बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Sunday, June 3, 2012

निशाना

   सन २००४ के ओलंपिक खेलों में राइफल से निशानेबाज़ी में स्वर्णपदक जीतने वाले मैट इम्मोन्स एक और पदक जीतने के बहुत करीब थे। वह अन्य खिलाड़ियों से निर्णायक रीति से आगे थे और अपने अंतिम प्रयास में केंद्र बिंदु पर निशाना लगा सकने की आशा रखते थे। उन्होंने निशाना लगाया, गोली सही जगह लगी भी किंतु कुछ गलत हो गया; ऐसा गलत कि जिससे उनकी वर्यिता गिर कर आठवें स्थान पर आ गई और वे पदक से चूक गए! उन्होंने निशाना तो साधा था, किंतु अपने नहीं अपने साथ वाले प्रत्योगी के निशाने पर। गलत निशाना साधने की इस चूक ने उनके लिए सब कुछ उलट-पुलट कर दिया।

   प्रेरित पौलुस ने फिलिप्पियों को लिखी अपनी पत्री में, मसीही जीवन में, विश्वासियों के लिए सही निशाने पर निशाना साधने की महत्वता पर ज़ोर दिया: "हे भाइयों, मेरी भावना यह नहीं कि मैं पकड़ चुका हूं: परन्‍तु केवल यह एक काम करता हूं, कि जो बातें पीछे रह गई हैं उन को भूल कर, आगे की बातों की ओर बढ़ता हुआ। निशाने की ओर दौड़ा चला जाता हूं, ताकि वह इनाम पाऊं, जिस के लिये परमेश्वर ने मुझे मसीह यीशु में ऊपर बुलाया है" (फिलिप्पियों ३:१३-१४)।

   पौलुस ने एक धावक के लक्ष्य की ओर दौड़ने के उदाहरण को भी लिया। रोचक बात है कि जो शब्द धावक के लक्ष्य के लिए प्रयोग हुआ है, उसका एक अन्य अर्थ तीरंदाज़ी में तीर चलाने के लक्ष्य के लिए भी है। इन दोनो ही बातों में जीतना, लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने के द्वारा ही संभव है। मसीही विश्वासी के लिए भी मसीह की समानता में ढलते जाने पर ध्यान केंद्रित रखना उसके पूरे जीवन की साधना होनी चाहिए (रोमियों ८:२८-२९; गलतियों ५:२२-२३)।

   आज आपका ध्यान किस बात पर केंद्रित है? क्या आपका ध्यान अधिकाधिक उन्नति पाने तथा सांसारिक यश और संपत्ति अर्जित कर लेने पर है? यदि आप मसीही विश्वासी हैं तो आपका सही निशाना अपने उद्धारकर्ता प्रभु यीशु की समानता में ढलना है (२ कुरिन्थियों ३:१८); और किसी बात पर ध्यान केंद्रित करना, गलत निशाने पर निशाना साधने के समान होगा, अन्ततः जिसके परिणाम अति दुखदायी होंगे।

   आज निश्चित कर लें कि आप सही निशाने पर अपना निशाना साध रहे हैं कि नहीं। - डेनिस फिशर


अपने जीवन को सबसे अधिक लाभकारी बनाने के लिए परमेश्वर के उद्देश्यों को अपना लक्ष्य बना लें।


निशाने की ओर दौड़ा चला जाता हूं, ताकि वह इनाम पाऊं, जिस के लिये परमेश्वर ने मुझे मसीह यीशु में ऊपर बुलाया है। - फिलिप्पियों ३:१४

बाइबल पाठ: फिलिप्पियों ३:७-१४
Php 3:7  परन्‍तु जो जो बातें मेरे लाभ की थीं, उन्‍हीं को मैं ने मसीह के कारण हानि समझ लिया है।
Php 3:8  वरन मैं अपने प्रभु मसीह यीशु की पहिचान की उत्तमता के कारण सब बातों को हानि समझता हूं: जिस के कारण मैं ने सब वस्‍तुओं की हानि उठाई, और उन्‍हें कूड़ा समझता हूं, जिस से मैं मसीह को प्राप्‍त करूं।
Php 3:9  और उस में पाया जाऊं, न कि अपनी उस धामिर्कता के साथ, जो व्यवस्था से है, वरन उस धामिर्कता के साथ जो मसीह पर विश्वास करने के कारण है, और परमेश्वर की ओर से विश्वास करने पर मिलती है।
Php 3:10  और मैं उसको और उसके मृत्युंजय की सामर्थ को, और उसके साथ दुखों में सहभागी हाने के मर्म को जानूं, और उस की मृत्यु की समानता को प्राप्‍त करूं।
Php 3:11  ताकि मैं किसी भी रीति से मरे हुओं में से जी उठने के पद तक पहुंचूं।
Php 3:12  यह मतलब नहीं, कि मैं पा चुका हूं, या सिद्ध हो चुका हूं: पर उस पदार्थ को पकड़ने के लिये दौड़ा चला जाता हूं, जिस के लिये मसीह यीशु ने मुझे पकड़ा था।
Php 3:13 हे भाइयों, मेरी भावना यह नहीं कि मैं पकड़ चुका हूं: परन्‍तु केवल यह एक काम करता हूं, कि जो बातें पीछे रह गई हैं उन को भूल कर, आगे की बातों की ओर बढ़ता हुआ।
Php 3:14  निशाने की ओर दौड़ा चला जाता हूं, ताकि वह इनाम पाऊं, जिस के लिये परमेश्वर ने मुझे मसीह यीशु में ऊपर बुलाया है।


एक साल में बाइबल: 

  • २ इतिहास १९-२० 
  • यूहन्ना १३:२१-३८