बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, August 28, 2018

परमेश्वर



      अपनी पुस्तक The God I Don’t Understand में, परमेश्वर के वचन बाइबल के संदर्भ में, क्रिस्टोफर राईट लिखते हैं कि परमेश्वर को नाम, सबसे पहले एक अति असंगत व्यक्ति, हाजिरा ने दिया। हाजिरा की कहानी मानव इतिहास के विषय एक विचलित करने वाले सत्य को स्पष्टता से प्रस्तुत करती है। अब्राहम और उसकी पत्नि सारा पुत्र को पुत्र उत्पन्न होने की परमेश्वर की प्रतिज्ञा को दिए हुए वर्षों बीत गए थे, और आयु बढ़ने के साथ-साथ इस विषय में सारा की व्याकुलता भी बढ़ती जा रही थी। इसलिए परमेश्वर की “सहायता” करने के लिए उसने अपने समय की एक प्रथा का सहारा लिया। उसने अपनी एक दासी, हाजिरा, को अपने पति को दिया कि उसके लिए सन्तान उत्पन्न करे, और हाजिरा अब्राहम द्वारा गर्भवती हुई।

      जैसा संभावित था, ऐसा होने के पश्चात हाजिरा और सारा के मध्य झगड़ा हुआ और सारा ने हाजिरा के साथ दुर्व्यवहार करना आरंभ किया, जिससे हाजिरा उनके पास से निकल कर भाग गई। वह रेगिस्तान में अकेली थी, जब परमेश्वर के दूत से उसकी भेंट हुई, जिसने उससे वैसी ही प्रतिज्ञा बांधी: “और यहोवा के दूत ने उस से कहा, मैं तेरे वंश को बहुत बढ़ाऊंगा, यहां तक कि बहुतायत के कारण उसकी गणना न हो सकेगी” (उत्पत्ति 16:10), जैसी वर्षों पहले परमेश्वर ने अब्राहम से बांधी थी (देखिए उत्पत्ति 15:5)। उस दूत ने हाजिरा के पुत्र को इश्माएल नाम दिया, जिसका अर्थ होता है “परमेश्वर सुनता है” (पद 11)। प्रत्युत्तर में, यह दासी जो ऐसी संस्कृति और समाज से आई थी जिसमें ऐसे अनेकों देवे-देवता पूजे जाते थे जो न सुन सकते थे और न देख सकते थे, परमेश्वर को नाम देती है “मुझे देखने वाला परमेश्वर” (पद 13)।

      बाइबल का परमेश्वर वह है जो हमें देखता है, वह अधीर नायकों और सामर्थ्यहीन भगोड़ों का परमेश्वर है। वह धनी व्यक्तियों और अच्छे से संबंद्धित का भी परमेश्वर है और निर्धनों तथा बेसहारों का भी परमेश्वर है। वह देखता है, सुनता है, चिंता करता है। वह हम में से प्रत्येक से बहुत प्रेम करता है; इतना कि हमारे लिए उसने अपने एकलौते पुत्र को भी बलिदान कर दिया। - टिम गुस्ताफासन


परमेश्वर हमें करुणा के साथ देखता है।

क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए। - यूहन्ना 3:16

बाइबल पाठ: उत्पत्ति 16:1-13
Genesis 16:1 अब्राम की पत्नी सारै के कोई सन्तान न थी: और उसके हाजिरा नाम की एक मिस्री लौंडी थी।
Genesis 16:2 सो सारै ने अब्राम से कहा, देख, यहोवा ने तो मेरी कोख बन्द कर रखी है सो मैं तुझ से बिनती करती हूं कि तू मेरी लौंडी के पास जा: सम्भव है कि मेरा घर उसके द्वारा बस जाए।
Genesis 16:3 सो सारै की यह बात अब्राम ने मान ली। सो जब अब्राम को कनान देश में रहते दस वर्ष बीत चुके तब उसकी स्त्री सारै ने अपनी मिस्री लौंडी हाजिरा को ले कर अपने पति अब्राम को दिया, कि वह उसकी पत्नी हो।
Genesis 16:4 और वह हाजिरा के पास गया, और वह गर्भवती हुई और जब उसने जाना कि वह गर्भवती है तब वह अपनी स्वामिनी को अपनी दृष्टि में तुच्छ समझने लगी।
Genesis 16:5 तब सारै ने अब्राम से कहा, जो मुझ पर उपद्रव हुआ सो तेरे ही सिर पर हो: मैं ने तो अपनी लौंडी को तेरी पत्नी कर दिया; पर जब उसने जाना कि वह गर्भवती है, तब वह मुझे तुच्छ समझने लगी, सो यहोवा मेरे और तेरे बीच में न्याय करे।
Genesis 16:6 अब्राम ने सारै से कहा, देख तेरी लौंडी तेरे वश में है: जैसा तुझे भला लगे वैसा ही उसके साथ कर। सो सारै उसको दु:ख देने लगी और वह उसके साम्हने से भाग गई।
Genesis 16:7 तब यहोवा के दूत ने उसको जंगल में शूर के मार्ग पर जल के एक सोते के पास पाकर कहा,
Genesis 16:8 हे सारै की लौंडी हाजिरा, तू कहां से आती और कहां को जाती है? उसने कहा, मैं अपनी स्वामिनी सारै के साम्हने से भाग आई हूं।
Genesis 16:9 यहोवा के दूत ने उस से कहा, अपनी स्वामिनी के पास लौट जा और उसके वश में रह।
Genesis 16:10 और यहोवा के दूत ने उस से कहा, मैं तेरे वंश को बहुत बढ़ाऊंगा, यहां तक कि बहुतायत के कारण उसकी गणना न हो सकेगी।
Genesis 16:11 और यहोवा के दूत ने उस से कहा, देख तू गर्भवती है, और पुत्र जनेगी, सो उसका नाम इश्माएल रखना; क्योंकि यहोवा ने तेरे दु:ख का हाल सुन लिया है।
Genesis 16:12 और वह मनुष्य बनैले गदहे के समान होगा उसका हाथ सबके विरुद्ध उठेगा, और सब के हाथ उसके विरुद्ध उठेंगे; और वह अपने सब भाई बन्धुओं के मध्य में बसा रहेगा।
Genesis 16:13 तब उसने यहोवा का नाम जिसने उस से बातें की थीं, अत्ताएलरोई रखकर कहा कि, क्या मैं यहां भी उसको जाते हुए देखने पाई जो मेरा देखनेहारा है?


एक साल में बाइबल: 
  • भजन 123-125
  • 1कुरिन्थियों 10:1-18