बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Monday, April 8, 2013

विशेषज्ञ


   रेबेका मैक्लैन पुरानी और क्षतिग्रस्त कलाकृतियों को ठीक करके पुनःस्थापित करने की विशेषज्ञ हैं। उनका कहना है कि अनेक ऐसी कलाकृतियाँ, जिन्हें यह समझ कर एक किनारे फेंक दिया जाता है कि वे अब ठीक होने योग्य नहीं हैं, एक विशेषज्ञ के द्वारा फिर से ठीक और पुनःस्थापित करी जा सकती हैं। उन्होंने स्वयं कई ऐसी कलाकृतियों पर से गर्द और पुरानी पड़ी वार्निश की परत को बड़ी सावधानी से हटाकर उनके फीके पड़ गए रंगों को फिर से पहले जैसा और उन कलाकृतियों को पुनःस्थापित किया है। लेकिन साथ ही उन्होंने कई कलाकृतियों को और अधिक खराब होते भी देखा है क्योंकि लोगों ने स्वयं ही उन को घर में पड़े सामान की सफाई करने वाले किसी द्रव्य या पाउडर से साफ करने के प्रयास किए थे। उनकी सलाह है कि यदि आप कलाकृतियों से प्रेम करते हैं और उन्हें पुनःस्थापित देखना चाहते हैं तो उन्हें विशेषज्ञ के पास लेजाएं और उसकी सलाह मानें।

   हम सब मनुष्य भी परमेश्वर की कलाकृति हैं जिन्हें पाप ने बिगाड़ दिया है, हमारे आत्मिक रंग और चमक फीके कर दिये हैं और हमें परमेश्वर की संगति से दूर कर दिया है। फिर भी परमेश्वर हम सब मनुष्यों से प्रेम करता है; वह हमें नाश में नहीं वरन अपने साथ संगति में पुनःस्थापित देखना चाहता है। अपने प्रयासों और कार्यों से हम अपने पाप के दाग़ कभी संपूर्णता से सफलता पूर्वक मिटा नहीं पाते और हमारे ये व्यर्थ प्रयास तथा पाप के प्रभाव हमारे जीवनों में निराशा और कुंठाएं उत्पन्न करते हैं। इन प्रयासों की विफलता के लिए कभी हम परिस्थितियों को, कभी दूसरों को, कभी भाग्य या ऐसी ही अन्य बातों को दोषी ठहराते रहते हैं। बहुत से लोग तो यह मानकर कि हम पाप से जीत नहीं सकते, पाप करने की अपनी प्रवृति को बदल नहीं सकते, हार मान लेते हैं और पाप में ही जीवन व्यतीत करते रहते हैं।

   लेकिन परमेश्वर ने हमें पाप के दोष से मुक्त करके, हमारे बिगड़े स्वरूप को ठीक करके हमें अपने साथ पुनःस्थापित करने के लिए एक मार्ग दिया है - प्रभु यीशु मसीह, जिसका क्रूस पर बहाया हुआ लहु हमें सब पापों से धोकर शुद्ध करता है (1 यूहन्ना 1:7)। प्रभु यीशु क्रूस पर अपने बलिदान और तीसरे दिन मृतकों से पुनरुत्थान के द्वारा पाप और मृत्यु पर विजयी हुआ है और यह विजय वह सब मनुष्यों के साथ बांटना चाहता है। अब जो कोई साधारण विश्वास के साथ प्रभु यीशु से अपने पापों की क्षमा मांगकर अपना जीवन उसे समर्पित करता है, उसके पाप प्रभु यीशु के लहु से धुल कर साफ हो जाते हैं, अर्थात वह पापों की क्षमा पाता है और निष्पाप होकर परमेश्वर की संगति में पुनःस्थापित हो जाता है - वह अब एक नई सृष्टि और परमेश्वर के लिए उपयोगी कलाकृति बन जाता है (2 कुरिन्थियों 5:17; इफिसियों 2:10)।

   जब पाप के दाग़ों से आत्मा की सफाई की बात आती है तो कोई मनुष्य अथवा मनुष्य द्वारा स्थापित विधि यह नहीं कर पाती; केवल प्रभु यीशु ही वह एकमात्र विशेषज्ञ है जो पाप से बिगड़े मनुष्य को शुद्ध तथा ठीक करके परमेश्वर के साथ संगति में पुनःस्थापित कर सकता है। - डेविड मैक्कैसलैंड


केवल परमेश्वर ही पाप से दूषित आत्मा को अपने अनुग्रह से परिपूर्ण एक भव्य कलाकृति बना सकता है।

सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्‍टि है: पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गईं। - 2 कुरिन्थियों 5:17

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 5:14-21
2 Corinthians 5:14 क्योंकि मसीह का प्रेम हमें विवश कर देता है; इसलिये कि हम यह समझते हैं, कि जब एक सब के लिये मरा तो सब मर गए।
2 Corinthians 5:15 और वह इस निमित्त सब के लिये मरा, कि जो जीवित हैं, वे आगे को अपने लिये न जीएं परन्तु उसके लिये जो उन के लिये मरा और फिर जी उठा।
2 Corinthians 5:16 सो अब से हम किसी को शरीर के अनुसार न समझेंगे, और यदि हम ने मसीह को भी शरीर के अनुसार जाना था, तौभी अब से उसको ऐसा नहीं जानेंगे।
2 Corinthians 5:17 सो यदि कोई मसीह में है तो वह नई सृष्‍टि है: पुरानी बातें बीत गई हैं; देखो, वे सब नई हो गईं।
2 Corinthians 5:18 और सब बातें परमेश्वर की ओर से हैं, जिसने मसीह के द्वारा अपने साथ हमारा मेल-मिलाप कर लिया, और मेल-मिलाप की सेवा हमें सौंप दी है।
2 Corinthians 5:19 अर्थात परमेश्वर ने मसीह में हो कर अपने साथ संसार का मेल मिलाप कर लिया, और उन के अपराधों का दोष उन पर नहीं लगाया और उसने मेल मिलाप का वचन हमें सौंप दिया है।
2 Corinthians 5:20 सो हम मसीह के राजदूत हैं; मानो परमेश्वर हमारे द्वारा समझाता है: हम मसीह की ओर से निवेदन करते हैं, कि परमेश्वर के साथ मेल मिलाप कर लो।
2 Corinthians 5:21 जो पाप से अज्ञात था, उसी को उसने हमारे लिये पाप ठहराया, कि हम उस में हो कर परमेश्वर की धामिर्कता बन जाएं।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 शमूएल 10-12
  • लूका 9:37-62