बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, March 5, 2018

समक्ष


   जब टेलीफोन, ई-मेल, और मोबाइल फोन नहीं थे, तब समाचार को एक से दूसरे स्थान संप्रेषित करने का सबसे तीव्र साधन टेलीग्राम हुआ करता था। केवल बहुत महत्वपूर्ण समाचार ही टेलीग्राम द्वारा भेजे जाते थे, और बहुधा, यह समाचार दुखद ही होता था। इसलिए कहा जाने लगा कि “टेलीग्राम वाला बुरी खबर ही लाता है।”

   परमेश्वर के वचन बाइबल में हम इस्राएल के इतिहास से संबंधित एक घटना को देखते हैं, जब यहूदा का राजा हिजकिय्याह था। अश्शूर के राजा सन्हेरीब ने यहूदा पर चढ़ाई की और यहूदा के नगरों को कब्ज़े में ले लिया। फिर उसने हिजकिय्याह को, अपने सेनापति रबशाके के हाथों, एक पत्र भेजा, एक बुरे समाचार का “टेलीग्राम” और उससे समर्पण कर देने को कहा। हिजकिय्याह ने उस दिन के विषय कहा कि “...आज का दिन संकट, और उलहने, और निन्दा का दिन है...” (2 राजा 19:3)।

   निन्दा और उपहास के शब्दों का प्रयोग करते हुए सन्हेरीब ने अपने अन्य सैन्य अभियानों की शेखी बघारी और इस्राएल के परमेश्वर को तुच्छ समझा, तथा समर्पण न करने की स्थिति में होने वाले युद्ध में यहूदा पर भयानक विनाश ढाने की धमकी दी (पद 11-13)। उस विकट स्थिति और भयावह घड़ी में हिजकिय्याह ने उस बुरे समाचार वाले पत्र के साथ कुछ आसामान्य किया – “तब यहोवा के भवन में जा कर उसको यहोवा के साम्हने फैला दिया” (पद 14)। फिर उसने परमेश्वर से आग्रह-पूर्वक प्राथना की, अपनी उदासीन स्थिति पर परमेश्वर की सामर्थ्य और नियंत्रण को स्वीकार किया, और उससे सहायता माँगी। परमेश्वर ने हिजकिय्याह की प्रार्थना के उत्तर में परिस्थति में सामर्थी रूप से हस्तक्षेप किया, और उन्हें सन्हेरीब के हाथों से बचा लिया (पद 35-36)।

   बुरा समाचार हमारे पास कभी भी आ सकता है। ऐसी परिस्थितियों में हिजकिय्याह का उदाहरण हमारे लिए अनुकरणीय है। उस समाचार को प्रार्थना में परमेश्वर के समक्ष ले आएँ उसके सामने फैला दें, परमेश्वर से उसकी सामर्थ्य और समाधान का अनुरोध करें, और उसके आश्वासन “...जो प्रार्थना तू ने अश्शूर के राजा सन्हेरीब के विषय मुझ से की, उसे मैं ने सुना है” (2 राजा 19: 20) में आश्वस्त रहें। - लौरेंस दर्मानी


प्रार्थना असहाय बच्चे की पिता के कानों के लिए पुकार है।

अब, हे प्रभु, उन की धमकियों को देख; और अपने दासों को यह वरदान दे, कि तेरा वचन बड़े हियाव से सुनाएं। - प्रेरितों 4:29

बाइबल पाठ: 2 राजा 19:8-20
2 Kings 19:8 तब रबशाके ने लौटकर अश्शूर के राजा को लिब्ना नगर से युद्ध करते पाया, क्योंकि उसने सुना था कि वह लाकीश के पास से उठ गया है।
2 Kings 19:9 और जब उसने कूश के राजा तिर्हाका के विष्य यह सुना, कि वह मुझ से लड़ने को निकला है, तब उसने हिजकिय्याह के पास दूतों को यह कह कर भेजा,
2 Kings 19:10 तुम यहूदा के राजा हिजकिय्याह से यों कहना: तेरा परमेश्वर जिसका तू भरोसा करता है, यह कह कर तुझे धोखा न देने पाए, कि यरूशलेम अश्शूर के राजा के वश में न पड़ेगा।
2 Kings 19:11 देख, तू ने तो सुना है अश्शूर के राजाओं ने सब देशों से कैसा व्यवहार किया है उन्हें सत्यानाश कर दिया है। फिर क्या तू बचेगा?
2 Kings 19:12 गोजान और हारान और रेसेप और तलस्सार में रहने वाले एदेनी, जिन जातियों को मेरे पुरखाओं ने नाश किया, क्या उन में से किसी जाति के देवताओं ने उसको बचा लिया?
2 Kings 19:13 हमात का राजा, और अर्पाद का राजा, और समवैंम नगर का राजा, और हेना और इव्वा के राजा ये सब कहां रहे? इस पत्री को हिजकिय्याह ने दूतों के हाथ से ले कर पढ़ा।
2 Kings 19:14 तब यहोवा के भवन में जा कर उसको यहोवा के साम्हने फैला दिया।
2 Kings 19:15 और यहोवा से यह प्रार्थना की, कि हे इस्राएल के परमेश्वर यहोवा! हे करूबों पर विराजने वाले ! पृथ्वी के सब राज्यों के ऊपर केवल तू ही परमेश्वर है। आकाश और पृथ्वी को तू ही ने बनाया है।
2 Kings 19:16 हे यहोवा! कान लगाकर सुन, हे यहोवा आंख खोल कर देख, और सन्हेरीब के वचनों को सुन ले, जो उसने जीवते परमेश्वर की निन्दा करने को कहला भेजे हैं।
2 Kings 19:17 हे यहोवा, सच तो है, कि अश्शूर के राजाओं ने जातियों को और उनके देशों को उजाड़ा है।
2 Kings 19:18 और उनके देवताओं को आग में झोंका है, क्योंकि वे ईश्वर न थे; वे मनुष्यों के बनाए हुए काठ और पत्थर ही के थे; इस कारण वे उन को नाश कर सके।
2 Kings 19:19 इसलिये अब हे हमारे परमेश्वर यहोवा तू हमें उसके हाथ से बचा, कि पृथ्वी के राज्य राज्य के लोग जान लें कि केवल तू ही यहोवा है।
2 Kings 19:20 तब आमोस के पुत्र यशायाह ने हिजकिय्याह के पास यह कहला भेजा, कि इस्राएल का परमेश्वर यहोवा यों कहता है, कि जो प्रार्थना तू ने अश्शूर के राजा सन्हेरीब के विषय मुझ से की, उसे मैं ने सुना है।


एक साल में बाइबल: 
  • गिनती 34-36
  • मरकुस 9:30-50