बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, May 11, 2017

गवाही


   एक भूतपूर्व कैदी, माइकल डिन्समोर, हाल ही में मसीही विश्वास में आया था; उसे बन्दिगृह में अपने जीवन की कहानी सुनाने, मसीही विश्वास के अपने जीवन की गवाही देने को कहा गया। उसके द्वारा अपनी गवाही सुनाने के पश्चात, बन्दिगृह के कुछ बन्दियों ने आकर उससे कहा, "यह हमारे जीवन की सबसे अधिक उत्साहवर्धक सभा थी।" माइकल चकित हुआ कि उसके जीवन की साधारण सी गवाही को परमेश्वर इतनी सामर्थ्य के साथ उपयोग कर सकता है।

   परमेश्वर के वचन बाइबल में हम देखते हैं कि पौलुस ने तिमुथियुस को लिखी अपनी प्रथम पत्री में पहले तो उसे निर्देश दिया कि वह सुसमाचार प्रचार करने के अपने पथ पर दृढ़ता से बना रहे (1:1-11)। इस निर्देश के पश्चात, उस नौजवान पास्टर को प्रोत्साहित करने के लिए, पौलुस ने उससे अपने जीवन की गवाही साझा की (पद 12-16)। पौलुस ने बताया कि कैसे प्रभु यीशु ने उस पर दया की, जबकि पौलुस प्रभु का उपहास करता था, उसकी अवहेलना करता था; लेकिन फिर भी प्रभु ने अपने बड़े प्रेम और दया में होकर उसके जीवन को बदल डाला। प्रभु ने न केवल पौलुस को विश्वासयोग्य जाना, वरन अपने लिए पौलुस को करने के लिए कार्य और ज़िम्मेदारी भी सौंपी, और उस ज़िम्मेदारी के योग्य सामर्थ्य भी प्रदान किया (पद 12)। पौलुस अपने आप को संसार का सबसे बड़ा पापी मानता था, परन्तु प्रभु ने उसका भी उध्दार किया, उसे बदल दिया और अपने लिए कार्य करने वाला बना दिया (पद 15)।

   परमेश्वर ऐसा कर सकने के योग्य है। पौलुस यही बात तिमुथियुस को दिखाना चाहता था; और इसी बात को आज हमें भी देखना, समझना और स्वीकार करना है, उसका पालन करना है। पौलुस की गवाही के द्वारा हम परमेश्वर की दया को देखते हैं। यदि परमेश्वर पौलुस जैसे व्यक्ति को बदल सकता है, उसे अपने लिए उपयोगी बना सकता है, तो पौलुस के समान वह हमें भी उपयोग कर सकता है। यदि परमेश्वर संसार के सबसे बड़े पापी का उध्दार कर सकता है तो किसी का भी कर सकता है, कोई उसकी दया और करुणा की सीमा से परे नहीं है।

   परमेश्वर द्वारा हमारे जीवनों में किए गए कार्यों की गवाही किसी अन्य के लिए प्रोत्साहन हो सकती है। अपने आस-पास के लोगों के साथ अपने जीवन में हुए परमेश्वर के कार्यों की गवाही को साझा करें; उन्हें बताएं कि बाइबल का परमेश्वर आज भी कार्य कर रहा है, जीवन बदल रहा है! - पोह फैंग चिया


परमेश्वर के प्रेम और दया की पहुँच से बाहर कोई नहीं है।

तेरे कामों की प्रशंसा और तेरे पराक्रम के कामों का वर्णन, पीढ़ी पीढ़ी होता चला जाएगा। मैं तेरे ऐश्वर्य की महिमा के प्रताप पर और तेरे भांति भांति के आश्चर्यकर्मों पर ध्यान करूंगा। लोग तेरे भयानक कामों की शक्ति की चर्चा करेंगे, और मैं तेरे बड़े बड़े कामों का वर्णन करूंगा। लोग तेरी बड़ी भलाई का स्मरण कर के उसकी चर्चा करेंगे, और तेरे धर्म का जयजयकार करेंगे। - भजन 145:4-7

बाइबल पाठ: 1 तिमुथियुस 1:12-20
1 Timothy 1:12 और मैं, अपने प्रभु मसीह यीशु का, जिसने मुझे सामर्थ्य दी है, धन्यवाद करता हूं; कि उसने मुझे विश्वास योग्य समझकर अपनी सेवा के लिये ठहराया। 
1 Timothy 1:13 मैं तो पहिले निन्‍दा करने वाला, और सताने वाला, और अन्‍धेर करने वाला था; तौभी मुझ पर दया हुई, क्योंकि मैं ने अविश्वास की दशा में बिन समझे बूझे, ये काम किए थे। 
1 Timothy 1:14 और हमारे प्रभु का अनुग्रह उस विश्वास और प्रेम के साथ जो मसीह यीशु में है, बहुतायत से हुआ। 
1 Timothy 1:15 यह बात सच और हर प्रकार से मानने के योग्य है, कि मसीह यीशु पापियों का उद्धार करने के लिये जगत में आया, जिन में सब से बड़ा मैं हूं। 
1 Timothy 1:16 पर मुझ पर इसलिये दया हुई, कि मुझ सब से बड़े पापी में यीशु मसीह अपनी पूरी सहनशीलता दिखाए, कि जो लोग उस पर अनन्त जीवन के लिये विश्वास करेंगे, उन के लिये मैं एक आदर्श बनूं। 
1 Timothy 1:17 अब सनातन राजा अर्थात अविनाशी अनदेखे अद्वैत परमेश्वर का आदर और महिमा युगानुयुग होती रहे। आमीन।
1 Timothy 1:18 हे पुत्र तीमुथियुस, उन भविष्यद्वाणियों के अनुसार जो पहिले तेरे विषय में की गई थीं, मैं यह आज्ञा सौंपता हूं, कि तू उन के अनुसार अच्छी लड़ाई को लड़ता रहे। 
1 Timothy 1:19 और विश्वास और उस अच्‍छे विवेक को थामें रहे जिसे दूर करने के कारण कितनों का विश्वास रूपी जहाज डूब गया। 
1 Timothy 1:20 उन्‍हीं में से हुमिनयुस और सिकन्‍दर हैं जिन्हें मैं ने शैतान को सौंप दिया, कि वे निन्‍दा करना न सीखें।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 राजा 13-14
  • यूहन्ना 2