बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, July 16, 2019

जड़ें



      अमेरिका के सिकोया वृक्ष सँसार के सबसे विशाल और टिकाऊ वृक्षों में से एक है। वह एक वृक्ष 300 फीट ऊँचा,  25 लाख पौंड (11 लाख किलो) वज़नी, और 3000 वर्ष तक जीवित रहने वाला हो सकता है। इस विशाल सिकोया वृक्ष का यह प्रदर्शित आकार और वैभव, सतह के नीचे अदृश्य जड़ों पर आधारित है। उसकी जड़ें बारह से पन्द्रह फुट गहरी और एक एकड़ भूमि में फ़ैली हुई तथा अन्य वृक्षों की जड़ों के साथ उलझकर जाल बनाए हुए होती हैं, जिससे इसका ऊँचे आकार और भारी वज़न को संभला रहता है।

      परन्तु सिकोया वृक्ष की जड़ों का यह विशाल जाल प्रभु यीशु के जीवन को आधार देने वाले इस्राएल के राष्ट्रीय इतिहास, धर्म और परमेश्वर के वचन की बातों की तुलना में बहुत छोटा है। परमेश्वर के वचन बाइबल में एक स्थान पर हम देखते हैं कि प्रभु ने उन धार्मिक अगुवों से जो पवित्रशास्त्र से प्रेम करने का दावा करते थे कहा कि उनका वही पवित्रशास्त्र प्रभु यीशु के विषय बताता है (यूहन्ना 5:39)। नासरत के एक आराधनालय  में प्रभु यीशु ने यशायाह नबी की पुस्तक को लेकर खोला और उसके एक भाग को सबके सामने पढ़कर कहा, “...आज ही यह लेख तुम्हारे साम्हने पूरा हुआ है” (लूका 4:21)।

      बाद में, अपने पुनरुत्थान के पश्चात प्रभु यीशु ने अपने चेलों को समझाया कि कैसे मूसा, भविष्यद्वक्ताओं, और भजन की पुस्तकें, आदि समस्त पवित्रशास्त्र उसके बारे में बताता है और दिखाता है कि क्यों उसके लिए यह अनिवार्य था कि वह दुःख उठाए, मारा जाए, और मृतकों में से जी उठे (24:46)।

      कैसा अद्भुत अनुग्रह और वैभव – प्रभु यीशु राष्ट्र के इतिहास और पवित्रशास्त्र का आधार है और आज हमारे जीवन की जड़ें उस ही में लाए गए विश्वास के द्वारा स्थिर होती हैं। - मार्ट डीहान


समस्त पवित्रशास्त्र हमें दिखाता है कि प्रभु यीशु हमारे जीवनों के लिए आवश्यक हैं।

तब मैं[यीशु] ने कहा, देख, मैं आ गया हूं, (पवित्र शास्त्र में मेरे विषय में लिखा हुआ है) ताकि हे परमेश्वर तेरी इच्छा पूरी करूं। - इब्रानियों 10:7

बाइबल पाठ: लूका 24: 36-49
Luke 24:36 वे ये बातें कह ही रहे ये, कि वह आप ही उन के बीच में आ खड़ा हुआ; और उन से कहा, तुम्हें शान्ति मिले।
Luke 24:37 परन्तु वे घबरा गए, और डर गए, और समझे, कि हम किसी भूत को देखते हैं।
Luke 24:38 उसने उन से कहा; क्यों घबराते हो और तुम्हारे मन में क्यों सन्‍देह उठते हैं?
Luke 24:39 मेरे हाथ और मेरे पांव को देखो, कि मैं वहीं हूं; मुझे छूकर देखो; क्योंकि आत्मा के हड्डी मांस नहीं होता जैसा मुझ में देखते हो।
Luke 24:40 यह कहकर उसने उन्हें अपने हाथ पांव दिखाए।
Luke 24:41 जब आनन्द के मारे उन को प्रतीति न हुई, और आश्चर्य करते थे, तो उसने उन से पूछा; क्या यहां तुम्हारे पास कुछ भोजन है?
Luke 24:42 उन्होंने उसे भूनी मछली का टुकड़ा दिया।
Luke 24:43 उसने ले कर उन के साम्हने खाया।
Luke 24:44 फिर उसने उन से कहा, ये मेरी वे बातें हैं, जो मैं ने तुम्हारे साथ रहते हुए, तुम से कही थीं, कि अवश्य है, कि जितनी बातें मूसा की व्यवस्था और भविष्यद्वक्ताओं और भजनों की पुस्‍तकों में, मेरे विषय में लिखी हैं, सब पूरी हों।
Luke 24:45 तब उसने पवित्र शास्त्र बूझने के लिये उन की समझ खोल दी।
Luke 24:46 और उन से कहा, यों लिखा है; कि मसीह दु:ख उठाएगा, और तीसरे दिन मरे हुओं में से जी उठेगा।
Luke 24:47 और यरूशलेम से ले कर सब जातियों में मन फिराव का और पापों की क्षमा का प्रचार, उसी के नाम से किया जाएगा।
Luke 24:48 तुम इन सब बातें के गवाह हो।
Luke 24:49 और देखो, जिस की प्रतिज्ञा मेरे पिता ने की है, मैं उसको तुम पर उतारूंगा और जब तक स्वर्ग से सामर्थ न पाओ, तब तक तुम इसी नगर में ठहरे रहो।

एक साल में बाइबल: 
  • भजन 16-17
  • प्रेरितों 20:1-16



No comments:

Post a Comment