बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, January 15, 2019

सेवा



      मैंने जब अपने अँगरेज़ मंगेतर से विवाह किया था और उसके साथ इंग्लैण्ड आई, तो मेरा विचार था कि यह विदेशी भूमि पर लगभग पाँच वर्ष तक का रोमाँच होगा। मैंने कभी यह कल्पना भी नहीं की थी कि बीस वर्ष पश्चात भी मैं यहीं पर रह रही होऊंगी। न ही मुझे इस बात का बोध था कि अपने पुराने मित्रों, परिवार जनों, और जीवन की परिचित परिस्थियों को छोड़ आने के द्वारा कभी-कभी मुझे ऐसा लगेगा मानों मैंने अपने जीवन को खो दिया है। परन्तु उस पुराने जीवन को खो देने के द्वारा मैंने एक और भी अधिक अच्छे जीवन को पाया है।

      प्रभु यीशु ने अपने शिष्यों से ऐसे ही उलट-पुलट के जीवन की प्रतिज्ञा की थी, जब उसने उनसे कहा कि उसके लिए अपना जीवन खो देने के द्वारा ही वे नया और उत्तम जीवन पाएँगे। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम पाते हैं कि जब प्रभु ने अपने शिष्यों को सुसमाचार प्रचार के लिए भेजा, तो उनसे कहा कि वे उससे अपने माता-पिता, और बच्चों से भी अधिक प्रेम रखें (मत्ती 10:37)। उसने ये शब्द ऐसे समाज और संस्कृति में कहे थे जहाँ परिवार ही समाज की नींव और बहुमूल्य माना जाता था। परन्तु उसने उन्हें यह भी आश्वासन दिया कि यदि वे उसके लिए अपना जीवन खो भी देंगे, तो भी उसे पा लेंगे (पद 39)।

      हमें अपने आप को मसीह यीशु में पा लेने के लिए विदेश जाने के आवश्यकता नहीं है। जैसे उन शिष्यों ने प्रभु के सुसमाचार प्रचार के लिए जाने के प्रति अपनी आज्ञाकारिता और समर्पण को दिखाया, उसकी सेवा के प्रति उसी प्रकार का समर्पण और आज्ञाकारिता रखने के द्वारा हम भी पाएँगे कि प्रभु के लिए हम जितना गंवाएंगे, हमारे प्रति उसके उदार प्रेम और अद्भुत आशीषों में होकर हम उससे भी कहीं अधिक प्रभु से पा लेंगे।

      यह सत्य है कि वह हमसे सदा ही अपार प्रेम करता है, हम चाहे उसकी कितनी भी सेवा करते हों। किन्तु जब हम उसकी आज्ञाकारिता में होकर औरों की सेवा करते हैं तो अपने जीवनों में संतुष्टि, सार्थकता और तृप्ति पाते हैं। - एमी बाउचर पाई


छोड़ी गई प्रत्येक बात के रिक्त स्थान में परमेश्वर अपनी उपस्थिति से कुछ भर देता है।

यीशु ने कहा, मैं तुम से सच कहता हूं, कि ऐसा कोई नहीं, जिसने मेरे और सुसमाचार के लिये घर या भाइयों या बहिनों या माता या पिता या लड़के-बालों या खेतों को छोड़ दिया हो। और अब इस समय सौ गुणा न पाए, घरों और भाइयों और बहिनों और माताओं और लड़के-बालों और खेतों को पर उपद्रव के साथ और परलोक में अनन्त जीवन। - मरकुस 10:29-30

बाइबल पाठ: मत्ती 10:37-42
Matthew 10:37 जो माता या पिता को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं और जो बेटा या बेटी को मुझ से अधिक प्रिय जानता है, वह मेरे योग्य नहीं।
Matthew 10:38 और जो अपना क्रूस ले कर मेरे पीछे न चले वह मेरे योग्य नहीं।
Matthew 10:39 जो अपने प्राण बचाता है, वह उसे खोएगा; और जो मेरे कारण अपना प्राण खोता है, वह उसे पाएगा।
Matthew 10:40 जो तुम्हें ग्रहण करता है, वह मुझे ग्रहण करता है; और जो मुझे ग्रहण करता है, वह मेरे भेजने वाले को ग्रहण करता है।
Matthew 10:41 जो भविष्यद्वक्ता को भविष्यद्वक्ता जानकर ग्रहण करे, वह भविष्यद्वक्ता का बदला पाएगा; और जो धर्मी जानकर धर्मी को ग्रहण करे, वह धर्मी का बदला पाएगा।
Matthew 10:42 जो कोई इन छोटों में से एक को चेला जानकर केवल एक कटोरा ठंडा पानी पिलाए, मैं तुम से सच कहता हूं, वह किसी रीति से अपना प्रतिफल न खोएगा।
                                                                                                                                                        
एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 36-38
  • मत्ती 10:21-42