बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, August 26, 2013

भलाई का स्वाद

   कुछ वर्ष पहले मैंने एक अंग्रेज़ नवाब सर जेम्स बैरी द्वारा लिखित लघु निबंध पढ़ा। उस निबंध में सर जेम्स ने अपनी माँ की, जो परमेश्वर से और परमेश्वर के वचन बाइबल से बहुत प्रेम करती थीं, एक अन्तरंग तस्वीर प्रस्तुत करी। सर जेम्स की माँ की बाइबल पढ़ते पढ़ते पुरानी और तार तार हो गई थी, और उनकी माँ ने उस बाइबल को काले धागे से सी रखा था। सर जेम्स ने लिखा, "वह बाइबल अब मेरी है, और मेरे लिए वो काले धागे जिनसे उन्होंने उसे सीया है, उस बाइबल का ही एक अभिन्न भाग हैं।"

   मेरी अपनी माँ भी बाइबल से बहुत प्रेम करती थीं; 60 वर्ष से भी अधिक समय तक वे बाइबल को पढ़ती रहीं और उसके लिखे पर मनन करती रहीं। मैंने भी अपनी माँ की वह बाइबल अपनी किताबों की शेल्फ में एक प्रमुख स्थान पर रखी हुई है। उनकी वह बाइबल बहुत जीर्ण-शीर्ण हो चुकी है, पन्ने फट गए हैं, हर पन्ना धब्बेदार है, लेकिन हर पन्ने पर मेरी माँ की लिखी टिप्पणियाँ और मनन में मिले विचार लिखे हैं। अपने बचपन और लड़कपन में मैं प्रातः जब भी उनके कमरे में जाता था, तो उन्हें उस बाइबल को अपनी गोदी में रखकर खोले बैठे और उसे ध्यान से पढ़ते तथा उसके लेखों पर मनन करते हुए पाता था। वे ऐसा उस दिन तक करती रहीं जब तक उन्हें बाइबल के पन्नों पर लिखे शब्द दिखने बन्द नहीं हो गए, लेकिन तब भी वह बाइबल उनकी सबसे बहुमूल्य और प्रीय चीज़ बनी रही थी।

   सर जेम्स की माँ भी, अपनी वृद्धावस्था में अपनी बाइबल के शब्दों को पढ़ने में असमर्थ हो गईं थीं, लेकिन फिर भी उनके पति नियमित रूप में वह बाइबल उन्हें थमा देते थे और वे उसे बड़े चाव से पकड़ कर बैठी रहती थीं।

   भजनकार ने लिखा, "तेरे वचन मुझ को कैसे मीठे लगते हैं, वे मेरे मुंह में मधु से भी मीठे हैं!" (भजन 119:103 ) क्या आपने परमेश्वर की भलाई का स्वाद चखा है? आज ही अपनी बाइबल खोलिए और उसे अपने जीवन तथा दिनचर्या का अभिन्न अंग बना लीजिए। परमेश्वर की भलाई का स्वाद ना केवल आपको प्राप्त होगा, वरन आप में होकर अन्य अनेकों लोगों को भी मिलेगा। - डेविड रोपर


एक भली भांति पढ़ी गई बाइबल आत्मिक भोजन से तृप्त आत्मा की ओर संकेत करती है।

अहा! मैं तेरी व्यवस्था में कैसी प्रीति रखता हूं! दिन भर मेरा ध्यान उसी पर लगा रहता है। - भजन 119:97

बाइबल पाठ: भजन 119:97-104
Psalms 119:97 अहा! मैं तेरी व्यवस्था में कैसी प्रीति रखता हूं! दिन भर मेरा ध्यान उसी पर लगा रहता है।
Psalms 119:98 तू अपनी आज्ञाओं के द्वारा मुझे अपने शत्रुओं से अधिक बुद्धिमान करता है, क्योंकि वे सदा मेरे मन में रहती हैं।
Psalms 119:99 मैं अपने सब शिक्षकों से भी अधिक समझ रखता हूं, क्योंकि मेरा ध्यान तेरी चितौनियों पर लगा है।
Psalms 119:100 मैं पुरनियों से भी समझदार हूं, क्योंकि मैं तेरे उपदेशों को पकड़े हुए हूं।
Psalms 119:101 मैं ने अपने पांवों को हर एक बुरे रास्ते से रोक रखा है, जिस से मैं तेरे वचन के अनुसार चलूं।
Psalms 119:102 मैं तेरे नियमों से नहीं हटा, क्योंकि तू ही ने मुझे शिक्षा दी है।
Psalms 119:103 तेरे वचन मुझ को कैसे मीठे लगते हैं, वे मेरे मुंह में मधु से भी मीठे हैं!
Psalms 119:104 तेरे उपदेशों के कारण मैं समझदार हो जाता हूं, इसलिये मैं सब मिथ्या मार्गों से बैर रखता हूं।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 119:89-176 
  • 1 कुरिन्थियों 8