बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Friday, August 5, 2011

बहाने ही बहाने

मेरे एक मित्र ने मुझे कुछ बहानों की सूचि भेजी, जो दुर्घटना-ग्रस्त कार चालकों ने अपनी गलती से बचने के लिए वास्तव में बनाए थे:
  • बिना अपने किसी इरादे की कोई पूर्व सूचना दिए, दूसरी गाड़ी आकर मेरी गाड़ी से टकरा गई।
  • वो पैदल यात्री स्वयं आकर मेरी गाडी से टकराया और गाड़ी के नीचे चला गया।
  • घर आते समय मैं गलत घर की ओर मुड़ गया और एक ऐसे पेड़ से टकरा गया जो मेरे अपने घर में विद्यमान नहीं है।
  • मैं घर से गाड़ी लेकर निकला ही था कि मुझे मेरी सास दिखाई दे गई और गाड़ी अनायास ही सड़क के किनारे की पटरी पर चढ़ गई।
  • पैदल चल रहा व्यक्ति निर्णय ही नहीं कर पा रहा था कि किस ओर मुड़े और इसलिए मेरी गाड़ी उस पर चढ़ गई।
ये बहाने दिखाते हैं कि हम अपनी गलतियों की ज़िम्मेदारी लेने में कितनी आनाकानी करते हैं और बहाने बनाना हमारे लिए कितना आसान होता है। लेकिन अपनी ज़िम्मेदारी दूसरों पर डालने या बहाने बनाने से हम अपने किए से बच नहीं सकते।

ऐसे ही बहाने हम तब भी बनाते हैं जब हम परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने में कमज़ोर रहते हैं। हमें लगता है कि परमेश्वर को हम अपने बहानों से मना लेंगे; लेकिन यदि उन्हीं बहानों को हम परमेश्वर के दृष्टिकोण से देखें तब हमे पता लगेगा कि हमारे बहाने कितने बचकाने होते हैं।

परमेश्वर के वचन में इस्त्राएल के प्रथम राजा, राजा शाऊल को परमेश्वर ने आज्ञा दी थी कि उसे अमालेकियों पर हमला करना है और उनकी हर चीज़ नष्ट कर देनी है, कुछ भी बचाना नहीं है। युद्ध में विजयी सेना पराजित लोगों से उनकी संपत्ति अपने लिए लूट लिया करती थी। शाऊल ने अपनी सेना के लोगों के डर में होकर बजाए सब कुछ नाश करने के, कुछ भाग लोगों को लूट लेने दिया और जब परमेश्वर के भविष्यद्वक्ता ने उस से इस विष्य में पूछा तो बहाना बनाया कि उन्होंने अच्छी अच्छी चीज़ें परमेश्वर को भेंट और बलिदान के लिए बचा लीं। उसकी यह अनाज्ञाकारिता उसे बहुत भारी पड़ी और इस्त्राएल का राज्य उसके हाथ और वंश से ले लिया गया।

यदि बहाने खोजने कि बजाए हम परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने के मार्गों के खोजी होंगे तो बहाने खोजने की आवश्यक्ता भी नहीं रहेगी। - पौल वैन गौर्डर


बहाने चाहे सुनने में सही लगें लेकिन कभी सही होते नहीं हैं।

परन्तु प्रजा के लोग लूट में से भेड़-बकरियों, और गाय-बैलों, अर्थात सत्यानाश होने की उत्तम उत्तम वस्तुओं को गिलगाल में तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये बलि चढ़ाने को ले आए हैं। - १ शमुएल १५:२१


बाइबल पाठ: १ शमुएल १५:१०-२६

1Sa 15:10 तब यहोवा का यह वचन शमूएल के पास पहुंचा,
1Sa 15:11 कि मैं शाऊल को राजा बना के पछताता हूं क्योंकि उस ने मेरे पीछे चलना छोड़ दिया, और मेरी आज्ञाओं का पालन नहीं किया। तब शमूएल का क्रोध भड़का; और वह रात भर यहोवा की दोहाई देता रहा।
1Sa 15:12 बिहान को जब शमूएल शाऊल से भेंट करने के लिये सवेरे उठा तब शमूएल को यह बताया गया, कि शाऊल कर्म्मेल को आया था, और अपने लिये एक निशानी खड़ी की, और घूम कर गिलगाल को चला गया है।
1Sa 15:13 तब शमूएल शाऊल के पास गया, और शाऊल ने उस से कहा, तुझे यहोवा की ओर से आशीष मिले; मैं ने यहोवा की आज्ञा पूरी की है।
1Sa 15:14 शमूएल ने कहा, फिर भेड़-बकरियों का यह मिमियाना, और गय-बैलों का यह रंबाना जो मुझे सुनाई देता है, यह क्यों हो रहा है?
1Sa 15:15 शाऊल ने कहा, वे तो अमालेकियों के यहां से आए हैं; अर्थात प्रजा के लोगों ने अच्छी से अच्छी भेड़-बकरियों और गाय-बैलों को तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये बलि करने को छोड़ दिया है और बाकी सब को तो हम ने सत्यानाश कर दिया है।
1Sa 15:16 तब शमूएल ने शाऊल से कहा, ठहर जा! और जो बात यहोवा ने आज रात को मुझ से कही है वह मैं तुझ को बताता हूं। उस ने कहा, कह दे।
1Sa 15:17 शमूएल ने कहा, जब तू अपनी दृष्टि में छोटा था, तब क्या तू इस्राएली गोत्रों का प्रधान न हो गया, और क्या यहोवा ने इस्राएल पर राज्य करने को तेरा अभिषेक नहीं किया?
1Sa 15:18 और यहोवा ने तुझे यात्रा करने की आज्ञा दी, और कहा, जाकर उन पापी अमालेकियों को सत्यानाश कर, और जब तक वे मिट न जाएं, तब तक उन से लड़ता रह।
1Sa 15:19 फिर तू ने किस लिये यहोवा की वह बात टाल कर लूट पर टूट के वह काम किया जो यहोवा की दृष्टि में बुरा है?
1Sa 15:20 शाऊल ने शमूएल से कहा, नि:सन्देह मैं ने यहोवा की बात मानकर जिधर यहोवा ने मुझे भेजा उधर चला, और अमालेकियों को सत्यानाश किया है।
1Sa 15:21 परन्तु प्रजा के लोग लूट में से भेड़-बकरियों, और गाय-बैलों, अर्थात सत्यानाश होने की उत्तम उत्तम वस्तुओं को गिलगाल में तेरे परमेश्वर यहोवा के लिये बलि चढ़ाने को ले आए हैं।
1Sa 15:22 शमूएल ने कहा, क्या यहोवा होमबलियों, और मेलबलियों से उतना प्रसन्न होता है, जितना कि अपनी बात के माने जाने से प्रसन्न होता है? सुन मानना तो बलि चढ़ाने और कान लगाना मेढ़ों की चर्बी से उत्तम है।
1Sa 15:23 देख बलवा करना और भावी कहने वालों से पूछना एक ही समान पाप है, और हठ करना मूरतों और गृहदेवताओं की पूजा के तुल्य है। तू ने जो यहोवा की बात को तुच्छ जाना, इसलिये उस ने तुझे राजा होने के लिये तुच्छ जाना है।
1Sa 15:24 शाऊल ने शमूएल से कहा, मैं ने पाप किया है; मैं ने तो अपनी प्रजा के लोगों का भय मान कर और उनकी बात सुन कर यहोवा की आज्ञा और तेरी बातों का उल्लंघन किया है।
1Sa 15:25 परन्तु अब मेरे पाप को क्षमा कर, और मेरे साथ लौट आ, कि मैं यहोवा को दण्डवत करूं।
1Sa 15:26 शमूएल ने शाऊल से कहा, मैं तेरे साथ न लौटूंगा; क्योंकि तू ने यहोवा की बात को तुच्छ जाना है, और यहोवा ने तुझे इस्राएल का राजा होने के लिये तुच्छ जाना है।

एक साल में बाइबल:
  • भजन ६८-६९
  • रोमियों ८:१-२१