बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, September 7, 2012

निर्देषों का पालन


   लड़कपन का मेरा एक प्रीय शौक था वायुयानों के खिलौने वाले नमूने बनाना। नए वायुयान खिलौने का डिब्बा खोलते ही उसमें सबसे ऊपर उसे बनाने के छपे हुए निर्देष रखे होते थे। लेकिन मुझे नहीं लगता था कि मुझे उनका अध्ययन करने और उनका पालन करने की आवश्यक्ता है, क्योंकि अपने मन में मैं सोच चुका होता था कि उसे कैसे बनाना है। किंतु उसके कुछ भागों को जोड़ लेने के बाद मुझे ज्ञात होता था कि मैं उसे ठीक से बनाने का कोई महत्वपूर्ण क्रम चूक गया हूँ, जिसे सुधारना या तो अब संभव नहीं होगा, या सुधारने के प्रयास में कुछ नुकसान होने की संभावना है।

   यह मान लेना कि हमें अपने जीवनों में किसी और के निर्देषों की आवश्यक्ता नहीं है बहुत आसान है; गलती का एहसास तब ही होता है जब निर्देषों की अवहेलना के नुकसान सामने आने आरंभ होते हैं। इसीलिए प्रभु यीशु ने अपने चेलों से कहा कि एक स्थिर, सुरक्षित और कामयाब जीवन के निर्माण के लिए उसके निर्देषों का पालन करने वाला ही बुद्धिमान है (मत्ती ७:२४-२९)। यह कहने से कुछ देर पहले ही वह उन्हें दूसरा गाल दिखाने, साथ निभाने के लिए अतिरिक्त मील जाने, दुशमनों को भी क्षमा करने और सांसारिक संपत्ति गरीबों में दान करके स्वर्ग में संपत्ति अर्जित करने के बारे में उन्हें सिखा चुका था (मत्ती ५:३९-४४)। लेकिन निर्देष सुन लेना ही तो काफी नहीं होता, मुख्य बात तो उनका पालन करना होती है। इसीलिए अपने सन्देश के अन्त में प्रभु यीशु ने चेलों से कहा: "इसलिये जो कोई मेरी ये बातें सुनकर उन्‍हें मानता है वह उस बुद्धिमान मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिस ने अपना घर चटान पर बनाया" (मत्ती ७:२४)।

   जो जीवन के इन निर्देषों का पालन नहीं करते हैं, वे प्रभु यीशु के शब्दों में मूर्ख हैं (पद २६)। संसार के लिए दुशमनों को क्षमा करना और संपत्ति बेचकर गरीबों में दान कर देना जीवन बनाने के लिए मूर्खतापूर्ण बातें हो सकती हैं, लेकिन सृष्टि के सृजनहार और पालनहार प्रभु यीशु की बात मानें; इसी में बुद्धिमता है। - जो स्टोवैल


चट्टान सा स्थिर जीवन बनाने के लिए प्रभु यीशु के निर्देषों का पालन करें।

इसलिये जो कोई मेरी ये बातें सुनकर उन्‍हें मानता है वह उस बुद्धिमान मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिस ने अपना घर चटान पर बनाया। - मत्ती ७:२४

बाइबल पाठ: मत्ती ७:२४-२९
Mat 7:24  इसलिये जो कोई मेरी ये बातें सुनकर उन्‍हें मानता है वह उस बुद्धिमान मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिस ने अपना घर चटान पर बनाया। 
Mat 7:25  और मेंह बरसा और बाढ़ें आईं, और आन्‍धियां चलीं, और उस घर पर टक्करें लगीं, परन्‍तु वह नहीं गिरा, क्‍योंकि उस की नेव चटान पर डाली गई थी। 
Mat 7:26  परन्‍तु जो कोई मेरी ये बातें सुनता है और उन पर नहीं चलता वह उस निर्बुद्धि मनुष्य की नाईं ठहरेगा जिस ने अपना घर बालू पर बनाया। 
Mat 7:27  और मेंह बरसा, और बाढ़ें आईं, और आन्‍धियां चलीं, और उस घर पर टक्करें लगीं और वह गिरकर सत्यानाश हो गया।
Mat 7:28   जब यीशु ये बातें कह चुका, तो ऐसा हुआ कि भीड़ उस के उपदेश से चकित हुई। 
Mat 7:29  क्‍योंकि वह उन से शास्‍त्रियों के समान नहीं परन्‍तु अधिकारी की नाईं उन्‍हें उपदेश देता था।

एक साल में बाइबल: 
  • नीतिवचन १-२ 
  • १ कुरिन्थियों १६