बाइबल और मसीही विश्वास सम्बन्धी अपने प्रश्नों के लिए यहाँ क्लिक करें:

GotQuestions?org

Wednesday, May 24, 2017

भय और विश्वास


   मैंने अपने आहते में पत्थरों को लगाकर कुछ सजावट करने के लिए उस सजावाट के नमूने के अनुसार धरती पर जाल बिछाया हुआ था। मैं काम समाप्त करने के निकट ही था तभी मैंने देखा कि एक गिलहरी जाल के एक भाग में फँस गई है। मैंने अपने दस्ताने पहने और उस गिलहरी को मुक्त करने के लिए उसके आस-पास के जाल को काटने लगा। परन्तु वह मुझसे और मेरे कार्य से प्रसन्न नहीं थी; मुझे अपने पास आता देख उसने लपक कर मुझे काटने का प्रयास किया। मैंने शान्त स्वर में कहा, "डरो नहीं, मैं तुम्हें कोई हानि पहुँचाना नहीं चाहता हूँ; बस थोड़ा शान्त रहो।" परन्तु उसे मेरी बात समझ नहीं आ रही थी, और अपने भय में होकर वह मेरा प्रतिरोध करती रही। अन्ततः उसे फँसाए रखने वाला जाल का अन्तिम भाग भी कट गया और वह गिलहरी कूद कर भाग गई।

   अनेकों बार हम मनुष्य भी परमेश्वर के प्रति यही रवैया रखते हैं; अपनी परिस्थितियों में फँस कर हम परमेश्वर को भय तथा अविश्वास की प्रतिक्रिया देते हैं। युगों और शताब्दियों से प्रभु परमेश्वर हमें बचाने, सुरक्षित रखने, हमें आश्वस्त रखने और अपने निकट लाने के प्रयास करता आ रहा है; परन्तु फिर भी हम अपने प्रति उसके भले उद्देश्यों को न समझते हुए, उसका प्रतिरोध करते रहते हैं, उसके कार्य में बाधा डालते रहते हैं, उसे गलत समझते रहते हैं। परमेश्वर के वचन बाइबल में हम पाते हैं कि यशायाह भविष्यद्वक्ता में होकर परमेश्वर कहता है, "क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा, तेरा दहिना हाथ पकड़कर कहूंगा, मत डर, मैं तेरी सहायता करूंगा" (यशायाह 41:13)।

   आज अपने जीवन और परिस्थितियों को लेकर आप अपने जीवन में प्रभु परमेश्वर की भूमिका को किस प्रकार से देखते हैं? क्या आप अपना जीवन और जीवन से जुड़ी सभी बातों को उसके हाथों में सौंपने से डरते हैं कि कहीं वह आपकी कोई हानि न कर दे? उस पर विश्वास रखें, वह भला है और संसार के हर व्यक्ति के साथ भलाई ही करना चाहता है। वह आपको शैतान द्वारा आप पर लाई गई बुराइयों और परिस्थितियों के जाल से निकालना चाहता है। उस से भयभीत न हों, उस पर विश्वास करें; अपना जीवन और जीवन की सभी बातें उसके हाथों में सौंप दें, शान्त और आश्वस्त होकर उसके कार्यों को देखें। - डेव ब्रैनन


भय का सर्वोत्तम तोड़ विश्वास है।

वरन अपने शत्रुओं से प्रेम रखो, और भलाई करो: और फिर पाने की आस न रखकर उधार दो; और तुम्हारे लिये बड़ा फल होगा; और तुम परमप्रधान के सन्तान ठहरोगे, क्योंकि वह उन पर जो धन्यवाद नहीं करते और बुरों पर भी कृपालु है। जैसा तुम्हारा पिता दयावन्‍त है, वैसे ही तुम भी दयावन्‍त बनो। - लूका 6:35-36

बाइबल पाठ: यशायाह 41:10-20
Isaiah 41:10 मत डर, क्योंकि मैं तेरे संग हूं, इधर उधर मत ताक, क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर हूं; मैं तुझे दृढ़ करूंगा और तेरी सहायता करूंगा, अपने धर्ममय दाहिने हाथ से मैं तुझे सम्हाले रहूंगा।
Isaiah 41:11 देख, जो तुझ से क्रोधित हैं, वे सब लज्जित होंगे; जो तुझ से झगड़ते हैं उनके मुंह काले होंगे और वे नाश हो कर मिट जाएंगे। 
Isaiah 41:12 जो तुझ से लड़ते हैं उन्हें ढूंढने पर भी तू न पएगा; जो तुझ से युध्द करते हैं वे नाश हो कर मिट जाएंगे। 
Isaiah 41:13 क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा, तेरा दहिना हाथ पकड़कर कहूंगा, मत डर, मैं तेरी सहायता करूंगा।
Isaiah 41:14 हे कीड़े सरीखे याकूब, हे इस्राएल के मनुष्यों, मत डरो! यहोवा की यह वाणी है, मैं तेरी सहयता करूंगा; इस्राएल का पवित्र तेरा छुड़ाने वाला है। 
Isaiah 41:15 देख, मैं ने तुझे छुरीवाले दांवने का एक नया और चोखा यन्त्र ठहराया है; तू पहाड़ों को दांव दांवकर सूक्षम धूलि कर देगा, और पहाडिय़ों को तू भूसे के समान कर देगा। 
Isaiah 41:16 तू उन को फटकेगा, और पवन उन्हें उड़ा ले जाएगी, और आंधी उन्हें तितर-बितर कर देगी। परन्तु तू यहोवा के कारण मगन होगा; और इस्राएल के पवित्र के कारण बड़ाई मारेगा।
Isaiah 41:17 जब दीन और दरिद्र लोग जल ढूंढ़ने पर भी न पाएं और उनका तालू प्यास के मारे सूख जाए; मैं यहोवा उनकी बिनती सुनूंगा, मैं इस्राएल का परमेश्वर उन को त्याग न दूंगा
Isaiah 41:18 मैं मुण्डे टीलों से भी नदियां और मैदानों के बीच में सोते बहऊंगा; मैं जंगल को ताल और निर्जल देश को सोते ही सोते कर दूंगा। 
Isaiah 41:19 मैं जंगल में देवदार, बबूल, मेंहदी, और जलपाई उगाऊंगा; मैं अराबा में सनौवर, तिधार वृक्ष, और सीधा सनौबर इकट्ठे लगाऊंगा; 
Isaiah 41:20 जिस से लोग देखकर जान लें, और सोचकर पूरी रीति से समझ लें कि यह यहोवा के हाथ का किया हुआ और इस्राएल के पवित्र का सृजा हुआ है।

एक साल में बाइबल: 
  • 1 इतिहास 22-24
  • यूहन्ना 8:28-59