बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, April 27, 2020

बुद्धि



     विख्यात ब्रिटिश पत्रकार और सामाजिक आलोचक, मैल्कम मग्रिज, साठ वर्ष की आयु में मसीही विश्वास में आए। अपने पचहत्तरवें जन्म दिन पर उन्होंने अपने अनुभवों के आधार पर जीवन से सम्बंधित पच्चीस व्यावाहारिक बातें बताईं। उनमें से एक थी, “मैं आज तक किसी ऐसे धनी व्यक्ति से नहीं मिला हूँ जो सुखी था, परन्तु शायद ही कभी किसी ऐसे निर्धन व्यक्ति से मिला होऊंगा जो धनी होना नहीं चाहता हो।” हम में से अधिकाँश इस बात से सहमत होंगे कि धन हमें खुशी नहीं दे सकता है, परन्तु फिर भी हम में से अधिकाँश और अधिक धन रखना चाहेंगे जिससे निश्चिन्त रह सकें।

     परमेश्वर के वचन बाइबल में संसार के सबसे धनी और सबसे बुद्धिमान व्यक्ति, राजा सुलैमान, के जीवन का विवरण दिया गया है। उस विवरण के आधार पर, सुलैमान की संपत्ति दो ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर से भी अधिक मूल्य की आंकी गई है। यद्यपि वह बहुत धनी था, परन्तु उसे यह भी ज्ञात था कि धन की बहुत सीमाएं भी होती हैं। उसके द्वारा लिखे गए नीतिवचनों के संकलन में नीतिवचन की पुस्तक का अध्याय 8 इस विषय पर उसके अनुभव पर आधारित है। सुलैमान बुद्धि द्वारा, एक व्यक्ति के रूप में, कही जा रही बातों को लिखता है : “हे मनुष्यों, मैं तुम को पुकारती हूं, और मेरी बात सब आदमियों के लिये है...क्योंकि मुझ से सच्चाई की बातों का वर्णन होगा; दुष्टता की बातों से मुझ को घृणा आती है” (पद 4-7); “चान्दी नहीं, मेरी शिक्षा ही को लो, और उत्तम कुन्दन से बढ़ कर ज्ञान को ग्रहण करो। क्योंकि बुद्धि, मूंगे से भी अच्छी है, और सारी मनभावनी वस्तुओं में कोई भी उसके तुल्य नहीं है” (पद 10-11)।

     बुद्धि कहती है, “मेरा फल चोखे सोने से, वरन कुन्दन से भी उत्तम है, और मेरी उपज उत्तम चान्दी से अच्छी है। मैं धर्म की बाट में, और न्याय की डगरों के बीच में चलती हूं, जिस से मैं अपने प्रेमियों को परमार्थ के भागी करूं, और उनके भण्डारों को भर दूं” (पद 19-21)।
     यही बुद्धि वास्तविक धन है। - डेविड सी. मेक्कैसलैंड

जितने उस के खोजी होकर उस का अनुसरण करते हैं, 
परमेश्वर उन सभी को बुद्धि का सच्चा धन प्रदान करता है।

यहोवा का भय मानना बुद्धि का आरम्भ है, और परमपवित्र ईश्वर को जानना ही समझ है। - नीतिवचन 9:10

बाइबल पाठ: नीतिवचन 8:10-21
नीतिवचन 8:10 चान्दी नहीं, मेरी शिक्षा ही को लो, और उत्तम कुन्दन से बढ़ कर ज्ञान को ग्रहण करो।
नीतिवचन 8:11 क्योंकि बुद्धि, मूंगे से भी अच्छी है, और सारी मनभावनी वस्तुओं में कोई भी उसके तुल्य नहीं है।
नीतिवचन 8:12 मैं जो बुद्धि हूं, सो चतुराई में वास करती हूं, और ज्ञान और विवेक को प्राप्त करती हूं।
नीतिवचन 8:13 यहोवा का भय मानना बुराई से बैर रखना है। घमण्ड, अंहकार, और बुरी चाल से, और उलट फेर की बात से भी मैं बैर रखती हूं।
नीतिवचन 8:14 उत्तम युक्ति, और खरी बुद्धि मेरी ही है, मैं तो समझ हूं, और पराक्रम भी मेरा है।
नीतिवचन 8:15 मेरे ही द्वारा राजा राज्य करते हैं, और अधिकारी धर्म से विचार करते हैं;
नीतिवचन 8:16 मेरे ही द्वारा राजा हाकिम और रईस, और पृथ्वी के सब न्यायी शासन करते हैं।
नीतिवचन 8:17 जो मुझ से प्रेम रखते हैं, उन से मैं भी प्रेम रखती हूं, और जो मुझ को यत्न से तड़के उठ कर खोजते हैं, वे मुझे पाते हैं।
नीतिवचन 8:18 धन और प्रतिष्ठा मेरे पास है, वरन ठहरने वाला धन और धर्म भी हैं।
नीतिवचन 8:19 मेरा फल चोखे सोने से, वरन कुन्दन से भी उत्तम है, और मेरी उपज उत्तम चान्दी से अच्छी है।
नीतिवचन 8:20 मैं धर्म की बाट में, और न्याय की डगरों के बीच में चलती हूं,
नीतिवचन 8:21 जिस से मैं अपने प्रेमियों को परमार्थ के भागी करूं, और उनके भण्डारों को भर दूं।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 राजाओं 1-2
  • लूका 19:28-48