बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, February 27, 2019

ज्योति



      यूनानी दार्शनिक प्लेटो (c.427 – c.348 ईसा पूर्व) ने मानव हृदय के अँधेरे भाग पर ज्योति चमकाने का एक अनूठा मार्ग लिया। उसने एक कहानी बनाई, कि एक भूकंप के कारण किसी पहाड़ के निकट की एक कब्र खुल गई और उसमें छिपी एक सुनहरी अंगूठी एक चरवाहे को दिखाई दी। उस चरवाहे को यह भी पता चला कि उस अंगूठी में एक करिशमाई ताकत भी है – उसे पहनने वाला अपनी इच्छानुसार अदृश्य भी हो सकता है। अदृश्यता की बात करते हुए प्लेटो ने एक प्रश्न उठाया, “यदि लोगों को पकड़े जाने और दण्ड भुगतने का भय न हो, तो क्या वे बुरा अथवा गलत करने से अपने आप को रोकेंगे?”

      परमेश्वर के वचन बाइबल में प्रभु यीशु मसीह ने ऐसे ही एक विचार को भिन्न दिशा दी। वहाँ, प्रभु यीशु मसीह ने, जिसे अच्छा चरवाहा भी कहा गया है, ऐसे हृदयों की बात की जो अपने किए को छुपाए रखने के लिए अन्धकार में छिपे रहते हैं (यूहन्ना 3:19-20)। वह बात को छिपाए रखने की हमारी इच्छा की ओर हमारा ध्यान में हमें दोषी ठहराने के लिए नहीं खींच रहे हैं, परन्तु हमें उनमें होकर मिलने वाली पापों की क्षमा और उद्धार के विषय बताने के लिए ऐसा कर रहे हैं (पद 17)। हमारे हृदय का चरवाहा होने के कारण, वह हमारे मानवीय हृदय और स्वभाव की सबसे बुरी स्थिति को उजागर करते हैं, यह प्रमाणित करने के लिए कि फिर भी परमेश्वर पिता हम से कितना प्रेम करते हैं (पद 16)।

      परमेश्वर अपने अनुग्रह में हमें पाप के अन्धकार से निकलकर उसकी ज्योति में चलने का निमंत्रण देता है, जिससे हम उसके साथ अनन्तकाल तक आशीषित जीवन व्यतीत कर सकें। - मार्ट डीहान


प्रभु यीशु की ज्योति आने पर पाप का अन्धकार मिट जाता है।

और उन अविश्वासियों के लिये, जिन की बुद्धि को इस संसार के ईश्वर ने अन्‍धी कर दी है, ताकि मसीह जो परमेश्वर का प्रतिरूप है, उसके तेजोमय सुसमाचार का प्रकाश उन पर न चमके। - 2 कुरिन्थियों 4:4

बाइबल पाठ: यूहन्ना 3: 16-21
John 3:16 क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए।
John 3:17 परमेश्वर ने अपने पुत्र को जगत में इसलिये नहीं भेजा, कि जगत पर दंड की आज्ञा दे परन्तु इसलिये कि जगत उसके द्वारा उद्धार पाए।
John 3:18 जो उस पर विश्वास करता है, उस पर दंड की आज्ञा नहीं होती, परन्तु जो उस पर विश्वास नहीं करता, वह दोषी ठहर चुका; इसलिये कि उसने परमेश्वर के एकलौते पुत्र के नाम पर विश्वास नहीं किया।
John 3:19 और दंड की आज्ञा का कारण यह है कि ज्योति जगत में आई है, और मनुष्यों ने अन्धकार को ज्योति से अधिक प्रिय जाना क्योंकि उन के काम बुरे थे।
John 3:20 क्योंकि जो कोई बुराई करता है, वह ज्योति से बैर रखता है, और ज्योति के निकट नहीं आता, ऐसा न हो कि उसके कामों पर दोष लगाया जाए।
John 3:21 परन्तु जो सच्चाई पर चलता है वह ज्योति के निकट आता है, ताकि उसके काम प्रगट हों, कि वह परमेश्वर की ओर से किए गए हैं।


एक साल में बाइबल: 
  • गिनती 17-19
  • मरकुस 6:30-56