बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, September 23, 2015

सामर्थी


   कुछ बच्चों को अपने पिता के विषय डींग मारने का बहुत शौक होता है। यदि आप अड़ौस-पड़ौस के बच्चों के आपसी वार्तालाप को छिप कर सुनें तो अकसर बच्चों को एक-दूसरे से कहते पाएंगे, "मेरे पिता तुम्हारे पिता से बड़े हैं"; या फिर, "मेरे पिता तुम्हारे पिता से अधिक चतुर हैं"! परन्तु सबसे बड़ी डींग जो बच्चे मारते हैं वह है, "मेरे पिता तुम्हारे पिता से अधिक बलवान हैं।" यह अन्तिम डींग सामान्यतः चेतावनी के संदर्भ में होती है जब किसी बच्चे को दूसरों द्वारा धमकाया जा रहा होता है; ऐसे में वह बच्चा इस डींग के द्वारा दूसरों को जता देना चाहता है कि धमकाने वाले सचेत हो जाएं नहीं तो वह अपने पिता को ले आएगा, और वे आकर ना सिर्फ सभी बच्चों पर वरन उन के पिताओं पर भी भारी पड़ेंगे।

   यह विश्वास रखना कि सारे मोहल्ले में मेरे पिता ही सबसे बलवान हैं, किसी भी खतरे के समय बच्चे में बड़ा आत्मविश्वास जगाता है। इसीलिए मुझे इस तथ्य से बहुत प्रेम है कि हमारा परमेश्वर पिता सर्वसामर्थी है; क्योंकि इसका सीधा सा तात्पर्य है कि कोई भी परमेश्वर के बल और सामर्थ की बराबरी नहीं कर सकता। इससे भी बढ़कर यह कि हम मसीही विश्वासियों को यह आश्वासन है कि, "जो परमप्रधान के छाए हुए स्थान में बैठा रहे, वह सर्वशक्तिमान की छाया में ठिकाना पाएगा" (भजन 91:1)। इसलिए भजनकार बड़े भरोसे के साथ कह सका "तू न रात के भय से डरेगा, और न उस तीर से जो दिन को उड़ता है" (भजन 91:5)।

   आज का दिन चाहे जो भी परिस्थिति लेकर आए, या फिर आप चाहे कैसी भी समस्या से होकर निकल रहे हों, कभी इस बात को ना भूलें कि मसीही विश्वासी होने के नाते आपका पिता परमेश्वर आपके जीवन की हर बात और समस्या से कहीं अधिक बढ़कर सामर्थी है। इसलिए भरोसा बनाए रखें; उसकी सर्वविद्यमान उपस्थिति इस बात का निश्चय है कि उसकी सामर्थ आपकी बुरी से बुरी परिस्थिति को भी भलाई में बदल देगी। - जो स्टोवैल


हमारा पिता परमेश्वर हमारी बड़ी से बड़ी समस्या से भी कहीं बढ़कर सामर्थी है।

और हम जानते हैं, कि जो लोग परमेश्वर से प्रेम रखते हैं, उन के लिये सब बातें मिलकर भलाई ही को उत्पन्न करती है; अर्थात उन्हीं के लिये जो उस की इच्छा के अनुसार बुलाए हुए हैं। - रोमियों 8:28

बाइबल पाठ: भजन 91:1-16
Psalms 91:1 जो परमप्रधान के छाए हुए स्थान में बैठा रहे, वह सर्वशक्तिमान की छाया में ठिकाना पाएगा। 
Psalms 91:2 मैं यहोवा के विषय कहूंगा, कि वह मेरा शरणस्थान और गढ़ है; वह मेरा परमेश्वर है, मैं उस पर भरोसा रखूंगा। 
Psalms 91:3 वह तो तुझे बहेलिये के जाल से, और महामारी से बचाएगा; 
Psalms 91:4 वह तुझे अपने पंखों की आड़ में ले लेगा, और तू उसके पैरों के नीचे शरण पाएगा; उसकी सच्चाई तेरे लिये ढाल और झिलम ठहरेगी। 
Psalms 91:5 तू न रात के भय से डरेगा, और न उस तीर से जो दिन को उड़ता है, 
Psalms 91:6 न उस मरी से जो अन्धेरे में फैलती है, और न उस महारोग से जो दिन दुपहरी में उजाड़ता है।
Psalms 91:7 तेरे निकट हजार, और तेरी दाहिनी ओर दस हजार गिरेंगे; परन्तु वह तेरे पास न आएगा। 
Psalms 91:8 परन्तु तू अपनी आंखों की दृष्टि करेगा और दुष्टों के अन्त को देखेगा।
Psalms 91:9 हे यहोवा, तू मेरा शरण स्थान ठहरा है। तू ने जो परमप्रधान को अपना धाम मान लिया है, 
Psalms 91:10 इसलिये कोई विपत्ति तुझ पर न पड़ेगी, न कोई दु:ख तेरे डेरे के निकट आएगा।
Psalms 91:11 क्योंकि वह अपने दूतों को तेरे निमित्त आज्ञा देगा, कि जहां कहीं तू जाए वे तेरी रक्षा करें। 
Psalms 91:12 वे तुझ को हाथों हाथ उठा लेंगे, ऐसा न हो कि तेरे पांवों में पत्थर से ठेस लगे। 
Psalms 91:13 तू सिंह और नाग को कुचलेगा, तू जवान सिंह और अजगर को लताड़ेगा। 
Psalms 91:14 उसने जो मुझ से स्नेह किया है, इसलिये मैं उसको छुड़ाऊंगा; मैं उसको ऊंचे स्थान पर रखूंगा, क्योंकि उसने मेरे नाम को जान लिया है। 
Psalms 91:15 जब वह मुझ को पुकारे, तब मैं उसकी सुनूंगा; संकट में मैं उसके संग रहूंगा, मैं उसको बचा कर उसकी महिमा बढ़ाऊंगा। 
Psalms 91:16 मैं उसको दीर्घायु से तृप्त करूंगा, और अपने किए हुए उद्धार का दर्शन दिखाऊंगा।

एक साल में बाइबल: 
  • श्रेष्ठगीत 1-3
  • गलतियों 2