बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, August 9, 2018

स्वतंत्रता



      दूसरा विश्व युद्ध समाप्त हो गया था, और शान्ति घोषित हो चुकी थी। परन्तु जापानी शाही सेना के जवान लेफ्टिनेंट हीरू ओनोडा, जिन्हें फिलीपींस के एक द्वीप पर तैनात किया गया था, यह नहीं जानते थे कि युद्ध समाप्त हो चुका है। उनका पता लगाने के लिए प्रयास किए गए। उनके संभावित स्थान पर वायुयान द्वारा इस संबंध में पर्चे डलवाए गए, परन्तु ओनोडा ने, जिनको 1945 में अंतिम आज्ञा मिली थी कि वे अपने स्थान पर डटे रहें और लड़ते रहें, इन सभी प्रयासों को शत्रु की चालाकी और दुष्प्रचार माना, और उन पर्चों के संदेशों की अवहेलना कर दी। अन्ततः युद्ध की समाप्ति के लगभग तीस वर्ष के बाद उन्होंने मार्च 1974 में तब समर्पण किया, जब उनके भूतपूर्व अफसर ने जापान से फिलीपींस आकर उन्हें पहले दिए गई आज्ञा को निरस्त किया और ओनोडा को आधिकारिक तौर पर उस द्वीप पर डटे रहने की जिम्मेदारी से मुक्त नहीं कर दिया। तब ही ओनोडा ने अन्ततः स्वीकार किया कि युद्ध की समाप्ति हो चुकी थी।

      प्रभु यीशु मसीह के सुसमाचार के विषय भी अभी तक बहुत से लोगों ने या तो सुना नहीं है, या फिर वे उस सुसमाचार पर विश्वास नहीं करते हैं कि प्रभु यीशु में विश्वास और पापों की क्षमा के द्वारा अनन्त जीवन की आशीष सारे सँसार के सभी लोगों के लिए सेंत-मेंत उपलब्ध है (2 तिमुथियुस 1:10)।हम में से कुछ, जिन्होंने सुना और विश्वास किया भी है, वे भी अभी तक एक हारा हुआ जीवन व्यतीत कर रहे हैं, अपने ही बल-बूते पर जीवन के संघर्षों से पार पाने के तरीके ढूँढ़ रहे हैं।

      आज ऐसे लोगों की आवश्यकता है जो जाकर प्रभु यीशु मसीह के द्वारा पाप और मृत्यु पर हासिल की गई विजय के बारे में लोगों को बताएँ, उनके संदेह या संशय का निवारण करने में उनकी सहायता करें। उनकी उस स्वतंत्रता की कल्पना करें जिसे वे तब अनुभव करेंगे जब मसीह यीशु उनके मनों को पाप के विरुद्ध युद्ध को जीत लिए जाने के समाचार से भर देगा। - पो फैंग चिया


क्या आज आप किसी को सुसमाचार बताएंगे?

पर अब हमारे उद्धारकर्ता मसीह यीशु के प्रगट होने के द्वारा प्रकाश हुआ, जिसने मृत्यु का नाश किया, और जीवन और अमरता को उस सुसमाचार के द्वारा प्रकाशमान कर दिया। - 2 तिमुथियुस 1:10

बाइबल पाठ: 2 कुरिन्थियों 4:1-6
2 Corinthians 4:1 इसलिये जब हम पर ऐसी दया हुई, कि हमें यह सेवा मिली, तो हम हियाव नहीं छोड़ते।
2 Corinthians 4:2 परन्तु हम ने लज्ज़ा के गुप्‍त कामों को त्याग दिया, और न चतुराई से चलते, और न परमेश्वर के वचन में मिलावट करते हैं, परन्तु सत्य को प्रगट कर के, परमेश्वर के साम्हने हर एक मनुष्य के विवेक में अपनी भलाई बैठाते हैं।
2 Corinthians 4:3 परन्तु यदि हमारे सुसमाचार पर परदा पड़ा है, तो यह नाश होने वालों ही के लिये पड़ा है।
2 Corinthians 4:4 और उन अविश्वासियों के लिये, जिन की बुद्धि को इस संसार के ईश्वर ने अन्‍धी कर दी है, ताकि मसीह जो परमेश्वर का प्रतिरूप है, उसके तेजोमय सुसमाचार का प्रकाश उन पर न चमके।
2 Corinthians 4:5 क्योंकि हम अपने को नहीं, परन्तु मसीह यीशु को प्रचार करते हैं, कि वह प्रभु है; और अपने विषय में यह कहते हैं, कि हम यीशु के कारण तुम्हारे सेवक हैं।
2 Corinthians 4:6 इसलिये कि परमेश्वर ही है, जिसने कहा, कि अन्धकार में से ज्योति चमके; और वही हमारे हृदयों में चमका, कि परमेश्वर की महिमा की पहिचान की ज्योति यीशु मसीह के चेहरे से प्रकाशमान हो।


एक साल में बाइबल: 
  • भजन 77-78
  • रोमियों 10