बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, August 1, 2017

शांति


   फ़िनलैंड देश के हेलसिंकी शहर में स्थित कैम्पी चैपल अपने आप में एक अनूठा स्थान है। यह आकार में गोलाकार है और लकड़ी से ढंका हुआ है; उसकी इस विशिष्ट संरचना के कारण व्यस्त शहर की बाहरी आवाज़ें इसके अन्दर तक बहुत कम पहुँचने पाती हैं। इसे बनाने वालों ने इसे एक शांत स्थान होने के लिए, जहाँ आगंतुक आकर अपने आप को शांत कर सकें, बनाया है। यह शहर के भी़ड़ और शोर-गुल से निकलकर शांत होकर बैठने का एक अच्छा स्थल है।

   बहुत से लोग शांति चाहते हैं और कुछ मिनटों की खामोशी हमें शांत कर सकती है। परन्तु परमेश्वर का वचन बाइबल हमें सिखाती है कि वास्तविक शांति परमेश्वर से मेल-मिलाप हो जाने से ही आती है, जो केवल प्रभु यीशु में होकर ही संभव है। प्रेरित पौलुस ने कहा, "सो जब हम विश्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर के साथ मेल रखें" (रोमियों 5:1)। बिना प्रभु यीशु मसीह के, अपने पापों की दशा में होने के कारण हम परमेश्वर के बैरी हैं; परन्तु परमेश्वर का धन्यवाद हो कि उसने अपने साथ हमारा मेल-मिलाप करने के लिए प्रभु यीशु को भेजा, जिसका क्रूस पर दिया गया बलिदान हमें पापों की क्षमा प्रदान करता है जिससे परमेश्वर से हमारा मेल-मिलाप संभव हो जाता है। अब परमेश्वर हमें प्रभु यीशु मसीह में होकर, "...अपने सम्मुख पवित्र और निष्‍कलंक, और निर्दोष बनाकर उपस्थित करे" (कुलुस्सियों 1:22)।

   परमेश्वर के साथ शांति हो जाने का तात्पर्य यह नहीं है कि अब हमारे जीवनों में कभी कोई समस्या नहीं आएगी; परन्तु हमें परमेश्वर से यह आश्वासन अवश्य ही मिलता है कि हमारी प्रत्येक परिस्थिति में परमेश्वर हमारे साथ बना रहेगा, हमारा मार्गदर्शन करेगा और हमें सुरक्षित निकाल कर ले आएगा। प्रभु यीशु ने अपने अनुयायियों से कहा, "मैं ने ये बातें तुम से इसलिये कही हैं, कि तुम्हें मुझ में शान्‍ति मिले; संसार में तुम्हें क्‍लेश होता है, परन्तु ढाढ़स बांधो, मैं ने संसार को जीत लिया है" (यूहन्ना 16:33)। मसीह यीशु के कारण हमें सच्ची शांति प्राप्त हो सकती है। - जेनिफर बेन्सन शुल्ट


जब मसीह यीशु हृदय में राज करता है 
तो उसकी शांति हमारे जीवनों में भर जाती है।

मैं तुम्हें शान्‍ति दिए जाता हूं, अपनी शान्‍ति तुम्हें देता हूं; जैसे संसार देता है, मैं तुम्हें नहीं देता: तुम्हारा मन न घबराए और न डरे। - यूहन्ना 14:27

बाइबल पाठ: कुलुस्सियों 1:13-22
Colossians 1:13 उसी ने हमें अन्धकार के वश से छुड़ाकर अपने प्रिय पुत्र के राज्य में प्रवेश कराया। 
Colossians 1:14 जिस में हमें छुटकारा अर्थात पापों की क्षमा प्राप्त होती है। 
Colossians 1:15 वह तो अदृश्य परमेश्वर का प्रतिरूप और सारी सृष्‍टि में पहिलौठा है। 
Colossians 1:16 क्योंकि उसी में सारी वस्‍तुओं की सृष्‍टि हुई, स्वर्ग की हो अथवा पृथ्वी की, देखी या अनदेखी, क्या सिंहासन, क्या प्रभुतांए, क्या प्रधानताएं, क्या अधिकार, सारी वस्तुएं उसी के द्वारा और उसी के लिये सृजी गई हैं। 
Colossians 1:17 और वही सब वस्‍तुओं में प्रथम है, और सब वस्तुएं उसी में स्थिर रहती हैं। 
Colossians 1:18 और वही देह, अर्थात कलीसिया का सिर है; वही आदि है और मरे हुओं में से जी उठने वालों में पहिलौठा कि सब बातों में वही प्रधान ठहरे। 
Colossians 1:19 क्योंकि पिता की प्रसन्नता इसी में है कि उस में सारी परिपूर्णता वास करे। 
Colossians 1:20 और उसके क्रूस पर बहे हुए लोहू के द्वारा मेल मिलाप कर के, सब वस्‍तुओं का उसी के द्वारा से अपने साथ मेल कर ले चाहे वे पृथ्वी पर की हों, चाहे स्वर्ग में की। 
Colossians 1:21 और उसने अब उसकी शारीरिक देह में मृत्यु के द्वारा तुम्हारा भी मेल कर लिया जो पहिले निकाले हुए थे और बुरे कामों के कारण मन से बैरी थे। 
Colossians 1:22 ताकि तुम्हें अपने सम्मुख पवित्र और निष्‍कलंक, और निर्दोष बनाकर उपस्थित करे।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 57-59
  • रोमियों 4