बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, February 8, 2016

निवारण


   मैं अपने पोते एलेक्स को वापस उसके माता-पिता के पास छोड़ने जा रहा था। मार्ग में इतनी अधिक गाड़ियां थीं और वे तेज़ रफतार से भी चल रहीं थीं कि मुझे मार्ग का कर देने वाली सही पंक्ति में आना कठिन हो रहा था और ना चाहते हुए भी मैं गलत पंक्ति में फंस गया जिसमें केवल उन गाड़ियों को जाना था जिनके पास पहले से कर चुकाने के लिए भरे हुए पैसों वाले कार्ड हैं। एलेक्स ने मुझसे कहा कि अब मेरी गाड़ी के नंबर की तसवीर खींच कर मुझे चालान भरने के लिए कहा जाएगा। यह जानकर मैं क्षुब्ध हुआ क्योंकि गलत पंक्ति में मैं जान-बूझ कर नहीं वरन मजबूरन आया था, परन्तु फिर भी मुझे गलत पंक्ति में आने का दोषी ठहरकर उस गलती के निवारण के लिए चालान भरना था।

   प्राचीन यहूदियों के लिए भी परमेश्वर की आज्ञाओं का उल्लंघन करना भारी होता था, चाहे वह अनजाने में या ना चाहते हुए ही हुआ हो। पुराने नियम में दी गई परमेश्वर की व्यवस्था इस बात को पहचानती थी कि गलतियाँ अनजाने में या ना चहते हुए भी हो सकती हैं, और इस अनचाहे उल्लंघनों के प्रायश्चित के लिए उस व्यवस्था में उचित बलिदान दिए गए थे: "...यदि कोई मनुष्य उन कामों में से जिन को यहोवा ने मना किया है किसी काम को भूल से कर के पापी हो जाए;" (लैव्यवस्था 4:2)।

   पुराने नियम में दिए गए ये बलिदान इस बात की यादगार थे कि पाप के दुष्परिणाम होते हैं, चाहे वे पाप अनजाने में या ना चाहते हुए ही किए गए हों। ये बलिदान यह भी स्मरण करवाते थे कि इन दुष्परिणामों के निवारण के लिए परमेश्वर ही मार्ग देगा, एक निर्दोष हमारे पापों का दोष लिए हुए बलिदान होगा - जो प्रभु यीशु ने समस्त मानव जाति के लिए करा; उसका बलिदान सभी के पापों के निवारण के लिए था। परमेश्वर का अनुग्रह हमारे सोचने समझने से कहीं अधिक बढ़कर है, वह हमारी हर आवश्यकता का निवारण पहले से कर के रखता है। - डेनिस फिशर


अनुग्रह का अर्थ है वह आशीष प्राप्त करना हम जिसके योग्य नहीं है। 
दया का अर्थ है हमें वह दण्ड नहीं दिया जाना हम जिसके योग्य हैं।

परन्तु परमेश्वर हम पर अपने प्रेम की भलाई इस रीति से प्रगट करता है, कि जब हम पापी ही थे तभी मसीह हमारे लिये मरा। - रोमियों 5:8 

बाइबल पाठ: लैव्यवस्था 4:1-3; रोमियों 3:20-26
Leviticus 4:1 फिर यहोवा ने मूसा से कहा 
Leviticus 4:2 कि इस्त्राएलियों से यह कह, कि यदि कोई मनुष्य उन कामों में से जिन को यहोवा ने मना किया है किसी काम को भूल से कर के पापी हो जाए; 
Leviticus 4:3 और यदि अभिषिक्त याजक ऐसा पाप करे, जिस से प्रजा दोषी ठहरे, तो अपने पाप के कारण वह एक निर्दोष बछड़ा यहोवा को पापबलि कर के चढ़ाए।

Romans 3:20 क्योंकि व्यवस्था के कामों से कोई प्राणी उसके साम्हने धर्मी नहीं ठहरेगा, इसलिये कि व्यवस्था के द्वारा पाप की पहिचान होती है। 
Romans 3:21 पर अब बिना व्यवस्था परमेश्वर की वह धामिर्कता प्रगट हुई है, जिस की गवाही व्यवस्था और भविष्यद्वक्ता देते हैं। 
Romans 3:22 अर्थात परमेश्वर की वह धामिर्कता, जो यीशु मसीह पर विश्वास करने से सब विश्वास करने वालों के लिये है; क्योंकि कुछ भेद नहीं। 
Romans 3:23 इसलिये कि सब ने पाप किया है और परमेश्वर की महिमा से रहित हैं। 
Romans 3:24 परन्तु उसके अनुग्रह से उस छुटकारे के द्वारा जो मसीह यीशु में है, सेंत मेंत धर्मी ठहराए जाते हैं। 
Romans 3:25 उसे परमेश्वर ने उसके लोहू के कारण एक ऐसा प्रायश्चित्त ठहराया, जो विश्वास करने से कार्यकारी होता है, कि जो पाप पहिले किए गए, और जिन की परमेश्वर ने अपनी सहनशीलता से आनाकानी की; उन के विषय में वह अपनी धामिर्कता प्रगट करे। 
Romans 3:26 वरन इसी समय उस की धामिर्कता प्रगट हो; कि जिस से वह आप ही धर्मी ठहरे, और जो यीशु पर विश्वास करे, उसका भी धर्मी ठहराने वाला हो।

एक साल में बाइबल: 
  • लैव्यवस्था 4-5
  • मत्ती 24:29-51