बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Saturday, January 16, 2016

प्रार्थना


   सुप्रसिद्ध सुसमाचार प्रचारक बिल्ली ग्राहम के 1949 में लॉस एन्जेलेस के एतिहासिक प्रचार अभियान में श्रोताओं के लिए एक विशाल तम्बू लगाया गया था जिसमें 6000 लोग आ सकते थे और 8 सप्ताह चले इस अभियान की प्रत्येक संध्या वह तम्बू अपनी क्षमता से अधिक लोगों से भरा रहता था। उसके निकट ही एक छोटा तम्बू भी था जहाँ प्रार्थना और परामर्श का कार्य होता था। बिल्ली ग्राहम के निकट मित्र एवं सहयोगी तथा उनकी सभाओं में संगीत संचालक क्लिफ बैरोस अकसर कहते थे कि सुसमाचार का असली कार्य उस छोटे तम्बू में होता था, जहाँ लोग जमा हो कर, अपने घुटने टेक कर, बड़े तम्बू की सुसमाचार सभा के लिए सभा से पहले और सभा के दौरान प्रार्थना करते रहते थे। लॉस एन्जेलेस की एक स्थानीय महिला, पर्ल गुड उस तथा उसके बाद की अनेक प्रार्थना सभाओं की जान थी।

   प्रेरित पौलुस ने कुलुस्से के मसीही विश्वासियों को लिखी अपनी पत्री में उन्हें आश्वस्त किया कि वह और उसके साथी सदा उनके लिए प्रार्थना करते रहते थे (कुलुस्सियों 1:3, 9)। पत्री को अन्त करते हुए पौलुस ने इपफ्रास का भी उल्लेख किया जिसकी सेवकाई से कुलुस्से में मसीही विश्वासियों की मण्डली स्थापित हुई थी: "इपफ्रास जो तुम में से है, और मसीह यीशु का दास है, तुम से नमस्‍कार कहता है और सदा तुम्हारे लिये प्रार्थनाओं में प्रयत्न करता है, ताकि तुम सिद्ध हो कर पूर्ण विश्वास के साथ परमेश्वर की इच्छा पर स्थिर रहो" (कुलुस्सियों 4:12)।

   "बड़े तम्बू" का सा सर्वविदित कार्य - सुसमाचार प्रचार करना, कुछ ही लोगों को दिया गया है। लेकिन परमेश्वर ने हम सभी मसीही विश्वासियों को, पर्ल गुड और इप्रफास के समान, "छोटे तम्बू" का आदर तथा ज़िम्मेदरी दी है - कि वे प्रार्थना में उसके सामने घुटने टेकें और लोगों को प्रार्थना में उसके अनुग्रह के सिंहासन के सामने लाएं जिससे उन लोगों के कार्य और सेवकाई प्रभावी एवं सफल हो सके। - डेविड मैक्कैसलैंड


प्रार्थना कार्य के लिए तैयारी करना नहीं, कार्य करना ही है। - ओस्वॉल्ड चैम्बर्स

और हर समय और हर प्रकार से आत्मा में प्रार्थना, और बिनती करते रहो, और इसी लिये जागते रहो, कि सब पवित्र लोगों के लिये लगातार बिनती किया करो। - इफिसियों 6:18

बाइबल पाठ: कुलुस्सियों 1:1-12
Colossians 1:1 पौलुस की ओर से, जो परमेश्वर की इच्छा से मसीह यीशु का प्रेरित है, और भाई तीमुथियुस की ओर से। 
Colossians 1:2 मसीह में उन पवित्र और विश्वासी भाइयों के नाम जो कुलुस्‍से में रहते हैं। हमारे पिता परमेश्वर की ओर से तुम्हें अनुग्रह और शान्‍ति प्राप्त होती रहे। 
Colossians 1:3 हम तुम्हारे लिये नित प्रार्थना कर के अपने प्रभु यीशु मसीह के पिता अर्थात परमेश्वर का धन्यवाद करते हैं। 
Colossians 1:4 क्योंकि हम ने सुना है, कि मसीह यीशु पर तुम्हारा विश्वास है, और सब पवित्र लोगों से प्रेम रखते हो। 
Colossians 1:5 उस आशा की हुई वस्तु के कारण जो तुम्हारे लिये स्वर्ग में रखी हुई है, जिस का वर्णन तुम उस सुसमाचार के सत्य वचन में सुन चुके हो। 
Colossians 1:6 जो तुम्हारे पास पहुंचा है और जैसा जगत में भी फल लाता, और बढ़ता जाता है; अर्थात जिस दिन से तुम ने उसको सुना, और सच्चाई से परमेश्वर का अनुग्रह पहिचाना है, तुम में भी ऐसा ही करता है। 
Colossians 1:7 उसी की शिक्षा तुम ने हमारे प्रिय सहकर्मी इपफ्रास से पाई, जो हमारे लिये मसीह का विश्वास योग्य सेवक है। 
Colossians 1:8 उसी ने तुम्हारे प्रेम को जो आत्मा में है हम पर प्रगट किया। 
Colossians 1:9 इसी लिये जिस दिन से यह सुना है, हम भी तुम्हारे लिये यह प्रार्थना करने और बिनती करने से नहीं चूकते कि तुम सारे आत्मिक ज्ञान और समझ सहित परमेश्वर की इच्छा की पहिचान में परिपूर्ण हो जाओ।
Colossians 1:10 ताकि तुम्हारा चाल-चलन प्रभु के योग्य हो, और वह सब प्रकार से प्रसन्न हो, और तुम में हर प्रकार के भले कामों का फल लगे, और परमेश्वर की पहिचान में बढ़ते जाओ। 
Colossians 1:11 और उस की महिमा की शक्ति के अनुसार सब प्रकार की सामर्थ से बलवन्‍त होते जाओ, यहां तक कि आनन्द के साथ हर प्रकार से धीरज और सहनशीलता दिखा सको। 
Colossians 1:12 और पिता का धन्यवाद करते रहो, जिसने हमें इस योग्य बनाया कि ज्योति में पवित्र लोगों के साथ मीरास में समभागी हों।

एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति 39-40
  • मत्ती 11