बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, April 5, 2015

जीवित


   जब हमारे बाग़ीचे में बसन्त ऋतु के पहले फूल खिलने आरंभ हुए तो मेरा पाँच वर्षीय पुत्र डैफोडिल्स की क्यारी में चला गया। वहाँ उसे कुछ महीने पहले मर गए पौधों के कुछ अवशेष दिखे और वह बोला, "माँ, जब भी मैं कुछ मरा हुआ देखता हूँ तो मुझे ईस्टर याद आता है क्योंकि तब यीशु क्रूस पर मरे थे।" मैंने उसे उत्तर दिया, "जब मुझे कुछ जीवित दिखाई देता है, जैसे ये डैफोडिल फूल, तो मुझे याद आता है कि यीशु पुनः जीवित हो उठे थे!"

   प्रभु यीशु के मृतकों में से पुनः जीवित हो उठने के प्रमाणों में से एक प्रमाण है उनका अनेक बार अपने चेलों के सामने आना और उनसे बातचीत करना। ऐसी ही एक घटना परमेश्वर के वचन बाइबल के लूका रचित सुसमाचार के अन्तिम अध्याय में दर्ज है, जहाँ अपने क्रूस पर चढ़ाए जाने के तीन दिन बाद, संध्या के समय यरूशालेम से इम्माऊस जा रहे अपने दो चेलों से प्रभु मार्ग में मिलते हैं, उनके साथ चलते हैं, उनसे बातचीत करते हैं, उन्हें बाइबल के पुराने नियम खण्ड की पुस्तकों में अपने बारे में लिखी बातों और भविष्यवाणियों का स्मरण दिलाते हैं और उनके साथ भोजन करते हैं (लूका 24:15-27)। उन से इस साक्षात्कार के बाद वे दोनों चेले रात ही में यरूशालेम को वापस लौटते हैं और अन्य चेलों को बताते हैं कि प्रभु यीशु कब्र पर जय पाकर वास्तव में जी उठा है (पद 34)।

   यदि प्रभु यीशु मृतकों में से वापस नहीं आए होते तो हमारा मसीही विश्वास व्यर्थ होता, हम अभी भी पाप के दोष में होते (1 कुरिन्थियों 15:12-19)। लेकिन बाइबल हमें बताती है कि, "परन्तु सचमुच मसीह मुर्दों में से जी उठा है, और जो सो गए हैं, उन में पहिला फल हुआ" (1 कुरिन्थियों 15:20)। आज मसीह यीशु में विश्वास द्वारा हम परमेश्वर के समक्ष धर्मी ठहरते हैं और हमारा मेल-मिलाप परमेश्वर के साथ संभव है (रोमियों 5:1) क्योंकि मसीह यीशु जीवित प्रभु परमेश्वर है। - जैनिफर बेन्सन शुल्ट


मसीह यीशु का खाली क्रूस और खाली कब्र स्मस्त मानवजाति के लिए संपूर्ण उद्धार का निश्चय हैं।

सो जब हम विश्वास से धर्मी ठहरे, तो अपने प्रभु यीशु मसीह के द्वारा परमेश्वर के साथ मेल रखें। - रोमियों 5:1

बाइबल पाठ: लूका 24:13-34
Luke 24:13 देखो, उसी दिन उन में से दो जन इम्माऊस नाम एक गांव को जा रहे थे, जो यरूशलेम से कोई सात मील की दूरी पर था। 
Luke 24:14 और वे इन सब बातों पर जो हुईं थीं, आपस में बातचीत करते जा रहे थे। 
Luke 24:15 और जब वे आपस में बातचीत और पूछताछ कर रहे थे, तो यीशु आप पास आकर उन के साथ हो लिया। 
Luke 24:16 परन्तु उन की आंखे ऐसी बन्‍द कर दी गईं थी, कि उसे पहिचान न सके। 
Luke 24:17 उसने उन से पूछा; ये क्या बातें हैं, जो तुम चलते चलते आपस में करते हो? वे उदास से खड़े रह गए। 
Luke 24:18 यह सुनकर, उनमें से क्‍लियुपास नाम एक व्यक्ति ने कहा; क्या तू यरूशलेम में अकेला परदेशी है; जो नहीं जानता, कि इन दिनों में उस में क्या क्या हुआ है? 
Luke 24:19 उसने उन से पूछा; कौन सी बातें? उन्होंने उस से कहा; यीशु नासरी के विषय में जो परमेश्वर और सब लोगों के निकट काम और वचन में सामर्थी भविष्यद्वक्ता था। 
Luke 24:20 और महायाजकों और हमारे सरदारों ने उसे पकड़वा दिया, कि उस पर मृत्यु की आज्ञा दी जाए; और उसे क्रूस पर चढ़वाया। 
Luke 24:21 परन्तु हमें आशा थी, कि यही इस्त्राएल को छुटकारा देगा, और इन सब बातों के सिवाय इस घटना को हुए तीसरा दिन है। 
Luke 24:22 और हम में से कई स्‍त्रियों ने भी हमें आश्चर्य में डाल दिया है, जो भोर को कब्र पर गई थीं। 
Luke 24:23 और जब उस की लोथ न पाई, तो यह कहती हुई आईं, कि हम ने स्‍वर्गदूतों का दर्शन पाया, जिन्हों ने कहा कि वह जीवित है। 
Luke 24:24 तब हमारे साथियों में से कई एक कब्र पर गए, और जैसा स्‍त्रियों ने कहा था, वैसा ही पाया; परन्तु उसको न देखा। 
Luke 24:25 तब उसने उन से कहा; हे निर्बुद्धियों, और भविष्यद्वक्ताओं की सब बातों पर विश्वास करने में मन्‍दमतियों! 
Luke 24:26 क्या अवश्य न था, कि मसीह ये दुख उठा कर अपनी महिमा में प्रवेश करे? 
Luke 24:27 तब उसने मूसा से और सब भविष्यद्वक्ताओं से आरम्भ कर के सारे पवित्र शास्‍त्रों में से, अपने विषय में की बातों का अर्थ, उन्हें समझा दिया। 
Luke 24:28 इतने में वे उस गांव के पास पहुंचे, जहां वे जा रहे थे, और उसके ढंग से ऐसा जान पड़ा, कि वह आगे बढ़ना चाहता है। 
Luke 24:29 परन्तु उन्होंने यह कहकर उसे रोका, कि हमारे साथ रह; क्योंकि संध्या हो चली है और दिन अब बहुत ढल गया है। तब वह उन के साथ रहने के लिये भीतर गया। 
Luke 24:30 जब वह उन के साथ भोजन करने बैठा, तो उसने रोटी ले कर धन्यवाद किया, और उसे तोड़कर उन को देने लगा। 
Luke 24:31 तब उन की आंखे खुल गईं; और उन्होंने उसे पहचान लिया, और वह उन की आंखों से छिप गया। 
Luke 24:32 उन्होंने आपस में कहा; जब वह मार्ग में हम से बातें करता था, और पवित्र शास्त्र का अर्थ हमें समझाता था, तो क्या हमारे मन में उत्तेजना न उत्पन्न हुई? 
Luke 24:33 वे उसी घड़ी उठ कर यरूशलेम को लौट गए, और उन ग्यारहों और उन के साथियों को इकट्ठे पाया। 
Luke 24:34 वे कहते थे, प्रभु सचमुच जी उठा है, और शमौन को दिखाई दिया है।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 शमूएल 1-3
  • लूका 8:26-56