बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, October 7, 2017

समझ


   मेरी सहेली मिघन बहुत अच्छी घुड़सवार है, और मैं उससे घोड़ों के बारे में कुछ रोचक बातें सीखती रहती हूँ। उदाहरण के लिए, पृथ्वी पर रहने वाले सभी स्तनधारियों में सबसे बड़ी आँखें होते हुए भी, घोड़ों की दृष्टि कमज़ोर होती है, और वे मनुष्यों से कम प्रकार के रंग देख सकते हैं। इस कारण से वे धरती पर पड़ी हुई सभी वस्तुओं को पहचान नहीं पाते हैं। जब उन्हें धरती पर कोई डण्डा दिखाई देता है तो वे यह नहीं समझ पाते हैं कि यह लाँघ लेने लायक डण्डा है या हानि पहुँचाने की क्षमता रखने वाला साँप। इस कारण जब तक वे भली-भाँति प्रशिक्षित न हों, घोड़े सरलता से भयभीत होकर भाग लेते हैं।

   हम भी भयावह परिस्थितियों से भाग जाने का प्रयास करते हैं। हमें परमेश्वर के वचन बाइबल के पात्र, अय्युब के समान लग सकता है, जिसने अपनी कठिनाईयों का गलत अर्थ निकाला और इच्छा की कि उसका जन्म ही नहीं हुआ होता। क्योंकि वह यह नहीं देख पाया कि उसे तोड़ डालने का प्रयास करने वाला वास्तव में शैतान है, इसलिए उसने समझा कि जिस परमेश्वर में उसने विश्वास किया था, वही उसे नष्ट करने के प्रयास कर रहा है। अपनी विकट परिस्थितियों से अभिभूत होकर वह पुकार उठा, "तो यह जान लो कि ईश्वर ने मुझे गिरा दिया है, और मुझे अपने जाल में फंसा लिया है" (अय्युब 19:6)।

   अय्युब की दृष्टि के समान, हमारी दृष्टि भी सीमित होती है। हम उन कठिन परिस्थितियों से जो हमें डराती हैं, भाग जाना चाहते हैं। परन्तु परमेश्वर के दृष्टिकोण से हम मसीही वि९श्वासी कभी अकेले नहीं हैं। उसे समझ है कि हमें व्यग्र करने वाला और डराने वाला क्या है। वह यह भी समझता है कि जब तक हम उसके पास, उसके साथ बने रहते हैं, हम सुरक्षित रहते हैं। हमारी परिस्थितियाँ, हमारा दैनिक जीवन हमारे लिए अवसर होते हैं कि हम सदा उस पर अपना भरोसा बनाए रखते हुए, अपनी समझ के स्थान पर अपने प्रभु परमेश्वर की समझ का सहारा लें, जिससे हमारे सब कार्य परमेश्वर की इच्छा के अनुसार करें और सफल तथा आशीषित हों। - ऐनी सेटास


परमेश्वर की विश्वासयोग्यता पर भरोसा रखने से हमारे भय दूर हो जाते हैं।

जिस समय मुझे डर लगेगा, मैं तुझ पर भरोसा रखूंगा। परमेश्वर की सहायता से मैं उसके वचन की प्रशंसा करूंगा, परमेश्वर पर मैं ने भरोसा रखा है, मैं नहीं डरूंगा। कोई प्राणी मेरा क्या कर सकता है? - भजन 56:3-4

बाइबल पाठ: अय्युब 19:1-21
Job 19:1 तब अय्यूब ने कहा, 
Job 19:2 तुम कब तक मेरे प्राण को दु:ख देते रहोगे; और बातों से मुझे चूर चूर करोगे? 
Job 19:3 इन दसों बार तुम लोग मेरी निन्दा ही करते रहे, तुम्हें लज्जा नहीं आती, कि तुम मेरे साथ कठोरता का बरताव करते हो? 
Job 19:4 मान लिया कि मुझ से भूल हुई, तौभी वह भूल तो मेरे ही सिर पर रहेगी। 
Job 19:5 यदि तुम सचमुच मेरे विरुद्ध अपनी बड़ाई करते हो और प्रमाण देकर मेरी निन्दा करते हो, 
Job 19:6 तो यह जान लो कि ईश्वर ने मुझे गिरा दिया है, और मुझे अपने जाल में फंसा लिया है। 
Job 19:7 देखो, मैं उपद्रव! उपद्रव! यों चिल्लाता रहता हूँ, परन्तु कोई नहीं सुनता; मैं सहायता के लिये दोहाई देता रहता हूँ, परन्तु कोई न्याय नहीं करता। 
Job 19:8 उसने मेरे मार्ग को ऐसा रूंधा है कि मैं आगे चल नहीं सकता, और मेरी डगरें अन्धेरी कर दी हैं। 
Job 19:9 मेरा वैभव उसने हर लिया है, और मेरे सिर पर से मुकुट उतार दिया है। 
Job 19:10 उसने चारों ओर से मुझे तोड़ दिया, बस मैं जाता रहा, और मेरा आसरा उसने वृक्ष के समान उखाड़ डाला है। 
Job 19:11 उसने मुझ पर अपना क्रोध भड़काया है और अपने शत्रुओं में मुझे गिनता है। 
Job 19:12 उसके दल इकट्ठे हो कर मेरे विरुद्ध मोर्चा बान्धते हैं, और मेरे डेरे के चारों ओर छावनी डालते हैं। 
Job 19:13 उसने मेरे भाइयों को मुझ से दूर किया है, और जो मेरी जान पहचान के थे, वे बिलकुल अनजान हो गए हैं। 
Job 19:14 मेरे कुटुंबी मुझे छोड़ गए हैं, और जो मुझे जानते थे वह मुझे भूल गए हैं। 
Job 19:15 जो मेरे घर में रहा करते थे, वे, वरन मेरी दासियां भी मुझे अनजाना गिनने लगीं हैं; उनकी दृष्टि में मैं परदेशी हो गया हूँ। 
Job 19:16 जब मैं अपने दास को बुलाता हूँ, तब वह नहीं बोलता; मुझे उस से गिड़गिड़ाना पड़ता है। 
Job 19:17 मेरी सांस मेरी स्त्री को और मेरी गन्ध मेरे भाइयों की दृष्टि में घिनौनी लगती है। 
Job 19:18 लड़के भी मुझे तुच्छ जानते हैं; और जब मैं उठने लगता, तब वे मेरे विरुद्ध बोलते हैं। 
Job 19:19 मेरे सब परम मित्र मुझ से द्वेष रखते हैं, और जिन से मैं ने प्रेम किया सो पलटकर मेरे विरोधी हो गए हैं। 
Job 19:20 मेरी खाल और मांस मेरी हड्डियों से सट गए हैं, और मैं बाल बाल बच गया हूं। 
Job 19:21 हे मेरे मित्रो! मुझ पर दया करो, दया, क्योंकि ईश्वर ने मुझे मारा है।

एक साल में बाइबल: 
  • यशायाह 28-29
  • फिलिप्पियों 3