बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, November 21, 2012

महान आराधना


   परमेश्वर के वचन बाइबल में भजन ८ अचंभित कर देने वाले दो परस्पर तुलनात्मक वाक्यों से होता है। भजन के पहले पद में भजनकार दाऊद बताता है कि परमेश्वर ने अपनी महिमा आकाशमण्डल में प्रगट करी है और इसके एकदम बाद दूसरे पद में वह कहता है: "तू ने अपने बैरियों के कारण बच्चों और दूध पिउवों के द्वारा सामर्थ्य की नेव डाली है, ताकि तू शत्रु और पलटा लेने वालों को रोक रखे" (भजन ८:२)।

   एक बच्चे की आराधना इतनी उभारने वाली क्यों होती है? इसलिए कि एक बच्चा सच्चे मन से परमेश्वर को जानता है और उससे प्रेम करता है, जो सामान्यतः संसार के लोगों में नहीं पाया जाता। प्रभु यीशु के जीवन काल में जब प्रभु यीशु के संबंध में, मन्दिर में बच्चे "दाऊद की सन्तान की होशान्ना" चिल्लाते हुए दौड़ते फिर रहे थे, तो यहूदी धर्म के अगुवों को यह बहुत बुरा लगा और उन्होंने इसपर एतराज़ किया; तब प्रभु यीशु ने उनके सामने इसी भजन ८ का यही पद २ उद्धरित किया (मत्ती २१:१५-१६)। प्रभु यीशु ने इस प्रकार से उन्हें जताया कि जो बात वे धर्म के अगुवे नहीं समझ पा रहे थे, वह उन बच्चों को सम्झ में आ गई थी - कि प्रभु यीशु ही वह परमेश्वर का पुत्र और जगत का उद्धारकर्ता है जिसकी प्रतीक्षा लंबे समय से की जा रही थी।

   एक पिता के रूप में मेरे सबसे स्मरणीय समयों में वे पल हैं जब मैं अपने बच्चों के साथ उनके पलंग के किनारे घुटने टेक कर प्रार्थना में होता था और वे बच्चे बड़े सहज भाव से अपना दिल खोल कर परमेश्वर के सामने रख देते थे। परमेश्वर के प्रति उनके प्रेम और विश्वास की सादगी ने मुझे बहुत बार बड़ी गहराई से छूआ, मेरे भय और शंकाओं का निवारण किया और मुझे विश्वास में बढ़ाया है।

   कभी उन बच्चों को छोटा या गौण ना समझें जो प्रभु यीशु में अपने विश्वास को गंभीरता से लेते हैं (मत्ती१८:६)। उनकी गवाही से सीखें क्योंकि उनका विश्वास और उनकी आराधना आकाशमण्डल जैसी महान है। - डेविड रोपर


बच्चे परमेश्वर के बहुमूल्य रत्न हैं, मसीह यीशु के लिए चमकने में उनकी सहायता करें।

परन्‍तु जब महायाजकों और शास्‍त्रियों ने इन अद्भुत कामों को, जो उस ने किए, और लड़कों को मन्‍दिर में दाऊद की सन्‍तान को होशाना पुकारते हुए देखा, तो क्रोधित होकर उस से कहने लगे, क्‍या तू सुनता है कि ये क्‍या कहते हैं? यीशु ने उन से कहा, हां; क्‍या तुम ने यह कभी नहीं पढ़ा, कि बालकों और दूध पीते बच्‍चों के मुंह से तु ने स्‍तुति सिद्ध कराई। - मत्ती २१:१५-१६

बाइबल पाठ: मत्ती १८:१-१०
Mat 18:1  उसी घड़ी चेले यीशु के पास आकर पूछने लगे, कि स्‍वर्ग के राज्य में बड़ा कौन है? 
Mat 18:2   इस पर उस ने एक बालक को पास बुलाकर उन के बीच में खड़ा किया। 
Mat 18:3  और कहा, मैं तुम से सच कहता हूं, यदि तुम न फिरो और बालकों के समान न बनो, तो स्‍वर्ग के राज्य में प्रवेश करने नहीं पाओगे। 
Mat 18:4  जो कोई अपने आप को इस बालक के समान छोटा करेगा, वह स्‍वर्ग के राज्य में बड़ा होगा। 
Mat 18:5   और जो कोई मेरे नाम से एक ऐसे बालक को ग्रहण करता है वह मुझे ग्रहण करता है। 
Mat 18:6   पर जो कोई इन छोटों में से जो मुझ पर विश्वास करते हैं एक को ठोकर खिलाए, उसके लिये भला होता, कि बड़ी चक्की का पाट उसके गले में लटकाया जाता, और वह गहिरे समुद्र में डुबाया जाता।

एक साल में बाइबल: 
  • यहेजकेल १६-१७ 
  • याकूब ३