बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, January 8, 2019

बोझ



      गाँव की एक सड़क पर अपने छोटे ट्रक को चलाकर ले जाते हुए एक व्यक्ति ने एक महिला को देखा जो भारी बोझ उठाए हुए जा रही थी। उसने रुककर उस महिला की सहायता के लिए अपने ट्रक में बैठने के लिए कहा। महिला ने धन्यवाद सहित उसका प्रस्ताव स्वीकार कर लिया और ट्रक में पीछे बैठ गई। थोड़ी से देर में उस व्यक्ति ने एक विचित्र बात देखी – वह महिला ट्रक में बैठी होने के बावजूद, अभी भी अपने बोझ को स्वयँ ही उठाए हुए थी। चकित होकर उस व्यक्ति ने महिला से कहा, “महोदया, कृपया अपना बोझ उतार कर ट्रक में ही रख दें। मेरा ट्रक आपके बोझ को उठाने पाने में सक्षम है; आप बस आराम से बैठ जाईए।”

      जीवन की अनेकों चुनौतियों में से पार होते हुए हम भय, चिन्ता, और घबराहट के अपने बोझ के साथ क्या करते हैं? प्रभु में आराम से हो जाने के स्थान पर, मैं बहुधा उस महिला के समान ही करता हूँ। परमेश्वर के वचन बाइबल में लिखा है कि प्रभु यीशु ने कहा, “हे सब परिश्रम करने वालों और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ; मैं तुम्हें विश्राम दूंगा” (मत्ती 11:28), परन्तु फिर भी मैं जानता हूँ कि अनेकों बार जिस बोझ को मुझे प्रभु को सौंप देना चाहिए था, मैं फिर भी स्वयं ही उसे उठाए हुए रहता हूँ।

      हम जब प्रार्थना में प्रभु के पास आते हैं तो अपने बोझ वहाँ उतार कर उसे सौंप सकते हैं। प्रेरित पतरस कहता है, “और अपनी सारी चिन्‍ता उसी पर डाल दो, क्योंकि उसको तुम्हारा ध्यान है” (1 पतरस 5:7)। क्योंकि प्रभु यीशु हमारी चिंता और देखभाल करता है इसलिए हम उस पर भरोसा रख कर विश्राम कर सकते हैं, निश्चिन्त हो सकते हैं। जीवन के उन बोझों को लिए फिरने की बजाए जो हमें थका देते हैं, निराश करते हैं, हमें उन्हें प्रभु को सौंप देना चाहिए, और उन्हें उसे ही उठाने देना चाहिए। - लॉरेंस दरमानी


प्रार्थना वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा बोझों का स्थान बदलता है।

हे याकूब के घराने, हे इस्राएल के घराने के सब बचे हुए लोगो, मेरी ओर कान लगाकर सुनो; तुम को मैं तुम्हारी 
उत्पत्ति ही से उठाए रहा और जन्म ही से लिये फिरता आया हूं। तुम्हारे बुढ़ापे में भी मैं वैसा ही बना रहूंगा और तुम्हारे बाल पकने के समय तक तुम्हें उठाए रहूंगा। मैं ने तुम्हें बनाया और तुम्हें लिये फिरता रहूंगा; - यशायाह 46:3-4

बाइबल पाठ: मत्ती 11:25-30
Matthew 11:25 उसी समय यीशु ने कहा, हे पिता, स्वर्ग और पृथ्वी के प्रभु; मैं तेरा धन्यवाद करता हूं, कि तू ने इन बातों को ज्ञानियों और समझदारों से छिपा रखा, और बालकों पर प्रगट किया है।
Matthew 11:26 हां, हे पिता, क्योंकि तुझे यही अच्छा लगा।
Matthew 11:27 मेरे पिता ने मुझे सब कुछ सौंपा है, और कोई पुत्र को नहीं जानता, केवल पिता; और कोई पिता को नहीं जानता, केवल पुत्र और वह जिस पर पुत्र उसे प्रगट करना चाहे।
Matthew 11:28 हे सब परिश्रम करने वालों और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ; मैं तुम्हें विश्राम दूंगा।
Matthew 11:29 मेरा जूआ अपने ऊपर उठा लो; और मुझ से सीखो; क्योंकि मैं नम्र और मन में दीन हूं: और तुम अपने मन में विश्राम पाओगे।
Matthew 11:30 क्योंकि मेरा जूआ सहज और मेरा बोझ हल्का है।
                                                                                                                                                        
एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 20-22
  • मत्ती 6:19-34