बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, April 16, 2019

देना



      एक पास्टर ने चर्च के लोगों के सामने बेचैन करने वाली चुनौती रखते हुए कहा, “कैसा हो यदि हम अपने कोट उतार कर उन्हें दे दें जिनके पास नहीं हैं, और जिन्हें आवश्यकता है?” यह कहकर उसने अपना कोट उतारा और चर्च के आगे रख दिया। उसके बाद कई औरों ने भी उसके उदाहरण का अनुसरण किया और अपने कोट उतारकर सामने रख दिए। यह सर्दियों में हुआ, इसलिए कुछ के लिए उस दिन घर वापस जाना कुछ कम आरामदायक था, परन्तु कुछ अन्य के लिए सर्दी के उस मौसम में कुछ गर्माहट आ गई।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में हम पाते हैं कि यूहन्ना बपतिस्मा देने वाले ने उसके पास उसका सन्देश सुनने और बपतिस्मा लेने के लिए आने वालों को एक कड़ी चेतावनी दी। उसने कहा, “हे सांप के बच्चों... मन फिराव के योग्य फल लाओ” (लूका 3:7-8)। उन लोगों ने चकित होकर उससे पूछा “हम क्या करें?” इस पर जब, “लोगों ने उस से पूछा, तो हम क्या करें? उसने उन्हें उतर दिया, कि जिस के पास दो कुरते हों वह उसके साथ जिस के पास नहीं हैं बांट दे और जिस के पास भोजन हो, वह भी ऐसा ही करे” (पद 10-11)। सच्चा पश्चाताप उदार हृदय उत्पन्न करता है: “मैं ने तुम्हें सब कुछ कर के दिखाया, कि इस रीति से परिश्रम करते हुए निर्बलों को सम्भालना, और प्रभु यीशु की बातें स्मरण रखना अवश्य है, कि उसने आप ही कहा है; कि लेने से देना धन्य है” (प्रेरितों 20:35)।

      क्योंकि वचन में लिखा है कि “हर एक जन जैसा मन में ठाने वैसा ही दान करे न कुढ़ कुढ़ के, और न दबाव से, क्योंकि परमेश्वर हर्ष से देने वाले से प्रेम रखता है” (2 कुरिन्थियों 9:7); इसलिए देना कभी भी दोष-भावना या किसी दबाव से प्रेरित होकर नहीं होना चाहिए। जब हम मुक्त भाव से और उदारता से देते हैं, तो हम पाएँगे कि वास्तव में लेने से देना धन्य है। - टिम गुस्ताफसन


उदार प्राणी हृष्ट पुष्ट हो जाता है, और जो औरों की खेती सींचता है, उसकी भी सींची जाएगी। - नीतिवचन 11:25

बाइबल पाठ: लूका 3:7-14
Luke 3:7 जो भीड़ की भीड़ उस से बपतिस्मा लेने को निकल कर आती थी, उन से वह कहता था; हे सांप के बच्चों, तुम्हें किस ने जता दिया, कि आने वाले क्रोध से भागो।
Luke 3:8 सो मन फिराव के योग्य फल लाओ: और अपने अपने मन में यह न सोचो, कि हमारा पिता इब्राहीम है; क्योंकि मैं तुम से कहता हूं, कि परमेश्वर इन पत्थरों से इब्राहीम के लिये सन्तान उत्पन्न कर सकता है।
Luke 3:9 और अब ही कुल्हाड़ा पेड़ों की जड़ पर धरा है, इसलिये जो जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में झोंका जाता है।
Luke 3:10 और लोगों ने उस से पूछा, तो हम क्या करें?
Luke 3:11 उसने उन्हें उतर दिया, कि जिस के पास दो कुरते हों वह उसके साथ जिस के पास नहीं हैं बांट दे और जिस के पास भोजन हो, वह भी ऐसा ही करे।
Luke 3:12 और महसूल लेने वाले भी बपतिस्मा लेने आए, और उस से पूछा, कि हे गुरू, हम क्या करें?
Luke 3:13 उसने उन से कहा, जो तुम्हारे लिये ठहराया गया है, उस से अधिक न लेना।
Luke 3:14 और सिपाहियों ने भी उस से यह पूछा, हम क्या करें? उसने उन से कहा, किसी पर उपद्रव न करना, और न झूठा दोष लगाना, और अपनी मजदूरी पर सन्‍तोष करना।

एक साल में बाइबल:  
  • 1 शमूएल 30-31
  • लूका 13:23-35