बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, October 8, 2015

पूर्ति


   मेरे घर में मेरे कार्यस्थल की खिड़की के बाहर गिलहरियां शीघ्र ही आने वाली शीतऋतु की तैयारी में लगी हैं; वे अपने लिए बांझ वृक्ष के फल एकत्रित कर के रख रही हैं जिससे जब बर्फ पड़े और सब कुछ बर्फ से धक जाए तब भी उनके पास उनकी आवश्यकताओं के लिए पर्याप्त भोजन एकत्रित हो। ऐसा करने में उनके द्वारा मचाया जाने वाला शोर मुझे मनोरंजक लगता है। इसके बिलकुल विपरीत हिरण हैं; हिरणों का पूरा झुंड मेरे घर के पिछले आंगन से होकर निकल भी जाए तो मुझे पता नहीं चल पाता क्योंकि वे शान्त रहते हैं, परन्तु एक भी गिलहरी बाहर कुछ कर रही हो तो उसका शोर सबकि उसकी उपस्थिति का एहसास करवा देता है।

   इन दोनों प्राणियों में एक और भी भिन्नता है; गिलहरियों के समान, शीतऋतु के लिए हिरण अपना भोजन एकत्रित करके नहीं रखते। जब सब तरफ बर्फ की चादर फैल जाती है तो हिरण इधर-उधर घूम्नते हुए, उन्हें जो भी मिलता है, चाहे वह घर के बाग़ीचे में लगे पौधे ही क्यों ना हों, खाते रहते हैं। किंतु यदि गिलहरियाँ ऐसा करें तो वे आवश्यक भोजन के आभाव में भूखी मर जाएंगी।

   हिरण और गिलहरियाँ परमेश्वर द्वारा हमारी देखरेख और पूर्ति करे जाने के दो उदाहरणों को दिखाते हैं। परमेश्वर ने हमें कार्य करके भविष्य के लिए संजोने की क्षमता भी दी है, और जब स्त्रोत पूरे ना पड़ने की स्थिति हो तब भी वह हमारे लिए संसाधन उपलब्ध करवा देता है।  जैसे परमेश्वर के वचन बाइबल में नीतिवचन की पुस्तक में दिया गया है, परमेश्वर हमें बहुतायत के समय प्रदान करता है जिससे हम घटी के दिनों के लिए तैयार हो सकें (नीतिवचन 12:11)। साथ ही बाइबल में भजन 23 हमें आश्वस्त करता है कि संकट की स्थितियों में भी परमेश्वर हमें संभाले रखकर सुखद चारागाहों में ले जाता है। एक और तरीका है जिसके द्वारा परमेश्वर हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति करता है - जिनके पास बहुतायत से हो, वे उनके साथ बांटें जो घटी में हों (व्यवस्थाविवरण 24:19)।

   अतः हमारी आवश्यकातों की पूर्ति के लिए बाइबल की शिक्षा है कि, जब हम कार्य सकते हैं तो कार्य करें, जब संचय कर सकते हैं तो संचय करें, और जो आवश्यकता में हैं उनके साथ अपनी आशीषों को बाँटने से ना कतराएं, और परमेश्वर पर हमारी सभी आवश्यक्ताओं की पूर्ति करते रहने के लिए विश्वास को बनाए रखें। - जूली ऐकैरमैन लिंक


हमारी आवश्यकताएं कभी भी परमेश्वर के संसाधनों से बढ़कर नहीं हो पाएंगी।

जिनका भला करना चाहिये, यदि तुझ में शक्ति रहे, तो उनका भला करने से न रुकना। यदि तेरे पास देने को कुछ हो, तो अपने पड़ोसी से न कहना कि जा कल फिर आना, कल मैं तुझे दूंगा। नीतिवचन 3:27-28

बाइबल पाठ: व्यवस्थाविवरण 24:19-22
Deuteronomy 24:19 जब तू अपने पक्के खेत को काटे, और एक पूला खेत में भूल से छूट जाए, तो उसे लेने को फिर न लौट जाना; वह परदेशी, अनाथ, और विधवा के लिये पड़ा रहे; इसलिये कि परमेश्वर यहोवा तेरे सब कामों में तुझ को आशीष दे। 
Deuteronomy 24:20 जब तू अपने जलपाई के वृक्ष को झाड़े, तब डालियों को दूसरी बार न झाड़ना; वह परदेशी, अनाथ, और विधवा के लिये रह जाए। 
Deuteronomy 24:21 जब तू अपनी दाख की बारी के फल तोड़े, तो उसका दाना दाना न तोड़ लेना; वह परदेशी, अनाथ और विधवा के लिये रह जाए। 
Deuteronomy 24:22 और इस को स्मरण रखना कि तू मिस्र देश में दास था; इस कारण मैं तुझे यह आज्ञा देता हूं। 

एक साल में बाइबल: 
  • यशायाह 30-31
  • फिलिप्पियों 4