बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, March 19, 2019

शब्द



      वह इतवार की रात थी, और अधिकांश लोग सो रहे थे जब पुडिंग लेन में स्थित थॉमस फैरिनर की बेकरी में एक छोटी सी आग लग गई। देखते ही देखते आग की लपटों ने एक से दूसरे घर फैलना आरंभ कर दिया और और शीघ्र ही लंडन सन 1666 के भयानक अग्निकांड में घिर गया जिसमें 70,000 से अधिक लोग बेघर हो गए और शहर का 4/5 भाग ध्वस्त हो गया। एक छोटी सी आग से इतना बड़ा विनाश आया।

      परमेश्वर का वचन बाइबल हमें एक अन्य छोटी परन्तु अत्यन्त विनाशकारी आग के विषय बताता है। जब याकूब ने लिखा, तब वह जीवनों और संबंधों के विषय चिन्तित था न कि मकानों के। याकूब ने अपनी पत्री में कहा, “वैसे ही जीभ भी एक छोटा सा अंग है और बड़ी बड़ी डींगे मारती है: देखो, थोड़ी सी आग से कितने बड़े वन में आग लग जाती है” (याकूब 3:5)।

      हमारे शब्द रचनात्मक भी हो सकते हैं। नीतिवचन 16:24 में  लिखा है, “मन भावने वचन मधु भरे छते के समान प्राणों को मीठे लगते, और हड्डियों को हरी-भरी करते हैं” प्रेरित पौलुस ने लिखा, “तुम्हारा वचन सदा अनुग्रह सहित और सलोना हो, कि तुम्हें हर मनुष्य को उचित रीति से उत्तर देना आ जाए” (कुलुस्सियों 4:6)। जैसे नमक हमारे भोजन को स्वाद देता है, उसी प्रकार अनुग्रह सहित कहे गए हमारे शब्द औरों को बलवंत करने में सहायक होते हैं।

      पवित्र आत्मा की सहायता से हमारे शब्द उन्हें सहायता प्रदान कर सकते हैं जो दुखित हैं, जो अपने विश्वास में बढ़ना चाहते हैं, या जिन्हें उद्धारकर्ता के पास आने की आवश्यकता है। हमारे शब्द आग लगाने की बजाए आग बुझाने और लोगों को सुधारने-संवारने का भी काम कर सकते हैं। - बिल क्राउडर


हमारे शब्द आज कैसे होंगे?

बुद्धिमान ज्ञान का ठीक बखान करते हैं, परन्तु मूर्खों के मुंह से मूढ़ता उबल आती है। - नीतिवचन 15:2

बाइबल पाठ: याकूब 3:3-12
James 3:3 जब हम अपने वश में करने के लिये घोड़ों के मुंह में लगाम लगाते हैं, तो हम उन की सारी देह को भी फेर सकते हैं।
James 3:4 देखो, जहाज भी, यद्यपि ऐसे बड़े होते हैं, और प्रचण्‍ड वायु से चलाए जाते हैं, तौभी एक छोटी सी पतवार के द्वारा मांझी की इच्छा के अनुसार घुमाए जाते हैं।
James 3:5 वैसे ही जीभ भी एक छोटा सा अंग है और बड़ी बड़ी डींगे मारती है: देखो, थोड़ी सी आग से कितने बड़े वन में आग लग जाती है।
James 3:6 जीभ भी एक आग है: जीभ हमारे अंगों में अधर्म का एक लोक है और सारी देह पर कलंक लगाती है, और भवचक्र में आग लगा देती है और नरक कुण्ड की आग से जलती रहती है।
James 3:7 क्योंकि हर प्रकार के बन-पशु, पक्षी, और रेंगने वाले जन्‍तु और जलचर तो मनुष्य जाति के वश में हो सकते हैं और हो भी गए हैं।
James 3:8 पर जीभ को मनुष्यों में से कोई वश में नहीं कर सकता; वह एक ऐसी बला है जो कभी रुकती ही नहीं; वह प्राण नाशक विष से भरी हुई है।
James 3:9 इसी से हम प्रभु और पिता की स्‍तुति करते हैं; और इसी से मनुष्यों को जो परमेश्वर के स्‍वरूप में उत्पन्न हुए हैं श्राप देते हैं।
James 3:10 एक ही मुंह से धन्यवाद और श्राप दोनों निकलते हैं।
James 3:11 हे मेरे भाइयों, ऐसा नहीं होना चाहिए।
James 3:12 क्या सोते के एक ही मुंह से मीठा और खारा जल दोनों निकलते हैं? हे मेरे भाइयों, क्या अंजीर के पेड़ में जैतून, या दाख की लता में अंजीर लग सकते हैं? वैसे ही खारे सोते से मीठा पानी नहीं निकल सकता।

एक साल में बाइबल:  
  • यहोशू 1-3
  • मरकुस 16