बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, July 28, 2019

क्षमा



      मेरा मित्र नौर्म कुक जब काम से वापस घर लौटता है तो कभी-कभी अपने परिवार को चकित कर देता है। वह घर के मुख्य द्वार से प्रवेश करके, ऊँची आवाज़ में सभी उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए ऊँची आवाज़ में कहता है, “तुम सब क्षमा किए गए हो!” यह इसलिए नहीं क्योंकि परिवार के सदस्यों ने उसके विरुद्ध कुछ गलत किया होता है और उन्हें उससे क्षमा की आवश्यकता होती है। वह तो बस उन्हें स्मरण दिला रहा होता है कि निःसंदेह, दिन भर में उनसे कोई न कोई पाप हुआ होगा, परन्तु परमेश्वर ने अपने अनुग्रह में होकर उन सब को क्षमा किया है।

      परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित यूहन्ना अनुग्रह के विषय यह लिखता है: “पर यदि जैसा वह ज्योति में है, वैसे ही हम भी ज्योति में चलें, तो एक दूसरे से सहभागिता रखते हैं; और उसके पुत्र यीशु का लोहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है। यदि हम कहें, कि हम में कुछ भी पाप नहीं, तो अपने आप को धोखा देते हैं: और हम में सत्य नहीं। यदि हम अपने पापों को मान लें, तो वह हमारे पापों को क्षमा करने, और हमें सब अधर्म से शुद्ध करने में विश्वासयोग्य और धर्मी है” (1 यूहन्ना 1:7-9)।

      “ज्योति में चलना” प्रभु यीशु का अनुसरण करने को आलंकारिक रीति से कहना है। यूहन्ना बल देता है कि पवित्र-आत्मा की सहायता से प्रभु यीशु का अनुसरण करना इस बात का चिन्ह है कि विश्वास की संगति में हम भी प्रेरितों के साथ सम्मिलित हो गए हैं; हम वास्तविक मसीही हैं। किन्तु वह आगे कहता है, हम धोखा न खाएं: कभी-कभी हम गलत चुनाव करेंगे। फिर भी परमेश्वर का अनुग्रह भरपूरी से हमें प्रदान किया गया है; हमें जैसी भी क्षमा की आवश्यकता है वह हमारे लिए उपलब्ध है।

      हम सिद्ध नहीं है; बस प्रभु यीशु द्वारा क्षमा किए गए हैं! यही आज के लिए सुसमाचार है – प्रभु यीशु से पापों की क्षमा सभी के लिए उपलब्ध है। - डेविड रोपर


परमेश्वर की बुद्धिमत्ता से भटक जाने से बचे रहने के लिए,
 प्रतिदिन अपने मनों को जांचते रहें।

हे परमेश्वर, मेरे अन्दर शुद्ध मन उत्पन्न कर, और मेरे भीतर स्थिर आत्मा नये सिरे से उत्पन्न कर। - भजन 51:10

बाइबल पाठ: 1 यूहन्ना 1:1-10
1 John 1:1 उस जीवन के वचन के विषय में जो आदि से था, जिसे हम ने सुना, और जिसे अपनी आंखों से देखा, वरन जिसे हम ने ध्यान से देखा; और हाथों से छूआ।
1 John 1:2 (यह जीवन प्रगट हुआ, और हम ने उसे देखा, और उस की गवाही देते हैं, और तुम्हें उस अनन्त जीवन का समाचार देते हैं, जो पिता के साथ था, और हम पर प्रगट हुआ)।
1 John 1:3 जो कुछ हम ने देखा और सुना है उसका समाचार तुम्हें भी देते हैं, इसलिये कि तुम भी हमारे साथ सहभागी हो; और हमारी यह सहभागिता पिता के साथ, और उसके पुत्र यीशु मसीह के साथ है।
1 John 1:4 और ये बातें हम इसलिये लिखते हैं, कि हमारा आनन्द पूरा हो जाए।
1 John 1:5 जो समाचार हम ने उस से सुना, और तुम्हें सुनाते हैं, वह यह है; कि परमेश्वर ज्योति है: और उस में कुछ भी अन्धकार नहीं।
1 John 1:6 यदि हम कहें, कि उसके साथ हमारी सहभागिता है, और फिर अन्धकार में चलें, तो हम झूठे हैं: और सत्य पर नहीं चलते।
1 John 1:7 पर यदि जैसा वह ज्योति में है, वैसे ही हम भी ज्योति में चलें, तो एक दूसरे से सहभागिता रखते हैं; और उसके पुत्र यीशु का लोहू हमें सब पापों से शुद्ध करता है।
1 John 1:8 यदि हम कहें, कि हम में कुछ भी पाप नहीं, तो अपने आप को धोखा देते हैं: और हम में सत्य नहीं।
1 John 1:9 यदि हम अपने पापों को मान लें, तो वह हमारे पापों को क्षमा करने, और हमें सब अधर्म से शुद्ध करने में विश्वासयोग्य और धर्मी है।
1 John 1:10 यदि कहें कि हम ने पाप नहीं किया, तो उसे झूठा ठहराते हैं, और उसका वचन हम में नहीं है।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 46-48
  • प्रेरितों 28