बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, September 24, 2015

मित्र


 कुछ समय पहले मैं और मेरी पत्नि हमारे एक मित्र के फार्म पर गए हुए थे; वहाँ से हमने बाज़ार के दाम से बहुत सस्ते में ढेर सारी भोजन-वस्तु खरीदीं और घर लाकर उन्हें अपने फ्रीज़र में रख दिया, इस आश्य से कि वे जमी रहकर खराब नहीं होंगी और उन से हमारी कई महीनों की उनकी आवश्यकता की पूर्ति हो जाएगी। फिर एक भयंकर तूफान ने हमारे इलाके की बिजली को काट दिया। बिजली कटने के पहले चौबीस घंटे तो हम निश्चिन्त थे कि फ्रिज में पड़ी वे जमी हुई भोजन वस्तुएं खराब नहीं होंगी, लेकिन जब दूसरे दिन भी बिजली कटी रही और बिजली के आने के बारे में कुछ भी निश्चित नहीं पता चल सका तो हमें चिंता हुई कि वे सारी वस्तुएं खराब हो जाएंगी, और हमारी बचत एक बड़ा नुकसान बन जाएगी।

   ऐसे में हमने परमेश्वर के वचन बाइबल को अध्ययन करने वाले अपने समूह के एक सदस्य, टेड से संपर्क किया और पूछा कि इस समस्या का कैसे समाधान किया जा सकता है। टेड ने हमारी परेशानी सुनकर, अपने पूर्व-निर्धारित कार्यक्रम को रद्द किया और हमारे घर फ्रिज चलाने के लिए एक जैनेरेटर लेकर आ गया। मसीह यीशु के प्रेम में होकर उसके द्वारा करी गई हमारी इस सहायाता से हम टेड के बहुत आभारी और धन्यवादी हुए। एक पुरानी कहावत है कि सच्चा मित्र वही होता है जो समय पड़ने पर काम आए; टेड की सहायता ने हमारे लिए इस कहावत को चरितार्थ करके दिखा दिया।

   बाइबल में प्रेरित यूहन्ना ने लिखा, "हे बालकों, हम वचन और जीभ ही से नहीं, पर काम और सत्य के द्वारा भी प्रेम करें" (1 यूहन्ना 3:18)। इस बात को पूरा करने के लिए हमें अपने आप को परेशानी में भी डालना पड़ सकता है जिससे हम दूसरों की वैसी सहायता कर सकें जैसी हम अपने लिए विपरीत परिस्थितियों में दूसरों से चाहते हैं। जैसा प्रभु यीशु ने हमारे लिए किया और आज भी कर रहा है, हम भी उसी प्रेम भावना के अन्तर्गत दूसरों के सच्चे मित्र बनकर दिखाएं, उनके लिए अपने आप को खर्च करने वाले बनें।


यदि हम मसीह यीशु से प्रेम करते हैं तो औरों से भी प्रेम करेंगे।

इस से बड़ा प्रेम किसी का नहीं, कि कोई अपने मित्रों के लिये अपना प्राण दे। जो कुछ मैं तुम्हें आज्ञा देता हूं, यदि उसे करो, तो तुम मेरे मित्र हो। अब से मैं तुम्हें दास न कहूंगा, क्योंकि दास नहीं जानता, कि उसका स्‍वामी क्या करता है: परन्तु मैं ने तुम्हें मित्र कहा है, क्योंकि मैं ने जो बातें अपने पिता से सुनीं, वे सब तुम्हें बता दीं। - यूहन्ना 15:13-15 

बाइबल पाठ: 1 यूहन्ना 3:11-18
1 John 3:11 क्योंकि जो समाचार तुम ने आरम्भ से सुना, वह यह है, कि हम एक दूसरे से प्रेम रखें। 
1 John 3:12 और कैन के समान न बनें, जो उस दुष्‍ट से था, और जिसने अपने भाई को घात किया: और उसे किस कारण घात किया? इस कारण कि उसके काम बुरे थे, और उसके भाई के काम धर्म के थे।
1 John 3:13 हे भाइयों, यदि संसार तुम से बैर करता है तो अचम्भा न करना। 
1 John 3:14 हम जानते हैं, कि हम मृत्यु से पार हो कर जीवन में पहुंचे हैं; क्योंकि हम भाइयों से प्रेम रखते हैं: जो प्रेम नहीं रखता, वह मृत्यु की दशा में रहता है। 
1 John 3:15 जो कोई अपने भाई से बैर रखता है, वह हत्यारा है; और तुम जानते हो, कि किसी हत्यारे में अनन्त जीवन नहीं रहता। 
1 John 3:16 हम ने प्रेम इसी से जाना, कि उसने हमारे लिये अपने प्राण दे दिए; और हमें भी भाइयों के लिये प्राण देना चाहिए। 
1 John 3:17 पर जिस किसी के पास संसार की संपत्ति हो और वह अपने भाई को कंगाल देख कर उस पर तरस न खाना चाहे, तो उस में परमेश्वर का प्रेम क्योंकर बना रह सकता है? 
1 John 3:18 हे बालकों, हम वचन और जीभ ही से नहीं, पर काम और सत्य के द्वारा भी प्रेम करें।

एक साल में बाइबल: 
  • श्रेष्ठगीत 4-5
  • गलतियों 3