बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, October 26, 2014

आशा


   कलपना कीजिए कि आप अपनी वंशावली को देख रहे हैं, अपने पूर्वजों के बारे में जानकारी ले रहे हैं, और वहाँ आपको एक पूर्वज के विषय में लिखा मिलता है, "वह एक वेश्या थी, उसने देश के दुश्मनों को शरण दी और जब इसके विषय में उससे पूछा गया तब झूठ बोलकर उन दुश्मनों की तथा अपनी रक्षा करी।" अब आप ऐसी पूर्वज के विषय में क्या करेंगे? यदि कोई आपके परिवार और पूर्वजों के बारे में जानकारी लेना चाहे तो क्या आप कभी उसका कोई उल्लेख करेंगे? क्या लोगों की नज़र में आप अपने उस पूर्वज का जीवन लाकर उसकी प्रशंसा कर सकेंगे?

   जिस का उल्लेख ऊपर मैंने उदाहरणस्वरूप किया है वह परमेश्वर के वचन बाइबल की एक पात्र है और उसका नाम है रहाब। रहाब का जो वर्णन ऊपर दिया गया है वह बाइबल के पुराने नियम खण्ड में यहोशू की पुस्तक के दूसरे अध्याय से है। यदि केवल इतना ही विवरण रहाब के बारे में हमें पता होता तो हमारे लिए बहुत स्वाभाविक होता उसे भी बाइबल के बदनाम और विश्वासघाती पात्रों की सूची में रख देना और उसे नज़रन्दाज़ करना। लेकिन रहाब की कहानी केवल यहोशू 2 अध्याय में ही समाप्त नहीं हो जाती है - परमेश्वर ने उसमें होकर अपने अद्भुत प्रेम और सामर्थ्य को हमारे सामने रखा है।

   बाइबल के नए नियम खण्ड में प्रवेश करते ही हम प्रभु यीशु की वंशावली को पाते हैं, और वहाँ हमें रहाब का नाम मिलता है, मत्ती 1:5-6 हमें बताता है कि रहाब राजा दाऊद के परदादा की माता थी और सारे संसार के उद्धारकर्ता प्रभु यीशु ने उसी वंशावली में होकर संसार में मानव रूप में जन्म लिया। इतना ही नहीं, इब्रानियों 11:31 में उसका नाम विश्वास के दिग्गजों में सम्मिलित है, जिसने परमेश्वर के प्रति अपने विश्वास द्वारा यरीहो के विनाश के समय अपनी तथा अपने परिवार कि जान बचाई (यहोशू 6:17); फिर याकूब 2:25 हमें बताता है कि इस विश्वास में होकर किए गए उसके कार्य उसके लिए धार्मिकता गिने गए, अर्थात वह धर्मी स्त्री स्वीकार करी गई।

   कैसा विल्क्षण और अद्भुत है हमारा प्रेमी परमेश्वर पिता, वह पतित एवं तिरसकृत लोगों को भी उनकी उसी गिरी हुई दशा में स्वीकार कर लेता है, उन्हें स्वीकार कर के उनके जीवन बदल देता है और उन्हें अपनी क्षमा तथा प्रेम के सजीव उदाहरण बना देता है, उनके नाम को अनन्तकाल के लिए आदर और गौरव का स्थान प्रदान कर देता है। यदि आपको लगता है कि आपके कार्य और जीवन बहुत निकृष्ट रहे हैं और परमेश्वर आपको स्वीकार नहीं करेगा, या आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जो अपने विषय में ऐसा सोचता है तो रहाब के विषय में पढ़िए और विचार कीजिए कि यदि परमेश्वर रहाब को बदल कर धार्मिकता का नमूना बना सकता है तो फिर निश्चय ही ना केवल आपके अथवा उस व्यक्ति वरन संसार के प्रत्येक व्यक्ति के लिए प्रभु यीशु में आशा है। प्रेरित पौलुस के साथ परमेश्वर के प्रेम में आनन्दित होईए जो जगत का सबसे बड़ा पापी कहे जाने के बावजूद परमेश्वर के वचन के सबसे बड़े नायकों में से एक हो गया (1 तिमुथियुस 1:15)। - डेव ब्रैनन


हमारे पाप चाहे छोटे हों या बड़े, प्रभु यीशु में विश्वास द्वारा सब क्षमा किए जा सकते हैं।

यह बात सच और हर प्रकार से मानने के योग्य है, कि मसीह यीशु पापियों का उद्धार करने के लिये जगत में आया, जिन में सब से बड़ा मैं हूं। - 1 तिमुथियुस 1:15

बाइबल पाठ: यहोशू 2:1-14; 6:17
Joshua 2:1 तब नून के पुत्र यहोशू ने दो भेदियों को शित्तीम से चुपके से भेज दिया, और उन से कहा, जा कर उस देश और यरीहो को देखो। तुरन्त वे चल दिए, और राहाब नाम किसी वेश्या के घर में जा कर सो गए। 
Joshua 2:2 तब किसी ने यरीहो के राजा से कहा, कि आज की रात कई एक इस्राएली हमारे देश का भेद लेने को यहां आए हुए हैं। 
Joshua 2:3 तब यरीहो के राजा ने राहाब के पास यों कहला भेजा, कि जो पुरूष तेरे यहां आए हैं उन्हें बाहर ले आ; क्योंकि वे सारे देश का भेद लेने को आए हैं। 
Joshua 2:4 उस स्त्री ने दोनों पुरूषों को छिपा रखा; और इस प्रकार कहा, कि मेरे पास कई पुरूष आए तो थे, परन्तु