बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, September 29, 2012

लौट आएं


   परमेश्वर की प्रजा इस्त्राएल परमेश्वर से विमुख हो गई थी; इस बात से हुए दुख को परमेश्वर ने अपने भविष्यद्वक्ता होशे के द्वारा उन्हें समझाया। इसके लिए परमेश्वर ने होशे से एक विचित्र कार्य करवाया: परमेश्वर ने होशे को निर्देश दिए कि वह गोमेर नामक एक वैश्या को ब्याह लाए और उसके साथ एक विश्वासयोग्य और प्रेम करना वाला पति बन कर रहे। ऐसा करने पर भी गोमेर होशे के प्रति अविश्वासयोग्य रही जिससे होशे को बहुत दुख पहुँचा और इस्त्राएल की आत्मिक अविश्वासयोग्यता को लेकर परमेश्वर के दुख का बयान वह इस्त्राएल के सामने कर सका।

   होशे ने अपनी पुस्तक के अन्त में जैसे लिखा है, परमेश्वर ने अपनी प्रजा इस्त्राएल पर यह बात स्पष्ट कर दी कि जो दुख उन्होंने उसे पहुँचाया है उसके बावजूद यदि वे उसकी ओर लौट कर आएंगे तो वह उनके पापों को क्षमा कर देगा, उन्हें चंगा करेगा और उन्हें फलवंत करेगा: "मैं उनकी भटक जाने की आदत को दूर करूंगा; मैं सेंतमेंत उन से प्रेम करूंगा, क्योंकि मेरा क्रोध उन पर से उतर गया है। मैं इस्राएल के लिये ओस के समान हूंगा; वह सोसन की नाई फूले-फलेगा, और लबानोन की नाईं जड़ फैलाएगा। उसकी जड़ से पौधे फूटकर निकलेंगे; उसकी शोभा जलपाई की सी, और उसकी सुगन्ध लबानोन की सी होगी। जो उसकी छाया में बैठेंगे, वे अन्न की नाईं बढ़ेंगे, वे दाखलता की नाई फूले-फलेंगे; और उसकी कीर्ति लबानोन के दाखमधु की सी होगी" (होशे १४:४-७)।

   जो लोग परमेश्वर से अपना मुँह मोड़ लेते हैं उनके लिए जीवन असंतुष्टि और अपराध-बोध से भरा होता है; जो मसीही विश्वास विश्वास में आने के बाद भी पुनः पाप में पड़ जाते हैं वे इस बात को भली-भांति जानते हैं, उन्हें अनुभव रहता है कि इस आत्मिक अविश्वासयोग्यता की उन्हें एक कीमत चुकानी पड़ती है। किंतु जैसे अनुग्रह के परमेश्वर ने इस्त्राएल को क्षमा और बहाली का सन्देश दिया, उन्हें जो वास्तव में सच्चे मन से पश्चाताप और क्षमा-प्रार्थी हैं, वैसे ही आज भी वह पश्चाताप के साथ लौट आने वालों की क्षमा और बहाली का वायदा करता है "यदि हम अपने पापों को मान लें, तो वह हमारे पापों को क्षमा करने, और हमें सब अधर्म से शुद्ध करने में विश्वासयोग्य और धर्मी है" (१ युहन्ना १:९)।

   क्या आपने जीवन में कोई गलत निर्णय लिए हैं जिनके कारण आप परमेश्वर और उसके प्रेम से दूर हो गए हैं? पश्चाताप के साथ परमेश्वर की ओर लौट आएं, उसके अनुग्रह और क्षमा द्वारा फिर से परमेश्वर कि निकटता में जीवन व्यतीत करने वाले बन जाएं। उसका वायदा है कि जो लौट आयगा "...उसे मैं कभी न निकालूंगा" (यूहन्ना ६:३७)। - डेनिस फिशर


परमेश्वर के साथ एक नई शुरुआत करने का मार्ग सदा खुला रहता है।

मैं उनकी भटक जाने की आदत को दूर करूंगा; मैं सेंतमेंत उन से प्रेम करूंगा, क्योंकि मेरा क्रोध उन पर से उतर गया है। - होशे १४:४

बाइबल पाठ: होशे १४:१-८
Hos 14:1  हे इस्राएल, अपने परमेश्वर यहोवा के पास लौट आ, क्योंकि तू ने अपने अधर्म के कारण ठोकर खाई है। 
Hos 14:2  बातें सीखकर और यहोवा की ओर फिरकर, उस से कह, सब अधर्म दूर कर; अनुग्रह से हम को ग्रहण कर; तब हम धन्यवाद रूपी बलि चढ़ाएंगे। 
Hos 14:3  अश्शूर हमारा उद्धार न करेगा, हम घोड़ों पर सवार न होंगे, और न हम फिर अपनी बनाई हुई वस्तुओं से कहेंगे, तुम हमारे ईश्वर हो; क्योंकि अनाथ पर तू ही दया करता है।
Hos 14:4  मैं उनकी भटक जाने की आदत को दूर करूंगा; मैं सेंतमेंत उन से प्रेम करूंगा, क्योंकि मेरा क्रोध उन पर से उतर गया है। 
Hos 14:5  मैं इस्राएल के लिये ओस के समान हूंगा; वह सोसन की नाईं फूले-फलेगा, और लबानोन की नाईं जड़ फैलाएगा। 
Hos 14:6  उसकी जड़ से पौधे फूटकर निकलेंगे; उसकी शोभा जलपाई की सी, और उसकी सुगन्ध लबानोन की सी होगी। 
Hos 14:7  जो उसकी छाया में बैठेंगे, वे अन्न की नाईं बढ़ेंगे, वे दाखलता की नाईं फूले-फलेंगे; और उसकी कीर्ति लबानोन के दाखमधु की सी होगी।
Hos 14:8  एप्रैम कहेगा, मूरतों से अब मेरा और क्या काम? मैं उसकी सुनकर उस पर दृष्टि बनाए रखूंगा। मैं हरे सनौवर सा हूं, मुझी से तू फल पाया करेगा।
Hos 14:9  जो बुद्धिमान हो, वही इन बातों को समझेगा; जो प्रवीण हो, वही इन्हें बूझ सकेगा; क्योंकि यहोवा के मार्ग सीधे हैं, और धर्मी उन में चलते रहेंगे, परन्तु अपराधी उन में ठोकर खाकर गिरेंगे।

एक साल में बाइबल: 
  • यशायाह ७-८ 
  • इफिसियों २