बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, April 25, 2018

बढ़कर



   परमेश्वर के वचन बाइबल के पुराने नियम खण्ड में 2 शमूएल नामक पुस्तक का प्रमुख विषय “जीवन गडबड़ी से भरा है” कहा जा सकता है। इस पुस्तक में वर्णित राजा दाऊद के जीवन से संबंधित घटनाओं को लेकर सरलता से टी.वी. के सीरियल्स की एक श्रंखला बनाने की क्षमता है। इस पुस्तक में दाउद द्वारा इस्राएल का राजा स्थापित होने, उसके सैनिक अभियानों और चुनौतियों, उससे संबंधित राजनैतिक षड्यंत्रों तथा परिवार एवँ मित्रगणों द्वारा किए गए विश्वासघात और स्वयं उसके अपने जीवन के अनैतिक कार्यों का वर्णन दिया गया है।

   परन्तु 2 शमूएल के अन्त की ओर पहुंचते समय हम इसी पुस्तक में दाऊद के द्वारा लिखा गया परमेश्वर की करुणा, दया, प्रेम और उससे मिलने वाले छुटकारे का स्तुति गीत भी पाते हैं, जहाँ दाऊद कहता है, “हे यहोवा, तू ही मेरा दीपक है, और यहोवा मेरे अन्धियारे को दूर कर के उजियाला कर देता है” (22:29)। अपनी अनेकों परेशानियों में दाऊद परमेश्वर की ओर मुड़ा और उससे कहा, “तेरी सहायता से मैं दल पर धावा करता, अपने परमेश्वर की सहायता से मैं शहरपनाह को फांद जाता हूँ” (पद 30)।

   संभवतः हम भी दाऊद के समान, उसके द्वारा अनुभव किए गए संघर्षों के साथ अपने आप को जुड़ा हुआ देख सकते हैं, क्योंकि हमारे समान ही वह भी सिद्ध नहीं था; परन्तु वह जानता था कि परमेश्वर उसके जीवन की हर गड़बड़ी से कहीं अधिक बढ़कर है, हर परिस्थति और परेशानी पर नियंत्रण तथा अधिकार रखता है, उन बातों को बदल भी सकता है, और उस स्थिति में अपने लोगों को संभाल कर सुरक्षित भी रख सकता है। इसलिए हम भी दाऊद के साथ कह सकते हैं: “ईश्वर की गति खरी है; यहोवा का वचन ताया हुआ है; वह अपने सब शरणागतों की ढाल है” (पद 31)।

   जीवन परेशानियों और परिस्थितियों से भरा हुआ अवश्य हो सकता है, परन्तु हमारा परमेश्वर उन सब से कहीं अधिक बढ़कर है। - डेविड मैक्कैस्लैंड


परमेश्वर के साथ नई शुरुआत करने में कभी कोई विलम्ब नहीं होता है।

यहोवा परमेश्वर मेरी ज्योति और मेरा उद्धार है; मैं किस से डरूं? यहोवा मेरे जीवन का दृढ़ गढ़ ठहरा है, मैं किस का भय खाऊं? – भजन 27:1

बाइबल पाठ: 2 शमूएल 22:26-37
2 Samuel 22:26 दयावन्त के साथ तू अपने को दयावन्त दिखाता; खरे पुरुष के साथ तू अपने को खरा दिखाता है;
2 Samuel 22:27 शुद्ध के साथ तू अपने को शुद्ध दिखाता; और टेढ़े के साथ तू तिरछा बनता है।
2 Samuel 22:28 और दीन लोगों को तो तू बचाता है, परन्तु अभिमानियों पर दृष्टि कर के उन्हें नीचा करता है।
2 Samuel 22:29 हे यहोवा, तू ही मेरा दीपक है, और यहोवा मेरे अन्धियारे को दूर कर के उजियाला कर देता है।
2 Samuel 22:30 तेरी सहायता से मैं दल पर धावा करता, अपने परमेश्वर की सहायता से मैं शहरपनाह को फांद जाता हूँ।
2 Samuel 22:31 ईश्वर की गति खरी है; यहोवा का वचन ताया हुआ है; वह अपने सब शरणागतों की ढाल है।
2 Samuel 22:32 यहोवा को छोड़ क्या कोई ईश्वर है? हमारे परमेश्वर को छोड़ क्या और कोई चट्टान है?
2 Samuel 22:33 यह वही ईश्वर है, जो मेरा अति दृढ़ क़िला है, वह खरे मनुष्य को अपने मार्ग में लिये चलता है।
2 Samuel 22:34 वह मेरे पैरों को हरिणियों के से बना देता है, और मुझे ऊंचे स्थानों पर खड़ा करता है।
2 Samuel 22:35 वह मेरे हाथों को युद्ध करना सिखाता है, यहां तक कि मेरी बांहें पीतल के धनुष को झुका देती हैं।
2 Samuel 22:36 और तू ने मुझ को अपने उद्धार की ढाल दी है, और तेरी नम्रता मुझे बढ़ाती है।
2 Samuel 22:37 तू मेरे पैरों के लिये स्थान चौड़ा करता है, और मेरे पैर नहीं फिसले।

एक साल में बाइबल: 
  • 2 शमूएल 21-22
  • लूका 18:24-43