बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Tuesday, January 1, 2013

पठन और मनन


   सिंगापुर के एक होटल ने द्रुत गति उपाहार योजना आरंभ करी - ३० मिमिट में चाहे जितना खाएं और केवल आधी कीमत दें। इस योजना के अन्तर्गत भोजन करने वाले एक व्यक्ति ने अपने अनुभव के बारे में कहा: "मैं शिष्टाचार भूल गया और मैंने अपना मुँह भोजन सामग्री से ठूस लिया; मैंने सुशील रहने का ध्यान नहीं रखा और फिर दिन भर पेट की जलन और बदहज़मी से परेशान रहा और मेरी भूख भी जाती रही।"

   मुझे लगता है कि परमेश्वर के वचन बाइबल के अपने पठन और मनन को भी हम ऐसे ही द्रुत गति के उपाहार के समान ही लेते हैं। हम उपलब्ध समय अनुसार जल्दी जल्दी जितना संभव हो पढ़ तो लेते हैं किंतु जो पढ़ रहे हैं उसपर मनन नहीं करते; फिर सोचते हैं कि हम अपने बाइबल पढ़ने से कुछ सीख क्यों नहीं पा रहे हैं!

   लाभप्रद होने के लिए, शारीरिक भोजन के समान, आत्मिक भोजन को भी अच्छे से चबा चबा कर ही ग्रहण किया जाता है। हम में से जो लंबे समय से मसीही विश्वासी रहे हैं, कई बार बाइबल के अपने जाने-माने और अनेक बार पढ़े हुए खंड जल्दी से पढ़ जाते हैं। परन्तु ऐसा करने से जो उस खंड में से परमेश्वर हमें सिखाना चाहता है वह हम से अन्देखा हो जाता है। इस बात का एक निश्चित प्रमाण है हमारा बाइबल पढ़ने के पश्चात कुछ भी नया नहीं सीखना।

   भजनकार ने परमेश्वर के वचन के प्रति सही रवैये के बारे में लिखा: "मैं तेरे उपदेशों पर ध्यान करूंगा, और तेरे मार्गों की ओर दृष्टि रखूंगा" (भजन ११९:१५)। यही परमेश्वर के वचन के प्रति सही व्यवहार है - उस पर मनन करने के लिए समय लगाना।

   हमारी बाइबल पठन के प्रति उस द्रुत गति उपाहार वाली प्रवृति ना हो - उससे कुछ लाभ नहीं होगा। केवल परमेश्वर के वचन पर मनन द्वारा ही हम अपने आत्मिक जीवन के लिए कुछ प्राप्त कर सकते हैं। - सी. पी. हीया


बिना मनन के बाइबल पढ़ना मानो बिना चबाए भोजन खाना।

हे परमेश्वर, तू मेरा ईश्वर है, मैं तुझे यत्न से ढूंढूंगा; सूखी और निर्जल ऊसर भूमि पर, मेरा मन तेरा प्यासा है, मेरा शरीर तेरा अति अभिलाषी है। - भजन ६३:१

बाइबल पाठ: भजन ११९:१-१६
Ps 119:1  क्या ही धन्य हैं वे जो चाल के खरे हैं, और यहोवा की व्यवस्था पर चलते हैं!
Ps 119:2  क्या ही धन्य हैं वे जो उसकी चितौनियों को मानते हैं, और पूर्ण मन से उसके पास आते हैं!
Ps 119:3  फिर वे कुटिलता का काम नहीं करते, वे उसके मार्गों में चलते हैं।
Ps 119:4  तू ने अपने उपदेश इसलिये दिए हैं, कि वे यत्न से माने जाएं।
Ps 119:5  भला होता कि तेरी विधियों के मानने के लिये मेरी चालचलन दृढ़ हो जाए!
Ps 119:6  तब मैं तेरी सब आज्ञाओं की ओर चित्त लगाए रहूंगा, और मेरी आशा न टूटेगी।
Ps 119:7  जब मैं तेरे धर्ममय नियमों को सीखूंगा, तब तेरा धन्यवाद सीधे मन से करूंगा।
Ps 119:8  मैं तेरी विधियों को मानूंगा: मुझे पूरी रीति से न तज!
Ps 119:9  जवान अपनी चाल को किस उपाय से शुद्ध रखे? तेरे वचन के अनुसार सावधान रहने से।
Ps 119:10  मैं पूरे मन से तेरी खोज मे लगा हूं; मुझे तेरी आज्ञाओं की बाट से भटकने न दे!
Ps 119:11  मैं ने तेरे वचन को अपने हृदय में रख छोड़ा है, कि तेरे विरुद्ध पाप न करूं।
Ps 119:12  हे यहोवा, तू धन्य है; मुझे अपनी विधियां सिखा!
Ps 119:13  तेरे सब कहे हुए नियमों का वर्णन, मैं ने अपने मुंह से किया है।
Ps 119:14  मैं तेरी चितौनियों के मार्ग से, मानों सब प्रकार के धन से हर्षित हुआ हूं।
Ps 119:15  मैं तेरे उपदेशों पर ध्यान करूंगा, और तेरे मार्गों की ओर दृष्टि रखूंगा।
Ps 119:16  मैं तेरी विधियों से सुख पाऊंगा; और तेरे वचन को न भूलूंगा।

एक साल में बाइबल: 
  • उत्पत्ति १-३ 
  • मत्ती १