बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, May 22, 2020

बचाया



     मेरे पालतु बिल्ली के बच्चे वेलवेट को मेरी माँ ने घर में बनी रोटी को उठा कर, रसोई की अलमारी के ऊपर चढ़कर खाते हुए देखा। गुस्से में मेरी माँ ने उसे भगाया तो वह घर के दरवाज़े के बाहर भाग गई। कुछ घंटे के बाद भी जब वह अन्दर नहीं आई तो हम बाहर निकल कर उसे ढूँढने लगे, किन्तु वह हमें नहीं मिली। तभी उस की हलकी सी आवाज़ मुझे सुनाई पड़ी, और जब मैंने ऊपर की ओर देखा तो वह आँगन के एक ऊँचे पेड़ की पतली सी डाली के सिरे पर बैठे थी, और उस के वज़न से वह डाली झुक रही थी। मेरी माँ के क्रुद्ध व्यवहार से बचने के लिए भाग कर वेलवेट एक और भी अधिक खतरनाक परिस्थिति में जा फंसी थी। हम ने बहुत प्रयास किए कि वेलवेट किसी प्रकार से पीछे को हो कर उस डाली पर से सुरक्षित आ जाए, किन्तु सब असफल रहे। अंततः हमें अपने स्थानीय अग्निशमन सेवा को बुलाना पड़ा, और उन्होंने अपनी सब से लम्बी सीढ़ी को उस के सिरे तक उठा कर, एक दयालु व्यक्ति को ऊपर चढ़ाकर, वेलवेट को उस डाली पर से पकड़ कर उतारा और लाकर मेरे हाथों में रख दिया।

     हम भी कितनी ही बार यही करते हैं – अपनी गलतियों को छुपाने और उन से भागने के लिए अपने आप को और अधिक बड़े खतरों में डाल लेते हैं। किन्तु हमारा प्रेमी परमेश्वर पिता फिर भी हमें बचाने के लिए आता है। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम देखते हैं कि योना भविष्यद्वक्ता से परमेश्वर ने नीनवे जाकर प्रचार करने के लिए कहा, परन्तु परमेश्वर की अनाज्ञाकारिता कर के, वह तर्शीश की ओर भाग गया, और अंततः एक विशाल मछली के पेट में जा पहुँचा। “तब योना ने उसके पेट में से अपने परमेश्वर यहोवा से प्रार्थना कर के कहा, मैं ने संकट में पड़े हुए यहोवा की दोहाई दी, और उसने मेरी सुन ली है; अधोलोक के उदर में से मैं चिल्ला उठा, और तू ने मेरी सुन ली” (योना 2:1-2)। परमेश्वर ने उसकी प्रार्थना सुनी, “और यहोवा ने मच्छ को आज्ञा दी, और उसने योना को स्थल पर उगल दिया” (पद 10)। फिर परमेश्वर ने योना को एक और अवसर दिया कि वह जा कर नीनवे में प्रचार करे (योना 3:1)।

     हमें हमारी अनाज्ञाकारिता और ढिठाई के दुष्परिणामों से बचा कर निकाल लाने के लिए परमेश्वर कितनी भी ऊँचाई या गहराई तक जाने के लिए तैयार रहता है। उसका बचाने वाला प्रेम कितना महान है, जिस के अंतर्गत उसने हमें हमारे पापों से बचाया है। - एलिसा मॉर्गन

क्रूस पर प्रभु यीशु की मृत्यु ने हमें हमारे पापों से बचा लिया है।

क्योंकि मैं निश्चय जानता हूं, कि न मृत्यु, न जीवन, न स्वर्गदूत, न प्रधानताएं, न वर्तमान, न भविष्य, न सामर्थ्य, न ऊंचाई, न गहिराई और न कोई और सृष्टि, हमें परमेश्वर के प्रेम से, जो हमारे प्रभु मसीह यीशु में है, अलग कर सकेगी। - रोमियों 8:38-39

बाइबल पाठ: योना 2:1-10
योना 2:1 तब योना ने उसके पेट में से अपने परमेश्वर यहोवा से प्रार्थना कर के कहा,
योना 2:2 मैं ने संकट में पड़े हुए यहोवा की दोहाई दी, और उसने मेरी सुन ली है; अधोलोक के उदर में से मैं चिल्ला उठा, और तू ने मेरी सुन ली।
योना 2:3 तू ने मुझे गहिरे सागर में समुद्र की थाह तक डाल दिया; और मैं धाराओं के बीच में पड़ा था, तेरी भड़काई हुई सब तरंग और लहरें मेरे ऊपर से बह गईं।
योना 2:4 तब मैं ने कहा, मैं तेरे साम्हने से निकाल दिया गया हूं; तौभी तेरे पवित्र मन्दिर की ओर फिर ताकूंगा।
योना 2:5 मैं जल से यहां तक घिरा हुआ था कि मेरे प्राण निकले जाते थे; गहिरा सागर मेरे चारों ओर था, और मेरे सिर में सिवार लिपटा हुआ था।
योना 2:6 मैं पहाड़ों की जड़ तक पहुंच गया था; मैं सदा के लिये भूमि में बन्द हो गया था; तौभी हे मेरे परमेश्वर यहोवा, तू ने मेरे प्राणों को गड़हे में से उठाया है।
योना 2:7 जब मैं मूर्छा खाने लगा, तब मैं ने यहोवा को स्मरण किया; और मेरी प्रार्थना तेरे पास वरन तेरे पवित्र मन्दिर में पहुंच गई।
योना 2:8 जो लोग धोखे की व्यर्थ वस्तुओं पर मन लगाते हैं, वे अपने करूणा निधान को छोड़ देते हैं।
योना 2:9 परन्तु मैं ऊंचे शब्द से धन्यवाद कर के तुझे बलिदान चढ़ाऊंगा; जो मन्नत मैं ने मानी, उसको पूरी करूंगा। उद्धार यहोवा ही से होता है।
योना 2:10 और यहोवा ने मच्छ को आज्ञा दी, और उसने योना को स्थल पर उगल दिया।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 इतिहास 16-18
  • यूहन्ना 7:28-53



No comments:

Post a Comment