बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, July 24, 2014

अनुभव एवं सदबुद्धि


   अनेक वृद्धों के साथ साक्षात्कार करने के पश्चात लेखक डॉन गोल्ड ने अपनी पुस्तक Until the Singing Stops: A Celebration of Life and Old Age in America प्रकाशित करी। डॉन गोल्ड अपनी दादी से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें बहुत सराहते थे। उनकी दादी की यादों ने ही उन्हें प्रेरित किया कि वे अन्य वृद्धों के साथ मिलें, उनसे बातचीत करें और उनके अनुभवों से कुछ शिक्षा लें।

   वे अपने एक अनुभव का बयान करते हैं, एक साक्षात्कार लेने जाते समय वे एक धूल भरे ग्रामीण मार्ग से जाते हुए रास्ता भटक गए। सही रास्ता जानने के लिए वे एक फार्म पर रुके, और एक नवयुवक उनसे बात करने बाहर निकल कर आया। उस लड़के ने उनकी बात सुनी फिर अपने कंधे झटक कर उत्तर दिया, "पता नहीं" और चला गया। इसलिए उन्हें कुछ और रास्ता ऐसे ही तय करना पड़ा। कूछ मील चलने के पश्चात वे फिर से एक अन्य फार्म पर रास्ता फूछने के लिए रुके, और एक वृद्ध किसान उनसे बात करने बाहर निकल कर आया। उनकी बात सुनने के बाद, उस वृद्ध ने बड़े आदर के साथ उन्हें बिलकुल सही और सटीक मार्ग निर्देश दिए और वे अपने गन्तव्य पर पहुँच सके।

   डॉन गोल्ड ने विचारपूर्ण भाव में लिखा, जब मेरी दादी की यादों ने मुझे उनके समान वृद्ध लोगों से बातचीत करने के लिए प्रेरित किया और बाहर लोगों में भेजा, तब संभवतः अनुभव ही वह बात थी जिस की तलाश में मैं निकला था। वे किसी ऐसे को ढूँढ़ रहे थे जो उन्हें जीवन मार्ग पर सही दिशा निर्देश दे सके।

   यदि आप जवान हैं तो किसी ऐसे अनुभवी वृद्ध को खोजें जो परमेश्वर के प्रेम, भलाई और अनुग्रह के सागर से जीवन भर भरपूरी से पीता रहा है। ऐसे लोगों के पास आपको ऐसी सदबुद्धि मिलेगी जो आपको अपने विश्वास में बढ़ने और फलवंत होने में कार्यकारी होगी (भजन 92:12-14)। - डेविड रोपर


मसीह यीशु के साथ संगति ही उसके लिए फलवन्त होने की कुंजी है।

धन्य है वह पुरुष जो यहोवा पर भरोसा रखता है, जिसने परमेश्वर को अपना आधार माना हो। वह उस वृक्ष के समान होगा जो नदी के तीर पर लगा हो और उसकी जड़ जल के पास फैली हो; जब घाम होगा तब उसको न लगेगा, उसके पत्ते हरे रहेंगे, और सूखे वर्ष में भी उनके विषय में कुछ चिन्ता न होगी, क्योंकि वह तब भी फलता रहेगा। - यर्मियाह 17:7-8

बाइबल पाठ: भजन 92:1-15
Psalms 92:1 यहोवा का धन्यवाद करना भला है, हे परमप्रधान, तेरे नाम का भजन गाना; 
Psalms 92:2 प्रात:काल को तेरी करूणा, और प्रति रात तेरी सच्चाई का प्रचार करना, 
Psalms 92:3 दस तार वाले बाजे और सारंगी पर, और वीणा पर गम्भीर स्वर से गाना भला है। 
Psalms 92:4 क्योंकि, हे यहोवा, तू ने मुझ को अपने काम से आनन्दित किया है; और मैं तेरे हाथों के कामों के कारण जयजयकार करूंगा।
Psalms 92:5 हे यहोवा, तेरे काम क्या ही बड़े हैं! तेरी कल्पनाएं बहुत गम्भीर हैं! 
Psalms 92:6 पशु समान मनुष्य इस को नहीं समझता, और मूर्ख इसका विचार नहीं करता: 
Psalms 92:7 कि दुष्ट जो घास की नाईं फूलते- फलते हैं, और सब अनर्थकारी जो प्रफुल्लित होते हैं, यह इसलिये होता है, कि वे सर्वदा के लिये नाश हो जाएं, 
Psalms 92:8 परन्तु हे यहोवा, तू सदा विराजमान रहेगा। 
Psalms 92:9 क्योंकि हे यहोवा, तेरे शत्रु, हां तेरे शत्रु नाश होंगे; सब अनर्थकारी तितर बितर होंगे।
Psalms 92:10 परन्तु मेरा सींग तू ने जंगली सांढ़ का सा ऊंचा किया है; मैं टटके तेल से चुपड़ा गया हूं। 
Psalms 92:11 और मैं अपने द्रोहियों पर दृष्टि कर के, और उन कुकर्मियों का हाल मेरे विरुद्ध उठे थे, सुनकर सन्तुष्ट हुआ हूं।
Psalms 92:12 धर्मी लोग खजूर की नाईं फूले फलेंगे, और लबानोन के देवदार की नाईं बढ़ते रहेंगे। 
Psalms 92:13 वे यहोवा के भवन में रोपे जा कर, हमारे परमेश्वर के आंगनों में फूले फलेंगे। 
Psalms 92:14 वे पुराने होने पर भी फलते रहेंगे, और रस भरे और लहलहाते रहेंगे, 
Psalms 92:15 जिस से यह प्रगट हो, कि यहोवा सीधा है; वह मेरी चट्टान है, और उस में कुटिलता कुछ भी नहीं।

एक साल में बाइबल: 
  • सभोपदेशक 10-12