बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, October 16, 2015

चट्टान


   लंदन में जगह जगह कोड पत्थर से बनी विलक्षण मूर्तियाँ और अन्य वस्तुएँ हैं। कोड पत्थर सन 1700 के अन्तिम दशकों में एलिनौर कोड द्वारा अपने पारिवारिक व्यवसाय के लिए बनाया गया एक कृत्रिम पत्थर है जिस पर समय, ऋतु और प्रदूषण का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। यद्यपि यह पत्थर औद्योगिक क्रांति के समय में एक चमत्कार की तरह था, लेकिन 1840 के दशक में एलिनौर की मृत्योप्रांत इसे बनाना क्रमशः बन्द कर दिया गया और उसका स्थान पोर्टलैंड सिमेंट ने ले लिया। इसके बावजूद, आज भी कोड पत्थर से बनी दर्जनों वस्तुएं 150 वर्षों से भी अधिक समय से लंदन के कठोर वातावरण को झेलती हुई सलामत खड़ी हैं।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित पतरस ने प्रभु यीशु को "जीवित पत्थर" कहा है। पतरस ने लिखा, "उसके पास आकर, जिसे मनुष्यों ने तो निकम्मा ठहराया, परन्तु परमेश्वर के निकट चुना हुआ, और बहुमूल्य जीवता पत्थर है। तुम भी आप जीवते पत्थरों की नाईं आत्मिक घर बनते जाते हो, जिस से याजकों का पवित्र समाज बन कर, ऐसे आत्मिक बलिदान चढ़ाओ, जो यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर को ग्राह्य हों" (1 पतरस 2:4-5)। हमारे उद्धार की चट्टान प्रभु यीशु का बलिदान परमेश्वर पिता की नज़रों में बहुमूल्य है। मसीह यीशु वह चिरस्थायी चट्टान है जिसपर परमेश्वर पिता ने हमारे उद्धार को स्थापित किया है; केवल वही हमारे लिए सार्थक जीवन की नींव है: "क्योंकि उस नेव को छोड़ जो पड़ी है, और वह यीशु मसीह है कोई दूसरी नेव नहीं डाल सकता" (1 कुरिन्थियों 3:11)।

   इस पतित संसार में जीवन के कठोर थपेड़ों का सामना हम केवल प्रभु यीशु की सामर्थ के साथ कर सकते हैं। जो जीवन अबदी चट्टान प्रभु यीशु पर खड़े हैं वे संसार के हर प्रहार को सरलता से सह लेंगे, उनमें स्थिर बने रहेंगे। - बिल क्राउडर


यदि हम अबदी चट्टान यीशु पर बने रहें तो हमें किसी से भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है।

इसलिये जो कोई मेरी ये बातें सुनकर उन्हें मानता है वह उस बुद्धिमान मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिसने अपना घर चट्टान पर बनाया। और मेंह बरसा और बाढ़ें आईं, और आन्‍धियां चलीं, और उस घर पर टक्करें लगीं, परन्तु वह नहीं गिरा, क्योंकि उस की नेव चट्टान पर डाली गई थी। परन्तु जो कोई मेरी ये बातें सुनता है और उन पर नहीं चलता वह उस निर्बुद्धि मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिसने अपना घर बालू पर बनाया। और मेंह बरसा, और बाढ़ें आईं, और आन्‍धियां चलीं, और उस घर पर टक्करें लगीं और वह गिरकर सत्यानाश हो गया। - मत्ती 7:24-27

बाइबल पाठ: 1 पतरस 2:1-10
1 Peter 2:1 इसलिये सब प्रकार का बैर भाव और छल और कपट और डाह और बदनामी को दूर करके। 
1 Peter 2:2 नये जन्मे हुए बच्‍चों की नाईं निर्मल आत्मिक दूध की लालसा करो, ताकि उसके द्वारा उद्धार पाने के लिये बढ़ते जाओ। 
1 Peter 2:3 यदि तुम ने प्रभु की कृपा का स्‍वाद चख लिया है। 
1 Peter 2:4 उसके पास आकर, जिसे मनुष्यों ने तो निकम्मा ठहराया, परन्तु परमेश्वर के निकट चुना हुआ, और बहुमूल्य जीवता पत्थर है। 
1 Peter 2:5 तुम भी आप जीवते पत्थरों की नाईं आत्मिक घर बनते जाते हो, जिस से याजकों का पवित्र समाज बन कर, ऐसे आत्मिक बलिदान चढ़ाओ, जो यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर को ग्राह्य हों। 
1 Peter 2:6 इस कारण पवित्र शास्त्र में भी आया है, कि देखो, मैं सिय्योन में कोने के सिरे का चुना हुआ और बहुमूल्य पत्थर धरता हूं: और जो कोई उस पर विश्वास करेगा, वह किसी रीति से लज्ज़ित नहीं होगा। 
1 Peter 2:7 सो तुम्हारे लिये जो विश्वास करते हो, वह तो बहुमूल्य है, पर जो विश्वास नहीं करते उन के लिये जिस पत्थर को राजमिस्त्रीयों ने निकम्मा ठहराया था, वही कोने का सिरा हो गया। 
1 Peter 2:8 और ठेस लगने का पत्थर और ठोकर खाने की चट्टान हो गया है: क्योंकि वे तो वचन को न मान कर ठोकर खाते हैं और इसी के लिये वे ठहराए भी गए थे। 
1 Peter 2:9 पर तुम एक चुना हुआ वंश, और राज-पदधारी याजकों का समाज, और पवित्र लोग, और (परमेश्वर की ) निज प्रजा हो, इसलिये कि जिसने तुम्हें अन्धकार में से अपनी अद्भुत ज्योति में बुलाया है, उसके गुण प्रगट करो। 
1 Peter 2:10 तुम पहिले तो कुछ भी नहीं थे, पर अब परमेश्वर की प्रजा हो: तुम पर दया नहीं हुई थी पर अब तुम पर दया हुई है।

एक साल में बाइबल: 
  • यशायाह 47-49
  • 1 थिस्सलुनीकियों 4