बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, June 5, 2016

निकट


   परमेश्वर के वचन बाइबल में मूसा ने व्यव्स्थाविवरण 32:7-14 में परमेश्वर की अपने बच्चों की देखभाल और सहनशीलता को समझाया है। मूसा ने उस समय के इस्त्राएलियों को उकाब पक्षी के उदाहरण द्वारा समझाया कि जैसे उकाब पक्षी अपने बच्चों को संभाले रहता है, वैसे ही परमेश्वर भी उन्हें उठाए चल रहा है (पद 11-12)। 

   तीन महीनों तक मुझे और अनेकों अन्य पक्षी-प्रेमियों को उकाबों के एक जोड़े में होकर परमेश्वर की अद्भुत कारिगरी का नज़ारा निकट से देखने का अवसर मिला। नॉरफोक बोटैनिकल गार्डन्स में काम करने वालों ने ज़मीन से 90 फुट ऊँचे मचान पर एक कैमरा लगा कर उकाब जाति के एक जोड़े के घोंसले में चल रही गतिविधियों का सजीव प्रसारण किया। जब घोंसले में अण्डे फूटे और बच्चे निकले तो सब देख पा रहे थे कि नर और मादा उकाब कैसे उनकी देखभाल कर रहे थे; एक वहां घोंसले की रखवाली करने के लिए तैनात रहता और दूसरा जाकर भोजन जुटा कर लाता। लेकिन एक दिन, जबकि वे बच्चे अभी छोटे ही थे, घोंसले में से दोनों ही उकाब नदारद दिखे; हमें लगा कि वे किसी मुसीबत में पड़ गए हैं। लेकिन हमारा यह शक बेबुनियाद था; कैमरा संचालित करने वाले ने कैमरा घुमा कर पास ही की एक शाखा पर केंद्रित किया तो हम देखने पाए कि मादा उकाब वहीं बच्चों के निकट ही उस शाखा पर बैठी थी, बच्चों पर नज़रें जमाए हुए थी। क्योंकि कैमरा एक सीमित भाग का दृश्य ही दिखा पाता है, इसलिए देखने वालों को लगा कि माता-पिता उकाब कहीं चले गए हैं, जबकि वे वहीं निकट ही थे।

   मैं इस घटना पर विचार कर रही थी तो मुझे वे समय स्मरण हो आए जब मैंने यह समझ लिया था कि परमेश्वर ने मुझे अकेला छोड़ दिया है। उन उकाबों के उस दृश्य के समान, क्योंकि मेरी भी दृष्टि सीमित ही है, इसलिए मुझे भी यह भ्रम हुआ कि मैं अकेली रह गई हूँ। लेकिन हमें चाहे जैसा भी प्रतीत हो, सच तो यह है कि वह हमें कभी अकेला नहीं छोड़ता (भजन 145:18), चाहे हमें यह लगे कि हम अकेले रह गए हैं किंतु परमेश्वर सदा हमारे निकट रहता है। - जूली ऐकैरमैन लिंक


क्योंकि परमेश्वर सदैव हमारी निगरानी करता रहता है, 
इसलिए हमें अपने आस-पास के खतरों से डरने की आवश्यकता नहीं है।

जितने यहोवा को पुकारते हैं, अर्थात जितने उसको सच्चाई से पुकारते हें; उन सभों के वह निकट रहता है। - भजन 145:18

बाइबल पाठ: व्यव्स्थाविवरण 32:7-14
Deuteronomy 32:7 प्राचीनकाल के दिनों को स्मरण करो, पीढ़ी पीढ़ी के वर्षों को विचारो; अपने बाप से पूछो, और वह तुम को बताएगा; अपने वृद्ध लोगों से प्रश्न करो, और वे तुझ से कह देंगे।
Deuteronomy 32:8 जब परमप्रधान ने एक एक जाति को निज निज भाग बांट दिया, और आदमियों को अलग अलग बसाया, तब उसने देश देश के लोगों के सिवाने इस्राएलियों की गिनती के अनुसार ठहराए।
Deuteronomy 32:9 क्योंकि यहोवा का अंश उसकी प्रजा है; याकूब उसका नपा हुआ निज भाग है।
Deuteronomy 32:10 उसने उसको जंगल में, और सुनसान और गरजने वालों से भरी हुई मरूभूमि में पाया; उसने उसके चंहु ओर रहकर उसकी रक्षा की, और अपनी आंख की पुतली की नाईं उसकी सुधि रखी।
Deuteronomy 32:11 जैसे उकाब अपने घोंसले को हिला हिलाकर अपने बच्चों के ऊपर ऊपर मण्डलाता है, वैसे ही उसने अपने पंख फैलाकर उसको अपने परों पर उठा लिया।
Deuteronomy 32:12 यहोवा अकेला ही उसकी अगुवाई करता रहा, और उसके संग कोई पराया देवता न था।
Deuteronomy 32:13 उसने उसको पृथ्वी के ऊंचे ऊंचे स्थानों पर सवार कराया, और उसको खेतों की उपज खिलाई; उसने उसे चट्टान में से मधु और चकमक की चट्ठान में से तेल चुसाया।
Deuteronomy 32:14 गायों का दही, और भेड़-बकरियों का दूध, मेम्नों की चर्बी, बकरे और बाशान की जाति के मेढ़े, और गेहूं का उत्तम से उत्तम आटा भी; और तू दाखरस का मधु पिया करता था।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 इतिहास 23-24
  • यूहन्ना 15