बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, February 3, 2019

देख



      ऑनलाइन लेखकों के एक समूह में, जिसकी मैं सदस्या हूँ, और जिसमें हम एक दूसरे को प्रोत्साहित और सहायता करते हैं, एक मित्र ने कहा, “मैं तुम्हें देखती हूँ।” क्योंकि मैं कुछ तनाव और व्याकुलता से हो कर निकल रही थी, इसलिए उसके इन शब्दों से मुझे शान्ति और सुख अनुभव हुआ – वह मुझे, मेरी आकांक्षाओं, भय, संघर्षों, और सपनों को “देख” रही थी – और मुझसे प्रेम करती थी।

      अपने मित्र के इस सहज किन्तु प्रबल प्रोत्साहन को प्राप्त करके मुझे परमेश्वर के वचन बाइबल में उल्लेखित हाजिरा का विचार आया, जो अब्राहम के घर में एक दासी थी। अब्राहम और सारा वर्षों से सन्तान की लालसा और प्रतीक्षा कर रहे थे, किन्तु उन्हें सन्तान का सुख नहीं मिला था। तब सारा ने अपनी दासी हाजिरा को अब्राहम को दिया कि उससे सारा के लिए सन्तान उत्पन्न करे। किन्तु गर्भवती होने पर हाजिरा अपनी स्वामिनी, सारा, को तिरिस्कार की दृष्टि से देखने लगी। जब सारा ने भी हाजिरा के साथ कठोरता से व्यवहार किया तो हाजिरा उससे दूर मरुभूमि में भाग गई।

      मरुभूमि में कठिनाई और दुःख में पड़ी हुई हाजिरा को परमेश्वर ने देखा और उससे वायदा किया कि वह अनेकों लोगों के वंश की जननी होगी। परमेश्वर से हुई इस मुलाकात के बाद हाजिरा ने परमेश्वर को एल रोई कहा, जिसका अर्थ होता है “वह परमेश्वर जो मुझे देखता है” (उत्पत्ति 16:13), क्योंकि वह जान गई थी कि वह अकेली या त्यागी हुई नहीं है।

      जैसे परमेश्वर ने हाजिरा को देखा और उससे प्रेम किया, वैसे ही वह हमें भी देखता और हम से प्रेम करता है। हम मित्रों या परिवार जनों के द्वारा उपेक्षित और तिरीस्कृत अनुभव कर सकते हैं, परन्तु हम मसीही विश्वासी जानते हैं कि हमारा स्वर्गीय परमेश्वर पिता, हमें देखता, जानता और अच्छे से समझता है। वह न केवल हमारे प्रत्यक्ष स्वरूप को देखता है, परन्तु हमारे अन्दर की बातों, भावनाओं, और प्रत्येक बात को देखता और भली-भांति जानता है। इसलिए वह हमें जीवनदायक शब्द और मार्गदर्शन देता है – क्योंकि वह हमें देख रहा है। - एमी बाउचर पाई


यह जानना कि परमेश्वर हमें देख रहा है, हमें सांतवना और भरोसा देता है।

यहोवा की आंखें सब स्थानों में लगी रहती हैं, वह बुरे भले दोनों को देखती रहती हैं। - नीतिवचन 15:3

बाइबल पाठ: उत्पत्ति 16:1-13
Genesis 16:1 अब्राम की पत्नी सारै के कोई सन्तान न थी: और उसके हाजिरा नाम की एक मिस्री दासी थी।
Genesis 16:2 सो सारै ने अब्राम से कहा, देख, यहोवा ने तो मेरी कोख बन्द कर रखी है सो मैं तुझ से बिनती करती हूं कि तू मेरी दासी के पास जा: सम्भव है कि मेरा घर उसके द्वारा बस जाए।
Genesis 16:3 सो सारै की यह बात अब्राम ने मान ली। सो जब अब्राम को कनान देश में रहते दस वर्ष बीत चुके तब उसकी स्त्री सारै ने अपनी मिस्री दासी हाजिरा को ले कर अपने पति अब्राम को दिया, कि वह उसकी पत्नी हो।
Genesis 16:4 और वह हाजिरा के पास गया, और वह गर्भवती हुई और जब उसने जाना कि वह गर्भवती है तब वह अपनी स्वामिनी को अपनी दृष्टि में तुच्छ समझने लगी।
Genesis 16:5 तब सारै ने अब्राम से कहा, जो मुझ पर उपद्रव हुआ सो तेरे ही सिर पर हो: मैं ने तो अपनी दासी को तेरी पत्नी कर दिया; पर जब उसने जाना कि वह गर्भवती है, तब वह मुझे तुच्छ समझने लगी, सो यहोवा मेरे और तेरे बीच में न्याय करे।
Genesis 16:6 अब्राम ने सारै से कहा, देख तेरी दासी तेरे वश में है: जैसा तुझे भला लगे वैसा ही उसके साथ कर। सो सारै उसको दु:ख देने लगी और वह उसके साम्हने से भाग गई।
Genesis 16:7 तब यहोवा के दूत ने उसको जंगल में शूर के मार्ग पर जल के एक सोते के पास पाकर कहा,
Genesis 16:8 हे सारै की दासी हाजिरा, तू कहां से आती और कहां को जाती है? उसने कहा, मैं अपनी स्वामिनी सारै के साम्हने से भाग आई हूं।
Genesis 16:9 यहोवा के दूत ने उस से कहा, अपनी स्वामिनी के पास लौट जा और उसके वश में रह।
Genesis 16:10 और यहोवा के दूत ने उस से कहा, मैं तेरे वंश को बहुत बढ़ाऊंगा, यहां तक कि बहुतायत के कारण उसकी गणना न हो सकेगी।
Genesis 16:11 और यहोवा के दूत ने उस से कहा, देख तू गर्भवती है, और पुत्र जनेगी, सो उसका नाम इश्माएल रखना; क्योंकि यहोवा ने तेरे दु:ख का हाल सुन लिया है।
Genesis 16:12 और वह मनुष्य बनैले गदहे के समान होगा उसका हाथ सबके विरुद्ध उठेगा, और सब के हाथ उसके विरुद्ध उठेंगे; और वह अपने सब भाई बन्धुओं के मध्य में बसा रहेगा।
Genesis 16:13 तब उसने यहोवा का नाम जिसने उस से बातें की थीं, अत्ताएलरोई रखकर कहा कि, क्या मैं यहां भी उसको जाते हुए देखने पाई जो मेरा देखनेहारा है?
                                                                                                                                                        
एक साल में बाइबल: 
  • निर्गमन 31-33
  • मत्ती 22:1-22