बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, November 24, 2014

सर्वोत्तम


   हम एक बहुत आकर्षक स्थान पर किराए के मकान में दस वर्ष से रह रहे थे कि अचानक ही हमारे मकान मालिक को वह घर बेचना पड़ गया। हम ने परमेश्वर से प्रार्थना करी कि वह परिस्थितियों में परिवर्तन कर दे और हमें उस स्थान पर ही रह लेने दे जिसे हमने अपना घर बनाया था, जहाँ हमारे बच्चे बड़े हुए। परन्तु परमेश्वर ने हमारी प्रार्थना का उत्तर ’नहीं’ में दिया।

   जब मेरी आवश्यकताओं की बात आती है तो मुझे लगता है कि कहीं मैं प्रार्थना में परमेश्वर से कोई अनुचित चीज़ तो नहीं माँग रहा, या कहीं जो मैं माँग रहा हूँ मैं उसके अयोग्य तो नहीं हूँ। लेकिन परमेश्वर के इनकार से परमेश्वर में हमारा विश्वास हिलना नहीं चाहिए क्योंकि हम सर्वदा उसके प्रेम में बने रहते हैं। परमेश्वर के वचन बाइबल में इफिसुस की मण्डली को लिखे अपने पत्र में प्रेरित पौलुस ने लिखा कि जो प्रभु यीशु को निकटता से जानते हैं वे यह भी जानते हैं कि परमेश्वर के इनकार के पीछे भी कोई प्रेम भरा भला कारण ही है (इफिसियों 3:16-17)।

   परमेश्वर से ’नहीं’ सुनने के कुछ ही दिनों के बाद हमारे चर्च के कुछ मित्रों ने हमें एक अन्य घर किराए पर लेने का प्रस्ताव किया क्योंकि वे उसे खाली कर रहे थे। हमने यह प्रस्ताव सहर्ष स्वीकार कर लिया; अब हमारे पास रहने का एक नया स्थान था जिसमें सब कुछ नया किया गया था - नए उपकरण, पानी की नई व्यवस्था, बिजली के नए तार और हमारे पुराने घर से एक अधिक शयनकक्ष। इतना ही नहीं, हमारा यह नया घर समुद्र के किनारे है और वहाँ से आते-जाते पानी के जहाज़ों और नौकाएं दिखती रहती हैं तथा समुद्र तट की मनोरम ध्वनियाँ सुनाई देती रहती हैं। यह सब कुछ हमें स्मरण दिलाता है कि हमारा परमेश्वर हमारी हर परिस्थिति से बड़ा है, हर बात में हमारी भलाई ही चाहता है। उसने ही अपने महान प्रेम में होकर हमारे लिए यह निर्धारित किया कि हमारे प्रेमी मित्र हमें कुछ ऐसा उपलब्ध कराएं जो हमारे माँगने और सोचने से भी कहीं बढ़कर था (इफिसियों 3:20)।

   चाहे परमेश्वर हमारी कलपनाओं से भी अधिक हमें प्रदान करे या हमारी इच्छाओं से कहीं कम हमें दे, हम मसीही विश्वासी एक बात का सदा विश्वास रख सकते हैं - हमारे लिए उसकी योजनाएं सर्वोत्तम योजनाएं हैं, वह जो देगा सदा सर्वोत्तम ही देगा। - रैंडी किलगोर


जब परमेश्वर किसी प्रार्थना के लिए इनकार करे तो विश्वास रखें कि वह हमारे भले के लिए ही है।

और परमेश्वर सब प्रकार का अनुग्रह तुम्हें बहुतायत से दे सकता है जिस से हर बात में और हर समय, सब कुछ, जो तुम्हें आवश्यक हो, तुम्हारे पास रहे, और हर एक भले काम के लिये तुम्हारे पास बहुत कुछ हो। - 2 कुरिन्थियों 9:8 

बाइबल पाठ: इफिसियों 3:14-21
Ephesians 3:14 मैं इसी कारण उस पिता के साम्हने घुटने टेकता हूं, 
Ephesians 3:15 जिस से स्वर्ग और पृथ्वी पर, हर एक घराने का नाम रखा जाता है। 
Ephesians 3:16 कि वह अपनी महिमा के धन के अनुसार तुम्हें यह दान दे, कि तुम उसके आत्मा से अपने भीतरी मनुष्यत्‍व में सामर्थ पाकर बलवन्‍त होते जाओ। 
Ephesians 3:17 और विश्वास के द्वारा मसीह तुम्हारे हृदय में बसे कि तुम प्रेम में जड़ पकड़ कर और नेव डाल कर। 
Ephesians 3:18 सब पवित्र लोगों के साथ भली भांति समझने की शक्ति पाओ; कि उसकी चौड़ाई, और लम्बाई, और ऊंचाई, और गहराई कितनी है। 
Ephesians 3:19 और मसीह के उस प्रेम को जान सको जो ज्ञान से परे है, कि तुम परमेश्वर की सारी भरपूरी तक परिपूर्ण हो जाओ।
Ephesians 3:20 अब जो ऐसा सामर्थी है, कि हमारी बिनती और समझ से कहीं अधिक काम कर सकता है, उस सामर्थ के अनुसार जो हम में कार्य करता है, 
Ephesians 3:21 कलीसिया में, और मसीह यीशु में, उस की महिमा पीढ़ी से पीढ़ी तक युगानुयुग होती रहे। आमीन।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 कुरिन्थियों 5-8