बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, December 19, 2015

मसीहा


   हैण्डल की प्रसिद्ध संगीत रचना "मसीहा" में से मुझे उसके पहले भाग का खण्ड "क्योंकि हमारे लिए एक बालक उत्पन्न हुआ है" बहुत अच्छा लगता है; विशेषकर उसका वह भाग जब उसे गाते हुए संगीत मण्डली एक स्वर में "क्योंकि हमारे लिए एक बालक उत्पन्न हुआ" वाक्याँश पर उच्च स्वर में पहुँचती है। हैण्डल की यह भव्य रचना परमेश्वर के पुत्र प्रभु यीशु की आराधना में संगीत की ऊँचाईयों को छूती है, उस मसीहा के लिए जो हमारे लिए मानव रूप में अवतरित हुआ; और उसके यह दोनों वाक्यांश परमेश्वर के वचन बाइबल के पुराने नियम खण्ड में यशायाह 9:6 से लिए गए हैं।

   परमेश्वर के वचन बाइबल का नया नियम खण्ड हमारे लिए और भी स्पष्ट करता है कि यह बालक कौन है। लूका के प्रथम अध्याय में हम पाते हैं कि स्वर्गदूत ने उस आने वाले मसीहा की पहिचान में चार बातें कहीं: वह मरियम से जन्मेगा, अर्थात पूर्णत्या मनुष्य (लूका 1:31); वह परमप्रधान का पुत्र होगा, अर्थात पूर्णत्या ईश्वरीय (लूका 1:32); वह दाऊद के वंश से होगा, अर्थात राजवंशी (लूका 1:32), और वह परमेश्वर का पुत्र कहलाएगा, अर्थात सब बातों में पिता परमेश्वर के तुल्य (लूका 1:35)। मसीहा होने की सारी आवश्यकताएं उस भविष्यवाणी कर गए बालक के परमेश्वर का देहधारी पुत्र होने के स्वरूप में पूरी होती हैं।

   जब हम इस क्रिसमस के त्योहार के समय में उस बालक के जन्म की खुशियाँ मनाते हैं, तो हमारे सारे समारोह और आनन्द उसकी वास्तविकता को समझने और उसकी भरपूरी को जानने से भर जाएं। हमारे स्वर्गीय पिता ने हमें एक सिद्ध भेंट दी है, एक ऐसा पुत्र जिसकी परिपूर्णता हमारी सभी आवश्यकताओं के लिए काफी है। आईए हम मसीहा प्रभु यीशु की उपासना और आराधना में अपनी आवाज़ को बुलन्द करें। - बिल क्राउडर


बेतलेहम में परमेश्वर का प्रेम देहधारी हुआ।

क्योंकि हमारे लिये एक बालक उत्पन्न हुआ, हमें एक पुत्र दिया गया है; और प्रभुता उसके कांधे पर होगी, और उसका नाम अद्‌भुत, युक्ति करने वाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा। - यशायाह 9:6

बाइबल पाठ: लूका 1:26-33
Luke 1:26 छठवें महीने में परमेश्वर की ओर से जिब्राईल स्वर्गदूत गलील के नासरत नगर में एक कुंवारी के पास भेजा गया। 
Luke 1:27 जिस की मंगनी यूसुफ नाम दाऊद के घराने के एक पुरूष से हुई थी: उस कुंवारी का नाम मरियम था। 
Luke 1:28 और स्वर्गदूत ने उसके पास भीतर आकर कहा; आनन्द और जय तेरी हो, जिस पर ईश्वर का अनुग्रह हुआ है, प्रभु तेरे साथ है। 
Luke 1:29 वह उस वचन से बहुत घबरा गई, और सोचने लगी, कि यह किस प्रकार का अभिवादन है? 
Luke 1:30 स्वर्गदूत ने उस से कहा, हे मरियम; भयभीत न हो, क्योंकि परमेश्वर का अनुग्रह तुझ पर हुआ है। 
Luke 1:31 और देख, तू गर्भवती होगी, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा; तू उसका नाम यीशु रखना। 
Luke 1:32 वह महान होगा; और परमप्रधान का पुत्र कहलाएगा; और प्रभु परमेश्वर उसके पिता दाऊद का सिंहासन उसको देगा। 
Luke 1:33 और वह याकूब के घराने पर सदा राज्य करेगा; और उसके राज्य का अन्‍त न होगा।

एक साल में बाइबल: 
  • योना 1-4
  • प्रकाशितवाक्य 10