बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, November 6, 2017

अनुसरण


   जब भूतपूर्व बास्केटबॉल खिलाड़ी डेविड वुड्स स्पैनिश बास्केटबॉल कप के फ़ाईनल के मैच खेल रहा था तब मैं उसके साथ था। एक बार खेल से पहले उसने परमेश्वर के वचन बाइबल से भजन 144:1 पढ़ा: "धन्य है यहोवा, जो मेरी चट्टान है, वह मेरे हाथों को लड़ने, और युद्ध करने के लिये तैयार करता है"; फिर मेरी ओर मुड़कर मुझसे कहा, "आपने देखा? ऐसा लगता है मानो परमेश्वर ने यह पद मेरे ही लिए लिखा है! वह मेरे हाथों को बास्केटबॉल पकड़ने और ऊँगलियों को उसे सही दिशा में फेंकने के लिए प्रशिक्षित और तैयार करता है।" डेविड का विश्वास था कि परमेश्वर ने उसे बास्केटबॉल खेलने के लिए बुलाया है, और उसने यह सीखा कि परमेश्वर हमें, जैसे भी हम हैं वैसा ही लेकर, उस सेवकाई के लिए तैयार करता है जिसे वह हम से लेना चाहता है।

   हम बड़ी सरलता से अपने आप को परमेश्वर के कार्यों के लिए अयोग्य कहकर, यह समझकर कि हमारे पास परमेश्वर को उसके कार्यों के लिए देने के लिए कुछ नहीं है, उसकी सेवकाई से पीछे हट सकते हैं। जब परमेश्वर ने मूसा को दर्शन दिए और उसे कार्य सौंपा कि वह इस्त्राएलियों को बताए कि परमेश्वर उसके द्वारा इस्त्राएलियों को मिस्त्र के दासत्व से छुड़ाएगा (निर्गमन 3:16-17), तो मूसा ने अपने आप को इस कार्य के लिए अनुप्युक्त समझा। मूसा ने प्रभु से कहा, "हे मेरे प्रभु, मैं बोलने में निपुण नहीं, न तो पहिले था, और न जब से तू अपने दास से बातें करने लगा; मैं तो मुंह और जीभ का भद्दा हूं" (निर्गमन 4:10)। मूसा को बोलने में कुछ दिक्कत होती थी, और वह वापस मिस्त्र के राजा फिरौन के पास जाने को लेकर भयभीत भी था, परन्तु परमेश्वर ने उसकी अयोग्यता और भय का अपनी योग्यता और अपनी सामर्थ्य से निवारण कर दिया। परमेश्वर ने तब मूसा से कहा, "अब जा, मैं तेरे मुख के संग हो कर जो तुझे कहना होगा वह तुझे सिखलाता जाऊंगा" (निर्गमन 4:12)।

   परमेश्वर बस हम से इतना चाहता है कि हम उस पर भरोसा रखें और उसकी योजनाओं को पूरा करने के लिए उसका अनुसरण करते रहें। शेष सब कुछ वह संभाल लेगा। जब हम उसपर भरोसा रखकर, उसका अनुसरण करते हैं, तो उसके सामर्थी हाथों में न केवल हम स्वयं आशीषित होते हैं, वरन औरों के लिए भी आशीष का कारण बन जाते हैं। - जेम्स फर्नैन्डिज़ गारिदो


जब परमेश्वर किसी कार्य के लिए बुलाता है 
तो उसके लिए आवश्यक सामर्थ्य और संसाधन भी दे देता है।

यहोवा ने अब्राम से कहा, अपने देश, और अपनी जन्मभूमि, और अपने पिता के घर को छोड़कर उस देश में चला जा जो मैं तुझे दिखाऊंगा। और मैं तुझ से एक बड़ी जाति बनाऊंगा, और तुझे आशीष दूंगा, और तेरा नाम बड़ा करूंगा, और तू आशीष का मूल होगा। और जो तुझे आशीर्वाद दें, उन्हें मैं आशीष दूंगा; और जो तुझे कोसे, उसे मैं शाप दूंगा; और भूमण्डल के सारे कुल तेरे द्वारा आशीष पाएंगे। उत्पत्ति 12:1-3

बाइबल पाठ: निर्गमन 4:10-17
Exodus 4:10 मूसा ने यहोवा से कहा, हे मेरे प्रभु, मैं बोलने में निपुण नहीं, न तो पहिले था, और न जब से तू अपने दास से बातें करने लगा; मैं तो मुंह और जीभ का भद्दा हूं। 
Exodus 4:11 यहोवा ने उस से कहा, मनुष्य का मुंह किस ने बनाया है? और मनुष्य को गूंगा, वा बहिरा, वा देखने वाला, वा अन्धा, मुझ यहोवा को छोड़ कौन बनाता है? 
Exodus 4:12 अब जा, मैं तेरे मुख के संग हो कर जो तुझे कहना होगा वह तुझे सिखलाता जाऊंगा। 
Exodus 4:13 उसने कहा, हे मेरे प्रभु, जिस को तू चाहे उसी के हाथ से भेज। 
Exodus 4:14 तब यहोवा का कोप मूसा पर भड़का और उसने कहा, क्या तेरा भाई लेवीय हारून नहीं है? मुझे तो निश्चय है कि वह बोलने में निपुण है, और वह तेरी भेंट के लिये निकला भी आता है, और तुझे देखकर मन में आनन्दित होगा। 
Exodus 4:15 इसलिये तू उसे ये बातें सिखाना; और मैं उसके मुख के संग और तेरे मुख के संग हो कर जो कुछ तुम्हें करना होगा वह तुम को सिखलाता जाऊंगा। 
Exodus 4:16 और वह तेरी ओर से लोगों से बातें किया करेगा; वह तेरे लिये मुंह और तू उसके लिये परमेश्वर ठहरेगा। 
Exodus 4:17 और तू इस लाठी को हाथ में लिये जा, और इसी से इन चिन्हों को दिखाना।

एक साल में बाइबल: 
  • यिर्मयाह 37-39
  • इब्रानियों 3