाए तो बिना दो या तीन गवाहों के उस को न सुन। 
1Ti 5:20  पाप करने वालों को सब के साम्हने समझा दे, ताकि और लोग भी डरें। 
1Ti 5:21 परमेश्वर, और मसीह यीशु, और चुने हुए स्‍वर्गदूतों को उपस्थित जानकर मैं तुझे चितौनी देता हूं कि तू मन खोलकर इन बातों को माना कर, और कोई काम पक्षपात से न कर। 
1Ti 5:22  किसी पर शीघ्र हाथ न रखना और दूसरों के पापों में भागी न होना: अपने आप को पवित्र बनाए रख। 
1Ti 5:23  भविष्य में केवल जल ही का पीने वाला न रह, पर अपने पेट के और अपने बार बार बीमार होने के कारण थोड़ा थोड़ा दाखरस भी काम में लाया कर। 
1Ti 5:24  कितने मनुष्यों के पाप प्रगट हो जाते हैं, और न्याय के लिये पहिले से पहुंच जाते हैं, पर कितनों के पीछे से आते हैं। 
1Ti 5:25  वैसे ही कितने भले काम भी प्रगट होते हैं, और जो ऐसे नहीं होते, वे भी छिप नहीं सकते।

एक साल में बाइबल: 
  • नीतिवचन २७-२९ 
  • २ कुरिन्थियों १०