बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, November 4, 2017

ईर्ष्या


   सन 2014 में, कैलिफ़ोर्निया विश्वविद्यालय की एक शोधकर्ता ने खिलौने के कुत्ते के द्वारा दिखाया कि पशु भी ईर्ष्या रख सकते हैं। प्रोफ़ेस्सर क्रिस्टीन हैरिस ने कुछ कुत्तों के स्वामियों से कहा कि वे अपने पालतु कुत्तों की उपस्थिति में एक खेलने वाले कुत्ते से प्रेम दिखाएं। उन्होंने पाया कि ऐसा करने पर तीन चौथाई कुत्तों ने किसी न किसी रूप में ईर्ष्या दिखाई। कुछ कुत्तों ने अपनी ओर ध्यान आकर्षित करने के लिए अपने मालिकों को स्पर्श किया या हलका सा धक्का दिया। कुछ ने अपने स्वामी और उस खिलौने के बीच में आने का प्रयास किया। कुछ ने तो उस खिलौने के कुत्ते पर भौंकने या उसको काटने का प्रयास भी किया।

   कुत्तों में ईर्ष्या होना अच्छा लगता है; परन्तु मनुष्यों में ईर्ष्या के परिणाम कुछ कम प्रशंसनीय होते हैं। परन्तु फिर भी परमेश्वर के वचन बाइबल के प्रमुख पात्रों में से, मूसा और पौलुस हमें स्मरण दिलाते हैं कि एक और भी ईर्ष्या है - वह जो हमारे प्रति परमेश्वर के हृदय की भावनाओं को प्रतिबिंबित करती है।

   पौलुस ने कुरिन्थुस में मसीही विश्वासियों की मण्डली को लिखी अपनी पत्री में कहा, "मैं तुम्हारे विषय मे ईश्वरीय धुन लगाए रहता हूं" (2 कुरिन्थियों 11:2)। उसे चिंता थी कि उनके "मन उस सीधाई और पवित्रता से जो मसीह के साथ होनी चाहिए कहीं भ्रष्‍ट न किए जाएं" (2 कुरिन्थियों 11:3)। यह वह ईर्ष्या है जो परमेश्वर के हृदय की उस भावना को दिखाती है जिसके विषय परमेश्वर ने मूसा से अपनी दस आज्ञाएं देते हुए, अन्य देवी-देवताओं की उपासना करने के विषय में कहा, "तू उन को दण्डवत न करना, और न उनकी उपासना करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा जलन रखने वाला ईश्वर हूं, और जो मुझ से बैर रखते है, उनके बेटों, पोतों, और परपोतों को भी पितरों का दण्ड दिया करता हूं" (निर्गमन 20:5)।

   परमेश्वर की ईर्ष्या हमारे स्वार्थी प्रेम के समान या किसी दुर्भावना से नहीं है। उसका हृदय उसके लोगों के प्रति, जो उसकी सृष्टि हैं और जिन्होंने उसपर किए गए विश्वास द्वारा उद्धार पाया है, परमेश्वर की सुरक्षा की प्रवृत्ति को प्रगट करता है - कहीं वे बहक कर या किसी गलत धारण मेम पड़कर किसी हाने में न पड़ जाएं। उसकी "ईर्ष्या", उसके लोगों के प्रति उसकी सुरक्षा भावना, उन्हें हानि से बचाए रखने का प्रगटिकरण है। उसने हमें बनाया है, हमें पापों से छुड़ाया है, जिससे कि हम सदा उसमें आनन्दित रह सकें। हम इससे अधिक उस परमेश्वर से, जो हमारी खुशी, सुरक्षा और भलाई के लिए इतना समर्पित है, इतनी "ईर्ष्या" रखता है, और क्या माँग सकते हैं? - मार्ट डीहॉन


परमेश्वर हम में से प्रत्येक से इतना प्रेम करता है, 
मानो प्रेम करने के लिए बस हम ही एकमात्र उसके पास हैं। - औगस्टीन

क्योंकि तुम्हें किसी दूसरे को ईश्वर कर के दण्डवत करने की आज्ञा नहीं, क्योंकि यहोवा जिसका नाम जलनशील है, वह जल उठने वाला ईश्वर है ही - निर्गमन 34:14

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 11:1-4
2 Corinthians 11:1 यदि तुम मेरी थोड़ी मूर्खता सह लेते तो क्या ही भला होता; हां, मेरी सह भी लेते हो। 
2 Corinthians 11:2 क्योंकि मैं तुम्हारे विषय में ईश्वरीय धुन लगाए रहता हूं, इसलिये कि मैं ने एक ही पुरूष से तुम्हारी बात लगाई है, कि तुम्हें पवित्र कुंवारी के समान मसीह को सौंप दूं। 
2 Corinthians 11:3 परन्तु मैं डरता हूं कि जैसे सांप ने अपनी चतुराई से हव्‍वा को बहकाया, वैसे ही तुम्हारे मन उस सीधाई और पवित्रता से जो मसीह के साथ होनी चाहिए कहीं भ्रष्‍ट न किए जाएं। 
2 Corinthians 11:4 यदि कोई तुम्हारे पास आकर, किसी दूसरे यीशु को प्रचार करे, जिस का प्रचार हम ने नहीं किया: या कोई और आत्मा तुम्हें मिले; जो पहिले न मिला था; या और कोई सुसमाचार जिसे तुम ने पहिले न माना था, तो तुम्हारा सहना ठीक होता।

एक साल में बाइबल: 
  • यिर्मयाह 32-33
  • इब्रानियों 1