बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Thursday, March 21, 2019

समर्पण



      मुझे कार्य से कुछ अवकाश लेने की इच्छा हुई, इसलिए मैं निकट के एक उद्यान में टहलने के लिए चली गई। टहलते हुए मार्ग के किनारे मिट्टी से झांकती हुई कुछ हरियाली ने मेरा ध्यान आकर्षति किया। मिट्टी में से जीवन की कुछ कोपलें बाहर निकल रही थीं, जो कुछ ही सप्ताह में सुन्दर डैफोडिल फूलों से भर जाएँगी, जो कि बसंत ऋतु और आते ग्रीष्म काल का संकेत हैं, और इसका भी कि हमने एक और शरद ऋतु पार कर ली थी!

      परमेश्वर के वचन बाइबल में जब हम होशे की पुस्तक को पढ़ते हैं, तो उसके कुछ भाग कभी समाप्त न होने वाली शरद ऋतु के समान प्रतीत हो सकते हैं। क्योंकि परमेश्वर ने अपने इस नबी को एक अपरिहार्य कार्य दिया था – एक दुराचारी तथा विश्वासघाती स्त्री से विवाह करे, जो कि परमेश्वर और उसके लोगों इस्राएल के बीच के संबंध का सूचक था (होशे 1:1-2)। होशे की पत्नि गोमेर ने विवाह के वचनों को तोड़ा और अपने पुराने व्यवहार में लौट गई, किन्तु होशे ने फिर भी उसे वापस बुलाया, इस आशा के साथ कि वह उससे पूर्ण समर्पण के साथ प्रेम करेगी (3:1-3)। इसी प्रकार से परमेश्वर भी चाहता है कि हम उससे ऐसे बल और समर्पण के साथ प्रेम करें जो प्रातः की ओस के समान थोड़े समय में गायब न हो जाए।

      परमेश्वर के प्रति हमारा संबंध कैसा है? क्या हम केवल कठिनाईयों के समयों में ही उसे खोजते हैं, उससे अपनी परेशानियों के समाधान ढूँढते हैं, परन्तु जब आनन्द और उत्सव के समय होते हैं तो उसकी अवहेलना करते हैं? उन इस्राएलियों के समान जो शीघ्र ही अपने आस-पास के लोगों की मूर्तिपूजा को अपना लेते थे और परमेश्वर से दूर हो जाते थे, क्या हम भी अपने समय की मूर्तियों, जैसे कि व्यस्तता, सांसारिक सफलता, समाज और लोगों के प्रभाव आदि में खो जाते हैं और परमेश्वर से दूर हो जाते हैं?

      आज अपने आप को परमेश्वर के प्रति पुनः समर्पित करें; उस परमेश्वर के प्रति जो हम से सदा प्रेम करता है और सदा हर रीति से हमारी भलाई, हमारा उद्धार ही चाहता है। - एमी बाउचर पाई


यद्यपि हम परमेश्वर के प्रति विश्वासघाती हो सकते है, वह हमसे कभी दूर नहीं होता है।

क्योंकि परमेश्वर ने जगत से ऐसा प्रेम रखा कि उसने अपना एकलौता पुत्र दे दिया, ताकि जो कोई उस पर विश्वास करे, वह नाश न हो, परन्तु अनन्त जीवन पाए। परमेश्वर ने अपने पुत्र को जगत में इसलिये नहीं भेजा, कि जगत पर दंड की आज्ञा दे परन्तु इसलिये कि जगत उसके द्वारा उद्धार पाए। - यूहन्ना 3:16-17

बाइबल पाठ: होशे 6:1-4
Hosea 6:1 चलो, हम यहोवा की ओर फिरें; क्योंकि उसी ने फाड़ा, और वही चंगा भी करेगा; उसी ने मारा, और वही हमारे घावों पर पट्टी बान्धेगा।
Hosea 6:2 दो दिन के बाद वह हम को जिलाएगा; और तीसरे दिन वह हम को उठा कर खड़ा करेगा; तब हम उसके सम्मुख जीवित रहेंगे।
Hosea 6:3 आओ, हम ज्ञान ढूंढ़े, वरन यहोवा का ज्ञान प्राप्त करने के लिये यत्न भी करें; क्योंकि यहोवा का प्रगट होना भोर का सा निश्चित है; वह वर्षा के समान हमारे ऊपर आएगा, वरन बरसात के अन्त की वर्षा के समान जिस से भूमि सिंचती है।
Hosea 6:4 हे एप्रैम, मैं तुझ से क्या करूं? हे यहूदा, मैं तुझ से क्या करूं? तुम्हारा स्नेह तो भोर के मेघ के समान, और सवेरे उड़ जाने वाली ओस के समान है।

एक साल में बाइबल:  
  • यहोशू 7-9
  • लूका 1:21-38