बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, December 7, 2013

यादगार


   जब भी अमेरीकी नौसेना की बन्दरगाह पर्ल हार्बर में कोई नौसेना पोत आता है या वहां से विदा होता है तो उस पोत के सभी नाविक वर्दी पहने हुए पोत के किनारे कतार में खड़े होकर सलामी देते हैं। उनकी यह सलामी उन सैनिकों, नाविकों और नागरिकों को होती है जिन्होंने दिसंबर 7, 1944 को पर्ल हार्बर पर हुए जापानी हमले में अपनी जान गंवाई थी और जिसके परिणामस्वरूप अमेरिका की दूसरे विश्वयुद्ध में प्रविष्ठी हुई थी। यह एक बहुत भावोतेजक दृश्य होता है और अनेक नाविकों ने इसे अपने जीवन के सबसे यादगार सैनिक अनुभवों में से एक कहा है।

   तट पर खड़े दर्शकों के लिए भी यह ऐसा ही अनुभव होता है और इस सलामी के समय उन नौसैनिकों और दर्शकों के बीच एक अद्वितीय भावनात्मक संबंध स्थापित हो जाता है, विशेषकर यदि वहां उन बीते दिनों के लोग भी उपस्थित हों। यह वर्तमान नौसैनिकों के कार्य को उत्तमता और बीते समय में बलिदान देने वाले नौसिनिकों के बलिदान को गौरव प्रदान करता है।

   जब प्रभु यीशु ने "प्रभु-भोज" स्थापित किया (मत्ती 26:26-29), तो उसका प्रयोजन भी एक ऐसा ही भावनात्मक संबंध स्थापित करना था, जो उसके महान बलिदान की उत्तमता और गौरव को उसके चेलों के सामने सदा बना कर रखे। हमारा प्रभु भोज में भाग लेना कोई महज रस्मपरस्ति नहीं है वरन प्रभु यीशु के संसार के सभी लोगों के उद्धार के लिए किए गए महान कार्य का आदर तथा उसके गौरव में सहभागी होने और उसके साथ जुड़ जाने का अवसर है।

   जैसे अमेरीकी नौसेना ने पर्ल हार्बर पर होने वाली दिवंगत लोगों के प्रति श्र्द्धांजलि की इस पदद्धिति की विधि को बारीकी से निर्धारित करके रखा है, वैसे ही परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु भोज में सहभागी होने की पदद्धिति को भी सावधानी पूर्वक निर्धारित किया गया है (1 कुरिन्थियों 11:23-32)। प्रभु यीशु के प्रति श्रद्धा, आदर और धन्यवाद का यह समय हम मसीही विश्वासियों के लिए अपने आप को जांचने, अपनी गलतियों को सुधारने तथा प्रभु के साथ अपने संबंध को और गहरा करने का समय है; इसके गौरव को कभी कम ना होने दें। - रैन्डी किल्गोर


प्रभु भोज - मसीह यीशु की यादगार जो उसने अपने प्रत्येक विश्वासी के लिए स्थापित करी है।

...जब वे खा रहे थे, तो यीशु ने रोटी ली, और आशीष मांग कर तोड़ी, और चेलों को देकर कहा, लो, खाओ; यह मेरी देह है। फिर उसने कटोरा ले कर, धन्यवाद किया, और उन्हें देकर कहा, तुम सब इस में से पीओ। क्योंकि यह वाचा का मेरा वह लोहू है, जो बहुतों के लिये पापों की क्षमा के निमित्त बहाया जाता है। - मत्ती 26:26-28

बाइबल पाठ: 1 कुरिन्थियों 11:23-32
1 Corinthians 11:23 क्योंकि यह बात मुझे प्रभु से पहुंची, और मैं ने तुम्हें भी पहुंचा दी; कि प्रभु यीशु ने जिस रात वह पकड़वाया गया रोटी ली। 
1 Corinthians 11:24 और धन्यवाद कर के उसे तोड़ी, और कहा; कि यह मेरी देह है, जो तुम्हारे लिये है: मेरे स्मरण के लिये यही किया करो। 
1 Corinthians 11:25 इसी रीति से उसने बियारी के पीछे कटोरा भी लिया, और कहा; यह कटोरा मेरे लोहू में नई वाचा है: जब कभी पीओ, तो मेरे स्मरण के लिये यही किया करो। 
1 Corinthians 11:26 क्योंकि जब कभी तुम यह रोटी खाते, और इस कटोरे में से पीते हो, तो प्रभु की मृत्यु को जब तक वह न आए, प्रचार करते हो। 
1 Corinthians 11:27 इसलिये जो कोई अनुचित रीति से प्रभु की रोटी खाए, या उसके कटोरे में से पीए, वह प्रभु की देह और लोहू का अपराधी ठहरेगा। 
1 Corinthians 11:28 इसलिये मनुष्य अपने आप को जांच ले और इसी रीति से इस रोटी में से खाए, और इस कटोरे में से पीए। 
1 Corinthians 11:29 क्योंकि जो खाते-पीते समय प्रभु की देह को न पहिचाने, वह इस खाने और पीने से अपने ऊपर दण्‍ड लाता है। 
1 Corinthians 11:30 इसी कारण तुम में से बहुत से निर्बल और रोगी हैं, और बहुत से सो भी गए। 
1 Corinthians 11:31 यदि हम अपने आप में जांचते, तो दण्‍ड न पाते। 
1 Corinthians 11:32 परन्तु प्रभु हमें दण्‍ड देकर हमारी ताड़ना करता है इसलिये कि हम संसार के साथ दोषी न ठहरें।

एक साल में बाइबल: 
  • दानिय्येल 5-7 
  • 2 यूहन्ना