बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, January 3, 2020

महिमा



      यूरोप घूमने का एक आनन्द है वहाँ स्थित उन भव्य और विशाल चर्च भवनों (कैथीड्रल्स) को देख पाना जो वहाँ के अनेकों स्थानों पर बने हुए हैं। वे भवन बहुत सुन्दर हैं और ऊँचें हैं। उनकी वस्तुकला, उनके अंदर बनी कलाकृतियाँ, और उन सब में पाई जाने वाली प्रतीकात्मकता एक भव्य तथा चम्तकारिक अनुभव प्रदान करती है।

      मैं जब यह सोच रहा था कि इन भवनों को परमेश्वर की महिमा और कल्पना से भी परे उसके वैभव की अनुभूति देने के लिए बनाया गया था, तब साथ ही मेरे मन में यह विचार भी आया कि हम अपने हृदय और मस्तिष्क में परमेश्वर की इस महान महिमा और वैभव को कैसे सजीव रख सकते हैं जिससे हमें बारंबार उसकी महानता का एहसास होता रहे।

      ऐसा करने का एक तरीका हो सकता मानव-निर्मित भव्य रचनाओं से दृष्टि ऊपर उठा कर परमेश्वर की रचना की महानता पर विचार करें। सितारों से भारे रात के आकाश को देखने से ही परमेश्वर की उस सामर्थ्य का एहसास होने लगता है जिसके द्वारा उसने कहा और यह सब हो गया। एक नवजात शिशु को अपने हाथों में लें और और जीवन के आश्चर्यकर्म के लिए परमेश्वर का धन्यवाद करें। बर्फ से ढके ऊंचे पहाड़ों और विशाल महासागरों तथा उनमें रहने वाले असंख्य परमेश्वर द्वारा रचे गए जीवों के बारे में विचार करें, और उस सामर्थ्य की कल्पना करने का प्रयास करें जो इन सब को संभव तथा परस्पर ताल-मेल के साथ बनाए रखने तथा चलाने के लिए आवश्यक है।

      परमेश्वर की ओर संकेत करने वाली भव्य गगन-चुंबी इमारतें बनाने में मनुष्यों ने कुछ गलत नहीं किया है। परन्तु हमारी सबसे सच्ची सराहना और प्रशंसा परमेश्वर के वचन के इस पद, “हे यहोवा! महिमा, पराक्रम, शोभा, सामर्थ्य और वैभव, तेरा ही है; क्योंकि आकाश और पृथ्वी में जो कुछ है, वह तेरा ही है; हे यहोवा! राज्य तेरा है, और तू सभों के ऊपर मुख्य और महान ठहरा है” (1 इतिहास 29:11) के अनुसार, परमेश्वर ही के लिए होनी चाहिए। - डेव ब्रैनन

केवल परमेश्वर ही हमारी आराधना के योग्य है।

आकाश ईश्वर की महिमा वर्णन कर रहा है; और आकशमण्डल उसकी हस्तकला को प्रगट कर रहा है। - भजन 19:1

बाइबल पाठ: 1 इतिहास 29:10-13

1 Chronicles 29:10 तब दाऊद ने सारी सभा के सम्मुख यहोवा का धन्यवाद किया, और दाऊद ने कहा, हे यहोवा! हे हमारे मूल पुरुष इस्राएल के परमेश्वर! अनादिकाल से अनन्तकाल तक तू धन्य है।
1 Chronicles 29:11 हे यहोवा! महिमा, पराक्रम, शोभा, सामर्थ्य और वैभव, तेरा ही है; क्योंकि आकाश और पृथ्वी में जो कुछ है, वह तेरा ही है; हे यहोवा! राज्य तेरा है, और तू सभों के ऊपर मुख्य और महान ठहरा है।
1 Chronicles 29:12 धन और महिमा तेरी ओर से मिलती हैं, और तू सभों के ऊपर प्रभुता करता है। सामर्थ्य और पराक्रम तेरे ही हाथ में हैं, और सब लोगों को बढ़ाना और बल देना तेरे हाथ में है।
1 Chronicles 29:13 इसलिये अब हे हमारे परमेश्वर! हम तेरा धन्यवाद और तेरे महिमायुक्त नाम की स्तुति करते हैं।

एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 7-9
  • मत्ती 3