बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, November 10, 2019

शान्तिदायक


      नर्स ने मेरे विषय अपने विवरण में लिखा, “मरीज़ बहुत हाथ-पाँव मार रहा है।” उसे उस समय तो पता नहीं चला, बाद में पता चला कि मैं दिल की शल्यचिकित्सा होने के बाद, जब होश में आने लगा, तो मुझे किसी चीज़ से एलर्जी के कारण बहुत बेचैनी होने लगी। मेरे हाल बुरे थे; मुझे सांस दिलाने के लिए एक नाली मेरे गले से होकर श्वास-नली में जा रही थी, जिससे मैं बोल नहीं सकता था; मेरे हाथ बंधे हुए थे, कि कहीं मैं उस सांस लेने वाली नाली को निकाल न दूँ। उस एलर्जी के कारण मेरा शरीर बुरी तरह से कांपने लगा, और मेरे हाथ उन बंधनों से मुक्त होने के लिए जोर लगाने लगे। वह एक बहुत पीड़ादायक और भयावह घटना थी। ऐसे में मेरी दाहिनी और खड़ी एक नर्स की सहायिका ने हलके से मेरा हाथ थाम लिया, और उसे शान्ति से पकड़े रही। वह एक अप्रत्याशित बात थी, और मुझे बहुत कोमल लगी। मैं शांत होने लगा, जिससे फिर मेरे शरीर की प्रतिक्रया भी शांत होने लगी और मेरा हाथ-पैर पटकना बंद हो गया।

      उस नर्स सहायिका ने इस बात का अनुभव अन्य मरीजों के साथ भी किया था, इसलिए वह जानती थी कि कोमलता से पकड़ा हुआ हाथ शांतिदायक होता है, और मुझे भी शान्ति देगा। यह एक प्रत्यक्ष उदाहरण था की किस प्रकार से परमेश्वर शान्ति प्रदान करता है, जब उसके बच्चे कष्ट में होते हैं।

      किसी भी देखभाल करने वाले के लिए, परिस्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए, शांतिदायक होना एक बहुत सामर्थी और स्मरणीय तरीका है। परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रेरित पौलुस 2 कुरिन्थियों 1:3-4 में बताता है की यह परमेश्वर के उपयोगी उपकरणों में से एक महत्वपूर्ण उपकरण है। इतना ही नहीं, परन्तु परमेश्वर उसके द्वारा हमें प्रदान की गयी शान्ति के प्रभाव को कई गुणा और बढ़ाता है, जब वह हमें कहता है कि हम उसके द्वारा हमें मिलने वाली शान्ति की स्मृति को औरों के जीवन में, जो वैसी ही परिस्थितियों में फंसे हों, शान्ति लाने के लिए प्रयोग करें (पद 4-7)। यह उसके महान प्रेम का एक और चिन्ह है; एक ऐसा चिन्ह जिसे हम औरों के साथ बाँट सकते हैं – एक साधारण से हाथ पकड़ने के द्वारा भी, और परमेश्वर की ओर से दुखी लोगों के लिए शांतिदायक हो सकते हैं। - रैंडी किल्गोर

साधारण से कार्य भी प्रबल शांतिदायक हो सकते हैं।

मैं तुम्हें शान्‍ति दिए जाता हूं, अपनी शान्‍ति तुम्हें देता हूं; जैसे संसार देता है, मैं तुम्हें नहीं देता: तुम्हारा मन न घबराए और न डरे। - यूहन्ना 14:27

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 1:3-7
2 Corinthians 1:3 हमारे प्रभु यीशु मसीह के परमेश्वर, और पिता का धन्यवाद हो, जो दया का पिता, और सब प्रकार की शान्‍ति का परमेश्वर है।
2 Corinthians 1:4 वह हमारे सब क्‍लेशों में शान्‍ति देता है; ताकि हम उस शान्‍ति के कारण जो परमेश्वर हमें देता है, उन्हें भी शान्‍ति दे सकें, जो किसी प्रकार के क्‍लेश में हों।
2 Corinthians 1:5 क्योंकि जैसे मसीह के दुख हम को अधिक होते हैं, वैसे ही हमारी शान्‍ति भी मसीह के द्वारा अधिक होती है।
2 Corinthians 1:6 यदि हम क्‍लेश पाते हैं, तो यह तुम्हारी शान्‍ति और उद्धार के लिये है और यदि शान्‍ति पाते हैं, तो यह तुम्हारी शान्‍ति के लिये है; जिस के प्रभाव से तुम धीरज के साथ उन क्‍लेशों को सह लेते हो, जिन्हें हम भी सहते हैं।
2 Corinthians 1:7 और हमारी आशा तुम्हारे विषय में दृढ़ है; क्योंकि हम जानते हैं, कि तुम जैसे दुखों के वैसे ही शान्‍ति के भी सहभागी हो।

एक साल में बाइबल: 
  • यिर्मयाह 48-49
  • इब्रानियों 7