बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, November 6, 2014

आज्ञाकारी


   प्रायः संसार के सभी स्थानों पर प्राचीन काल से ही विधवाओं का जीवन अकसर निर्धनता और सामाजिक दुर्व्यवहार का जीवन रहा है। परमेश्वर के वचन बाइबल की दो पात्राओं के सामने भी यही परिस्थिति थी - कमाई करने के लिए परदेश गए एक इस्त्राएली परिवार की स्त्री नाओमी और उस परदेश के लोगों से लेकर ब्याही गई उसकी बहु रूत, दोनों ही विधवा हो गए थे और बड़ी अनिश्चितता उनके सामने थी। ऐसे में नाओमी ने चाहा कि रूत अपने लोगों में लौट जाए और एक नया घर बसाए और नई शुरुआत करे जबकि वह वापस इस्त्राएल में अपने घर और लोगों में लौट जाने की तैयारी कर रही थी। लेकिन रूत ने नाओमी का साथ छोड़ने से इन्कार किया और सदा उसके साथ रहने तथा उसके परमेश्वर और लोगों को अपनाने का निर्णय लिया। परमेश्वर की योजना उन दोनों में होकर कुछ अद्भुत करने की थी, जिसमें रूत की एक बहुत प्रमुख भूमिका थी।

   वापस घर आने के बाद रूत की चर्चा उस स्थान के लोगों में उसके भले व्यवहार और अपनी सास तथा उसके लोगों को प्रेम से अपनाने के कारण होने लगी। रूत सदा अपनी सास की आज्ञाकारिता में रहती और कार्य करती थी। नाओमी ने रूत को अपने एक दूर के संबंधी और धनी ज़मींदार बोआज़ के खेत में कटाई के बाद ज़मीन पर पड़े हुए अनाज को बटोरने के लिए भेजा, जहाँ बोआज़ ने उसे लगन से यह निम्न समझा जाने वाला कार्य करते देखा, उस पर कृपादृष्टि की और उसकी रक्षा तथा देखभाल के लिए अपने खेत के मज़दूरों को निर्देश दिए। आगे चलकर बोआज़ ने रूत को अपनी पत्नि के रूप में स्वीकार किया। बोआज़ और रूत के एक पुत्र उत्पन्न हुआ जिसका नाम था ओबेद। ओबेद का पोता हुआ दाऊद जो इस्त्राएल का राजा भी बना और जिसकी वंशावली में होकर संसार के उद्धारकर्ता प्रभु यीशु ने जन्म लिया।

   जब रूत नाओमी के साथ अपने देश और लोगों को छोड़कर इस्त्राएल आई थी तो उसका भविष्य अनिश्चित था। उसे यह भी पता नहीं था कि इस्त्राएल में आकर वहां के लोग उस परदेसिन के साथ कैसा व्यवहार करेंगे। लेकिन उस जवान स्त्री रूत का इस्त्राएल के परमेश्वर को अपनाना, उसकी आज्ञाकारिता में चलना, अपनी सास और उसके लोगों को आदर तथा प्रेम देना, अपनी सास की बात मानना - सब कुल मिलाकर उसके लिए इतनी आदर की बात बन गया - उसे ना केवल एक समृद्ध और संपन्न सांसारिक परिवार मिला, वरन परमेश्वर के वचन बाइबल में अनन्त काल के लिए आदर का स्थान और नाम भी मिल गया, तथा वह जगत के मुक्तिदाता एवं उद्धारकर्ता प्रभु यीशु की सांसारिक वंशावली में भी सम्मिलित करी गई।

   रूत के लिए भविष्य अनिश्चित और अन्धकारमय था, लेकिन अपनी सास तथा परमेश्वर के प्रति उसकी आज्ञाकारिता तथा समर्पण ने उसे गौरवशाली तथा संपन्न बना दिया। जीवन की अनिश्चितताओं में परमेश्वर के आज्ञाकारी बने रहें, आदर और प्रेम को अपने जीवन से अलग ना होने दें, और परमेश्वर से मिलने वाले प्रतिफल आपके लिए भी उत्तम आशीषें ले आएंगे। - सिंडी हैस कैसपर


भय विश्वास को बाधित करता है किंतु परमेश्वर पर विश्वास भरोसा उत्पन्न करता है।

यहोवा की बाट जोहता रह, और उसके मार्ग पर बना रह, और वह तुझे बढ़ाकर पृथ्वी का अधिकारी कर देगा; जब दुष्ट काट डाले जाएंगे, तब तू देखेगा। - भजन 37:34

बाइबल पाठ: रूत 3:1-11
Ruth 3:1 उसकी सास नाओमी ने उस से कहा, हे मेरी बेटी, क्या मैं तेरे लिये ठांव न ढूंढूं कि तेरा भला हो? 
Ruth 3:2 अब जिसकी दासियों के पास तू थी, क्या वह बोअज हमारा कुटुम्बी नहीं है? वह तो आज रात को खलिहान में जौ फटकेगा। 
Ruth 3:3 तू स्नान कर तेल लगा, वस्त्र पहिनकर खलिहान को जा; परन्तु जब तक वह पुरूष खा पी न चुके तब तक अपने को उस पर प्रगट न करना। 
Ruth 3:4 और जब वह लेट जाए, तब तू उस के लेटने के स्थान को देख लेना; फिर भीतर जा उसके पांव उघार के लेट जाना; तब वही तुझे बताएगा कि तुझे क्या करना चाहिये। 
Ruth 3:5 उसने उस से कहा, जो कुछ तू कहती है वह सब मैं करूंगी। 
Ruth 3:6 तब वह खलिहान को गई और अपनी सास की आज्ञा के अनुसार ही किया। 
Ruth 3:7 जब बोअज खा पी चुका, और उसका मन आनन्दित हुआ, तब जा कर राशि के एक सिरे पर लेट गया। तब वह चुपचाप गई, और उसके पांव उघार के लेट गई। 
Ruth 3:8 आधी रात को वह पुरूष चौंक पड़ा, और आगे की ओर झुककर क्या पाया, कि मेरे पांवों के पास कोई स्त्री लेटी है। 
Ruth 3:9 उसने पूछा, तू कौन है? तब वह बोली, मैं तो तेरी दासी रूत हूं; तू अपनी दासी को अपनी चद्दर ओढ़ा दे, क्योंकि तू हमारी भूमि छुड़ाने वाला कुटुम्बी है। 
Ruth 3:10 उसने कहा, हे बेटी, यहोवा की ओर से तुझ पर आशीष हो; क्योंकि तू ने अपनी पिछली प्रीति पहिली से अधिक दिखाई, क्योंकि तू, क्या धनी, क्या कंगाल, किसी जवान के पीछे नहीं लगी। 
Ruth 3:11 इसलिये अब, हे मेरी बेटी, मत डर, जो कुछ तू कहेगी मैं तुझ से करूंगा; क्योंकि मेरे नगर के सब लोग जानते हैं कि तू भली स्त्री है।

एक साल में बाइबल: 
  • यूहन्ना 14-17